शादी.कॉम-10

Advertisements

……..

   युवराज के सकुशल घर वापसी से घर पे फिर एक बार उत्सव सा माहौल बन गया।।वैसे भी शादी ब्याह का घर त्योहारों का घर लगता है,,पन्द्रह दिन बाद होने वाली सगाई की तैय्यारियों में पूरा अवस्थी परिवार डूब गया,माहौल बिल्कुल दशहरा दिवाली जैसा हो गया।।
        हर कोई किसी ना किसी काम मे व्यस्त था,प्रेम प्रिंस जैसे लोग  सिर्फ व्यस्तता का दिखावा भी कर रहे थे।।घर की औरतें रोज किसी ना किसी वस्तु को खरीदने बाज़ार जा रही थी,फिर भी ज़रूरी सामान की सूची में कोई ना कोई कमी रह ही जाती थी।।।सगाई के तुरंत बाद ही वर को तिलक चढाना था ,उसकी भी तैय्यारियाँ साथ ही चल रही थी, कहीं नारियल पे सोने का पत्तर चढ़ाया जा रहा था कही,छोटी छोटी सोने और चांदी की सुपारियां बनवाई जा रही थी,,चांदी के पान के पत्तों पर अवस्थी सरनेम उकेरा जा रहा था।।
       राधेश्याम अपने छोटे भाई के साथ बैठे 500,100और 50के अलग अलग लिफाफे तैयार करा रहे थे,अरे भैय्या सभी को समधि के बराबर का लिफाफा थोड़े ही पकड़ा देंगे।।
    
           उनकी श्रीमती जी के तो काम की फेहरिस्त कम ही नही पड़ रही थी,,बेचारी रसोइये को देने के लिये रसद निकालने भण्डार में जाती ,और वहाँ फैले आलू प्याज को देख उन्हे याद आ जाता कि आलू तो अभी और दस बारह किलो मंगाने पड़ेंगे,मिज़ाज़ ये हो गया था कि बेचारी एक काम हाथ मे लेती उसे पूरा किये बिना ही दूसरे में भिड़ जाती,,आखिर घर भर की इकलौती बिटिया की सगाई थी,, अच्छा हुआ समय रहते ही उन्होनें बडियां तोड़ ली थी ,और पापड़ अचार बना कर रख छोड़े थे,क्योंकि जैसे समधि हडबडी मचा रहे थे,उससे उन्हें लग रहा था कहीं तिलक के दिन ही शादी की तारीख भी ना निकाल दें।।
     
      रूपा को जितना काम करना आता था,उससे अधिक दिखाना आता था,,वो किसी भी बड़े बुज़ुर्ग के आते ही अपने पल्लू को कमर पे कस कर इधर से उधर दौड़ चुटकियों में ऐसा माहौल बना जाती जैसे अब तक वही काम में जुटी थी।।रसोइये की तरफ वैसे तो उसका ध्यान ना रहता पर जब देखती सास आस पास से गुज़र रही तो हाथ हिला हिला कर उसे उपदेश देना शुरु कर देती “क्यों जी महाराज किलो भर घी का तो आपने मोमन ही डाल दिया,,अब आपकी कचौड़ियां खस्ता होंगी कद्दू,,ज़रा और मैदा गून्थिये,हमारी मम्मी हमको सिखाई थी कि मोमन इतना पड़े जे हाथ से लड्डू बंध जाये,,पर आपका तो यहाँ मैदा कम घी घी बस हुआ पड़ा है,,और बालूशाही के लिये मैदा अलग गुन्थीयो उसके लिये हम दही भिजा देंगे,,और एक बात सुन लो बूंदी मोटी ना छान देना,,कोई नही खाता यहाँ सब को मोतीचूर ही भावे है।।”
     कनखियों से जब देख लेती की सासु जी निकल गई हैं तो वापस अपने साज शृँगार में लग जाती, सगाई से ठीक 2दिन पहले उसकी फुलझडी सी बहन भी आने वाली थी,इसिलिए रूपा का उत्साह अपने चरम पे था।।

    पुरूष बाहर के कामों में व्यस्त थे,,इस सब के बीच बांसुरी की तरकीब के अनुसार रतन को युवराज भैय्या के साथ कर दिया गया था।।
   युवराज जिस किसी काम से बाहर जाता ,रतन को भी साथ ले जाता।।स्वभाव से अन्तर्मुखी रतन अधिकतर चुप ही रहता,जहां आवश्यकता हो वहाँ कम बोलता और जहां आवश्यकता ना हो बिल्कुल ही नही बोलता,,पर हाँ जब बोलता तो अपनी बुद्धिदीप्त बातों से युवराज को प्रभावित कर जाता।।
     रतन असल मे बुद्धिमान था उसके स्वभाव में छल कपट जैसी बातों का सर्वथा अभाव था,सब कुछ जानते हुए भी उसने एक बार भी युवराज को जान बूझ कर प्रभावित करने का कोई प्रयास नही किया,,,लेकिन सरस्वती के भक्त बुद्धि के अनन्य उपासक युवराज ने असली हीरा पहचान ही लिया।।

Advertisements

   एक एक कर दिन बीतते गये, सगाई के ठीक 2दिन पहले युवराज राजा और रतन अँगूठी खरीदने गये,,दुकान पर बैठे तीनो अलग अलग तरह की अँगूठीयाँ देख रहे थे तभी युवराज ने कहा__
“मैं सोचता हूँ हीरे की अँगूठी लेना सही रहेगा,, आजकल तो हीरे का ही चलन है,लोग पसंद भी करते हैं,क्यों राजा ठीक है।।

  “बिल्कुल सही बात भैय्या ,,आपको जो सही लगे,हमरा तो ई सबमें दिमाग कम चलता है।।”

   “दिमाग तो चलता है भाई,तुम चलाना नही चाहते हो,,बस अपनी पहलवानी मे खुश रहते हो,,बात ये है।।।पर हम ये भी सोच रहे कि कहीं लड़का और उसके घर वालों को पसंद नही आयी तो।।”

  राजा ने पूछा”काहे पसंद नही आयेगी भैय्या,आखिर आप पसंद किये हैं,,पसंद तो आबे पड़ी ।”

  “अरे मेरे छोटे !!! तुम हमे इतना मानते हो कि हम जो कह दे तुम्हारे लिये पत्थर की लकीर है,पर वो लोग हमारे होने वाले समधि हैं,बेटा हो सकता है उनको हीरा ना पसंद आये,हो सकता है वो लोग ये सोचे कि सोने के जितनी हीरे की रीसेल वैल्यू नही है।।मतलब दुबारा बेचने पर कम कीमत मिलेगी, क्यों रतन सही कहा ना हमने।।”

  “भैय्या अगर लड़का और उसके घर वाले सगाई की अँगूठी का मोल देखने लगे और ये देखने लगे की उसकी रीसेल वैल्यू क्या है,तो फिर ऐसे लोगों को देने के पहले आपको कुछ भी सोचने की क्या ज़रूरत,????,मेरे खयाल से कुछ चीज़ों की कीमत नही आंकी जा सकती है,,वो कोई मूर्ख ही होगा जो अपनी सगाई की अँगूठी को बेचेगा ,तो रीसेल का सवाल ही नही उठता,वैसे मेरा भी इन सब बातों में दिमाग कम चलता है,,जैसा आपको सही लगे ,वही कीजिए।।”

  “लाख रुपये की बात कही मित्र,,बस यही सोच होनी चाहिये,,अच्छा ज़रा इसे पहन के देखो,,क्योंकि लड़का तुम्हारे डील डौल का ही है,,अगर तुम्हे सही आई अँगूठी तो उसे भी आ ही जायेगी।।”
    ऐसा कह कर युवराज ने अँगूठी रतन को पहना दी ,अँगूठी बिल्कुल सही नाप की आई,,रतन और राजा को वहीं छोड़ युवराज लेड़ीस काऊंटर की ओर चला गया।।

   सारा सामान लिये तीनो घर निकल गये,,घर की औरतों के लिये भी कुछ नये गहने युवराज ने ले लिये थे,पिंकी के लिये कुछ लेना हो तो रूपा के लिये उससे डबल नही भी लिया तो उतना तो लेना ज़रूरी ही था,वर्ना वो एक अलग बवाल मचा देती।।

    सगाई के एक दिन पहले शाम के समय अवस्थी जी सारी तैय्यारियों का जायजा ले रहे थे।।
    पूरे घर को गेंदें की फूल मालाओं से सजा दिया गया था,,छत पर  और बाहर बगीचे में चमकीला शामियाना  टांग दिया गया था,,बिजली के छोटे छोटे लट्टू और रंगीन रोशनियों से घर जगमगा गया था, सब तरफ लोंगो की आवाजाही थी,,मेहमानों से घर पटा पड़ा था,मऊ वाली बुआ जी सपरिवार पधार चुकी थी,,खंडवा वाले मामाजी रात तक पहुंचने वाले थे,,किसी की खातिर में कोई कमी ना रह जाये यही विचार करते राधेश्याम ऊपर नीचे सब जगह का जायजा ले रहे थे,,तभी प्रेम वहाँ से जल्दी जल्दी बाहर की ओर जाता दिखा ,जिसे रोक के उन्होनें एक नये काम का ऑर्डर थमा दिया ,,बेचारा अंकल जी की बात मान उनका काम करने निकल चला,,काम निपटा के वापसी में उसे दो घन्टे से अधिक हो गया,,तभी उसका फ़ोन बजा__

Advertisements

“कहाँ??”भैय्या जी के इस सवाल पर प्रेम हडबडाते हुए बोला “बस भैय्या जी निकल रहे।”

“अबे ऊ जब पत्ता गोदाम से निकल घर पहुंच जायेगा तब जायोगे उठाने ,याद तो है ना का करना है।।”

“हाँ भैय्या जी !! हम बस प्रिंस को लिये निकल ही रहे,,आप निश्चिंत रहे,आज कोनो गड़बड़ नही होने देंगे।।”

प्रेम का आज एक बार फिर उस दिन जैसे ही जी घबड़ाने लगा,फिर प्रिंस के समझाईश से और थम्स अप पी कर उसको थोड़ा राहत हुआ और वो अपनी हीरो हौंडा में प्रिंस को बैठाए बीड़ी पत्ता गोदाम की ओर निकल लिया।।

  इधर रतन और युवराज कुछ विशेष तैय्यारियाँ करने के बाद युवराज के कमरे में बैठे चाय पी रहे थे।।
     रतन को जाने क्यों इस तरह छल कपट से पिंकी का हाथ पाना शुरु से ही रूच नही रहा था,पर सहज में ही किसी की अवज्ञा करने का स्वभाव ना होने के कारण वो इतने दिनो तटस्थ बना रहा,पर आज जब इस सारे नाटक का अन्तिम सीन फिल्माया जाना था,अपनी पूरी ताकत और हिम्मत सहेज के उसने युवराज के सामने अपना मन खोल कर रख दिया, शुरु से लेकर अंत तक का सारा किस्सा उसने युवराज को कह सुनाया,इसी सब में अपनी जाति और कुल को भी बताना वो नही भूला,सारी बातें बताते अंत मे उसकी आंखों में अपने होने वाले अपमान और पिंकी का हाथ ना मिल पाने की असमर्थता से आंसू छलक आये,जिन्हें उसने युवराज से छिपाकर पोंछ लिया लेकिन इतना छिपाने पर भी युवराज ने वो देख लिया जो उससे छिपाने की कोशिश की गई थी,,रतन सब बता चुका तब धीरे से उठ के वहाँ से जाने को हुआ,पर तभी युवराज की कड़कती आवाज़ उसके कानों में पड़ी ।।
 
“ये अच्छा न्याय है आपका कलेक्टर महोदय!!!खुद गलती की ,गलती मान भी ली और बिना सज़ा सुने ही चल दिये ।।”

“अरे नही भैय्या ऐसी कोई बात नही,,आप जो सज़ा देंगे मंजूर है।।”

राजा भैय्या इन सब बातों से अंजान कुछ गुनगुनाते हुए वहाँ पहुँचे और रतन को कंधो से पकड़ कर झिंझोड दिया”का हो कलेक्टर साहब आज बड़े चिंतित नज़र आ रहे,,का बात है।”

युवराज राजा को गहरी नजरों से घूर रहा था इस बात पे राजा का कोई ध्यान नही गया,उसका पूरा ध्यान अपने फ़ोन पे था,,क्योंकि जैसे ही प्रिंस और प्रेम का फ़ोन आयेगा कि लड़के को उठा लिया गया है,वैसे ही राजा को घर से निकलना था,पर तय समय से लगभग बीस मिनट ऊपर हो चुका था और प्रेम का कोई फ़ोन नही आया था,,आखिर थक हार के राजा ने खुद ही फ़ोन लगाने की सोची__

“का हुआ राजा?? किसी के फ़ोन का इन्तजार कर रहे हो ,लगता है।।”

“नही भैय्या,ऐसा तो कोई बात नही।।”

“तो फ़ोन को काहे घूर रहे बार बार,,,दीपिका पादुकोण का स्क्रीन सेवर रखे हो का।”युवराज के ऐसा कहते ही लजा के राजा ने फ़ोन नीचे रख दिया तभी राजा का फ़ोन बज उठा__

“हाँ बोलो” राजा के फ़ोन उठाने से पहले युवराज ने फ़ोन लपक लिया

“भैय्या जी ऊ लफंडर तो वहाँ मिला नही,अब का करे,कहाँ जाये उसे उठाने।।”

“कौन नही मिला बे ??”युवराज की ललकार सुन के प्रेम घबरा गया और फ़ोन प्रिंस को पकड़ा दिया ,,प्रिंस ने सोचा प्रेम राजा भैय्या से डर गया,उसने सोचा कौन सा इतने दूर से चपत लगा पायेंगे तो बिना डरे सविस्तार सारा प्रकरण कह सुनाया__”भैय्या जी हम लोग टाईम से पहुंच गये थे पर ऊ ससुर हमरे पहुँचने के पहले ही खिसक लिया ,,अब का करे भैय्या जी,,जैसन आपकी आज्ञा हो।।”

“दोनो के दोनो इसी वक्त घर आ जाओ,हम दंडा लेकर तैय्यार खड़े हैं तुम दोनो की पूजा करने।” फ़ोन काट कर युवराज राजा की तरफ मुखातिब हुआ।।

“ये का बचपना लगा रखे हो राजा?? तुमको का लगता है,ये सब कर के कोई फायदा होना है, और तुम्हारे वो जाहिल पण्टर किसी काम के हैं भी,अरे इतना सब नाटक करने की जगह एक बार हम से कहना तो था,,अब जब दोनों परिवार का सब ठीक ठाक हो गया तब तुम लोगों ने ये पर्पंच लगा दिया, अब जो होगा कल देखा जायेगा,अभी तुम जाओ रतन को उसके घर छोड़ आओ,,पर रतन कल बिना भूले सबेरे से चले आना,रातों रात कहीं भागने की जुर्रत की तो फेर हम दिखा देंगे की इस शहर का असल कलेक्टर कौन है।।”

राजा को अचानक से इतनी जटिल बात पल्ले नही पड़ी,उसे तब तक पता भी नही था कि रतन सब कुछ भईया को बता चुका है,,वो चुपचाप सर झुकाये रतन के साथ बाहर निकल गया।।

Advertisements

  वो रात सभी की आंखों ही आंखों में कट गई,राधेश्याम जी और उनकी धर्मपत्नी को अति उत्साह के कारण नींद नही थी,तो वही राजा और बांसुरी को प्लान फेल होने के कारण,,दुसरी तरफ पिंकी और रतन ने अपने दुर्भाग्यपूर्ण भविश्य के खाके को सोच सोच कर अपनी नींद को अपना दुश्मन बना लिया था,,,घर भर में कोई था जो चैन से सो रहा था ,तो वो था युवराज हालांकी रूपा अपनी बहन के ना आ पाने के कारण जली कटी काफी देर तक जागती रही पर जागरण के कारण सुबह चेहरे पर दिखने वाले आलस्य को दूर भगाने वो सो गई ।।

        ****************************
  
      सुबह से तो किसी को सांस लेने की भी फुरसत नही थी ,पन्द्रह दिन की तैयारियों के परीक्षाफल का समय था,लड़के वाले सगाई के लिये ठीक 11बजे घर आने वाले थे,,सगाई का कार्यक्रम समाप्त होने के बाद भोजन था और उसके बाद वर पक्ष की विदाई……उसके बाद शाम को वधु पक्ष को तिलक चढ़ाने जाना था शाम लगभग आठ बजे।।
   पूरे दिन का कार्यक्रम पूर्वनियोजित था,इसमे किसी प्रकार की कोई शंका शुबहा नही था।।

सब यंत्रवत अपने अपने कार्य में जुटे थे कि राधेश्याम जी का फ़ोन घनघना उठा__

“जी नमस्कार!! हाँ हाँ!! जी सब तैयार है,बस आप लोगों की प्रतीक्षा है,,क्या ??? ऐसा कैसे हो सकता है?? नही नही आप …..अभी राधेश्याम अपनी बात पूरी भी नही कर पाये कि दुसरी तरफ से फ़ोन कट गया।।
     राधेश्याम अपना सर पकड़ कर वहीं सोफे पर निढ़ाल हो गये,युवराज और राजा दौडे चले आये ,,तुरंत पानी मँगा कर उन्हें पिलाया गया,, श्रीमती जी ने पूछा __”किसका फ़ोन था ,क्या हो गया,,सब ठीक तो है ना??”

“लड़के वाले अभी नही आ पायेंगे,उन्हें कुछ आवश्यक काम आ पड़ा है,,इसीसे सगाई टालने की बात कह रहे हैं ।।”

जितने धीमे शब्दों में राधेश्याम जी ने कहा,उतने ही तेज़ आवाज़ में एक ज़ोर की हाय बोल कर श्रीमती जी भी दूसरे सोफे पर निढ़ाल हो गई ।।

  राजा गहन आश्चर्य से अपने पिता को देखने लगा

“क्या कहा बाऊजी,ऊ लोग सगाई तोड़ रहे।”

“पगला गये हो का राजा?? सगाई तोड़ नही रहे ,बाद में करने बोल रहे,,पर हम ई सोच रहे कि अब सब नातेदारों को का मुहँ दिखाएँगे ,सब तो सगाईये के नाम पे इकट्ठा हुए हैं,,हे भगवान का परीक्षा ले रहे हो हमारी।।”

“बाऊजी हम कुछ कहना चाहतें हैं आपसे।”युवराज ने इशारे से सब को बाहर जाने कहा और कमरे के किवाड़ बन्द कर दिये।।

कमरे के भीतर युवराज अपने पिता और चाचा से कुछ गहरी परिचर्चा में लग गया।।

इधर पूरे घर में सन्नाटा छाया था,,सुबह से शुभ अवसरों पर जो एक मीठी तान सी गूंजती है,बिना किसी शहनाई के भी ,वो अचानक एक नीरव स्तब्धता में बदल गई ।।घर में कुहासा छा गया,,अब तक घर का हर एक सदस्य एक विशिष्टता अनुभव करता अपने अलग अलग नखरों में डूबा था,चाहे वो घर की बहू हो चाहे रसोईया अब सभी एक गूढ़ मण्डप में छिपे छिपे से फिर रहे थे,सभी कछुए से अपने अपने खोल में दुबक गये थे ,,इतनी तैयारी इतनी रंगीनियाँ इतने मेहमान ,सब का क्या किया जाये,,कैसी शर्मनाक स्थिति से अवगत होना पड़ रहा था।।हर किसी के मन मे अलग अलग सवाल दौड़ रहे थे।।इस परिस्थिति से दो चार होने के बाद राजा को परिस्थिति की विकटता का एहसास हुआ था,,अब जाकर उसे असल में समझ में आया था कि किसी मंगल उत्सव का होते होते रुक जाना कैसा दुखद और कैसा मार्मिक होता है,,अब उसे उस परिवार और लड़के पे क्रोध आ रहा था।।
    उसने अपने दिमाग पर एक बार भी ज़ोर डाल कर ये सोचने का कष्ट नही उठाया कि अन्दर बडे भैय्या किस जोड़ घटाव में लगे हैं।।

Advertisements

   अन्दर युवराज अपने पिता से जो भी आग्रह या परामर्श में लगा हो पर बाहर राजा प्रेम और प्रिंस की खबर ले रहा था कि __”जब तुम दोनो नहीं उठाये तो फिर लड़का वाले अचानक सगाई को टाले कैसे बे!!!! हमको लड़का वालोँ पर गुस्सा आ रहा है,ई का बात हुआ ,का हमरा कोनो इज्जत नही है,,ऐसन अपन मर्ज़ी से जब मन किया रिस्ता जोड़ दिया जब मन किया तोड़ दिया,,,चलो गुरू ज़रा खबर लेकर आये कि आखिर माजरा क्या है।।”

  राजा अपने चेलों को लेकर निकलने ही वाला था कि दरवाजा खोल कर युवराज बाहर निकल आया

“राजा रुको!!! किसी को कहीं जाने की ज़रूरत नही है,,पिंकी का सगाई आज ,अभी के मुहूर्त में ही होगा ,,वो भी रतन से।।रतन तुम से बिना पुछे हम ये तय कर दिये,,अगर तुम्हें कोई आपत्ति हो तो अभी बता दो।”

रतन की आंखों में आंसू छलक आये ,वो आगे बढ़ कर युवराज के पैर छूने झुका कि उसे युवराज ने अपने गले से लगा लिया,और राजा की तरफ घूम कर कहा__”राजा तुम फौरन गाड़ी निकालो और रतन के घर वालों को लेकर आ जाओ,रतन घर पर बोल दो किसी तरह की तैयारी की उन्हे ज़रूरत नही ,बस फौरन चले आयें,हमनें उसी दिन तुम्हरी तरफ से भी पिंकी के लिये अँगूठी खरीद ली थी।।।”

घर पे फिर एक बार अनदेखी शहनाई की मीठी करुण स्वर लहरी गूँज उठी,,घर की औरतों ने ज़रा ना नुकुर करना चाहा पर राधेश्याम जी के अटल आदेश पर सभी झट तैयार हो गये।।

  सगाई का कार्यक्रम शुरु हो गया,,पिंकी और रतन प्रसन्न मन प्रसन्न तन एक दूसरे को अपनाने की प्रक्रिया में आगे बढ़े,दोनो ने एक दूसरे को अँगूठी पहना दी।।

  सभी प्रसन्न थे बस एक तरफ राजा ज़रा गुस्से में खड़ा था तभी युवराज आकर उसके पास खड़ा हो गया।।

“का बात है आज तो भीम बड़ा गुस्से में नज़र आ रहा,अरे जो तुम सब चाहते थे वही तो हुआ,अब काहे मुहँ फुलाए खड़े हो।।”

“कुछ नही भैय्या,लड़के वाले अपना मर्ज़ी से सगाई से मुहँ फेर लिये इसिलिए थोड़ा दिमाग खराब है, बाकी तो सब ठीके हुआ।।”

Advertisements

“अरे दिमाग है भी तुम्हारा?? अब सुनो हमारा बात।
हम जिस दिन पहली बार रतन से मिले उसी दिन हमे लड़का पसंद आ गया था,,हम उसी समय वो पप्पु के बारे में भी पता करा रहे थे,हमारे गुप्तचरों ने उसका अच्छा रीपोर्ट नही दिया था,हमें पता चल गया था कि लड़का खाता पीता सब है।।
   जिस दिन तुम्हारे ये दोनों घोन्चू हमारे ऊपर हमला किये थे उसी दिन हम ये दोनो को पहचान लिये थे,,बेटा !!! बड़े भाई हैं तुम्हारे,हम धीरे से गौर किये तो हमे समझ आने लगा कि गुरू तुम रतन के लिये फील्डिंग कर रहे हो।।
   बस हम भी मजे ले रहे थे,,पर एक बात थी रतन वाकई खरा सोना निकला ,हमसे झूठ नही बोल पाया और आखिर सब कुछ हमे सच सच बता दिया और बस हमारा दिल जीत लिया।।
   जिस दिन तुम्हारे ये पण्टर दूल्हे को अगवा करने गये उसके पहले ही उसको हमारे अनुचर लेकर निकल गये,,दूल्हा एक नम्बर का बेवडा था,बस उसे इतनी पिलाई की वो दूसरे दिन सुबह 11तक सोता ही रहा,उसकी हालत सगाई के लिये अवस्थियों के घर आने की थी ही नही,बस शर्मिंदगी से उसके बाप ने बाऊजी को तिथी टालने का फ़ोन घुमा दिया।।
    मौके का फायदा उठा कर हमने बाऊजी और चाचा को रतन के उजले पक्ष से परिचित करा दिया,हालांकी जात पात तो उनके अन्दर इतना घुसी है कि उसकी जड़ें खोदना मुश्किल था पर चाचा ने हमें उबार लिया,,सबसे पहले चाचा ही तैयार हुए अपनी पिंकी के आई ए एस दूल्हे के लिये।।
    फिर चाचा और हमने बाऊजी को हाथ पैर जोड़ कर मना ही लिया,बस एक छोटी सी शर्त बाऊ जी ने तब भी रख दी कि शादी के कार्ड मे रतन अपना सरनेम नही डालेगा,अभी तो हमनें हाँ कर दिया,,फिर देखते हैं क्योंकि अभी तो सगाई के बाद दोनो को ट्रेनिंग के लिये निकलना है,,बाद की बाद में देखेंगे।।

राजा की खुशी का ठिकाना नही रहा,पर वहीं उसे अपनी बेवकूफी पे झेंप भी लगी ,वो अपने बडे भाई के पैरों में झुक गया,युवराज ने उसे उठा कर अपने सीने से लगा लिया।।

Advertisements

   मनभावन समय में उचित मुहूर्त में सगाई हसीं खुशी के माहौल में संपन्न हो गई ।।।

क्रमशः

aparna..

लेखक: Aparna Mishra

दिल से लेखक हूँ... मेरे किस्सों में आप खुद को ढूंढ सकते हैं... 80aparna.mishra@gmail.com

3 विचार “शादी.कॉम-10” पर

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s