जीवनसाथी -120

Advertisements

   जीवनसाथी – 120

     चुनाव के नतीजे आने लग गए थे रुझानों से साफ जाहिर था कि राजा और उसकी टीम ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया था। राजा की जीत तो पहले ही 100% तय थी।
समर अपने ऑफिस में बैठा हुआ इन्हीं सब जोड़ घटाव को देख रहा था कि मंत्री जी का फोन आ गया।

   समर उनसे बात कर ही रहा था कि आदित्य भी ऑफिस में चला आया। इस सारी प्रक्रिया में आदित्य ने भी समर का पूरा पूरा सहयोग किया था। वह हर जगह राजा के छोटे भाई की हैसियत से उस का साथ निभाता जा रहा था।
   राजा को उसने एक पल को भी अकेला नहीं छोड़ा था। आज तक जहां समर और प्रेम राजा के दाएं और बाएं हाथ थे अब आदित्य भी उनकी टीम में शामिल हो गया था।
    अब धीरे-धीरे महल आदित्य को भी अपनाने लग गया था। युवराज भैया, रूपा, जया, जय, विराट यह सभी लोग जहां आदित्य को पूरी तरह दिल खोलकर अपना चुके थे, वही पिंकी आज भी आदित्य से कुछ हद तक नाराज ही लगा करती  थी।
     राजा के बेटे यश के कार्यक्रम में शामिल होने आई पिंकी को उसकी मां ने कुछ समय के लिए महल में ही रोक लिया था।
    पिंकी और उसके बेटे के रुकने से पिंकी की मां को भी सहारा हो जाता था। अपनी जेठानी की मौत के बाद से वह कुछ ज्यादा ही डूबा हुआ सा महसूस करने लगी थी। आदित्य के बारे में पता चलने के बाद उनकी जो थोड़ी बहुत बातचीत अपने पति से हुआ करती थी, वह भी पूरी तरह से बंद हो चुकी थी। बल्कि अभी पिछले कुछ समय से उन्होंने हरिद्वार जाकर रहने का मन बना लिया था लेकिन पिंकी और राजा ने उन्हें किसी तरह रोक लिया।

Advertisements

   आजकल उनकी तबीयत भी कुछ ऊपर नीचे ही रहा करती थी।
   उन्हीं के बारे में सोचते विचारते आदित्य समर के ऑफिस में प्रवेश कर गया। समर को चिंतित सा फोन में बात करता देख आदित्य भी उसके सामने बैठ गया।

“क्या हुआ समर कोई चिंता की बात है?”

“हां! ऐसा ही कुछ समझ लो।”

“हुआ क्या? चुनाव के नतीजे तो कल घोषित होने वाले हैं! और जहां तक मुझे लगता है राजा भैया और उनके सारे लोग जितने ही वाले हैं।”

“जितने ही वाले हैं कि बात नहीं आदित्य।। यह सभी लोग जीत चुके हैं।”

” ये तो बड़ी अच्छी बात है। फिर किस बात की चिंता में इतना विचार मगन बैठे हो।”

“इसी बात की चिंता है ! मैं नहीं चाहता था कि यह सारे लोग एक साथ जीते।”

“यह क्या कह रहे हो समर? होश में तो हो?”

“मेरा कहने का यह मतलब है, कि मैं नहीं चाहता था कि विराज भी जीते! लेकिन हुकुम का प्रभाव ही ऐसा है, कि उनके आस पास खड़ा हर व्यक्ति उनके प्रभाव के कारण हर जगह सफल हो ही जाता है।
   विराज अपने बलबूते तो कभी यह चुनाव नहीं जीत सकता था लेकिन लोगों ने  उसे हुकुम की टीम है यह मानकर विराज को भी जिता दिया और वह भी भारी बहुमत से।”

“मेरे ख्याल से तो यह खुश होने की बात है।”

“खुश होने की बात होती आदित्य अगर विराज हमारे सब के लिए लॉयल होता।”

“मतलब विराज आज हमारे लिए लॉयल नहीं है।”

“नहीं बिल्कुल भी नही। बात दरअसल यह है की हुकुम और उनके आदमी इतनी ज्यादा संख्या में नहीं थे कि सरकार बना सकें, लेकिन हुकुम और उनके सारे लोग अपने अपने जगह से चुनाव जीत चुके हैं। अब अगर हमें सरकार में शामिल होना है, तो हुकुम को अपने सारे जीते हुए विधायकों के साथ सरकार से हाथ मिलाना होगा यानी पक्ष या विपक्ष से हाथ मिलाना होगा।
   मैं खुद अब तक यही सोच रहा था की किसी एक पार्टी से तो हमें हाथ मिलाना ही पड़ेगा तो जिस पार्टी से हाथ मिला कर हमें अधिक लाभ हो उसी पार्टी से मैं चाहता था कि हुकुम हाथ मिला ले।
    मैं उस पार्टी के सामने यही शर्त रखने वाला था कि भले ही कम सदस्यों के कारण हुकुम अपनी सरकार नहीं बना सकते लेकिन जैसे चुनाव के नतीजे घोषित हुए हैं उससे यही साबित होता है कि जनता हुकुम को अपने मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती है तो हम हुकुम को मुख्यमंत्री के पद पर देखने की शर्त पर ही अपने सारे विधायक किसी भी एक पार्टी को देते। हम उसी पार्टी की तरफ जाते जो हुकुम को मुख्यमंत्री का पद देगी।”

“पर यह तो बहुत बड़ी शर्त हो जाती ।  इस बात के  लिए तो वो लोग शायद ही तैयार हों।”

“देखो हमेशा यह होता है, कि जीती हुई पार्टी ही सरकार बनाती है !अभी हुकुम की पार्टी के अलावा बाकी दोनों बड़ी पार्टीयों में बहुत ज्यादा संख्याओं का अंतर नहीं है हुकुम जिस पार्टी की तरफ जाएंगे वही पार्टी सरकार बनाएगी तो ऐसे में हुकुम का पद बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।
   वैसे मुख्यमंत्री पद तो जीतने वाली पार्टी से ही चुना जाता है और हमारे विधायक सिर्फ उनकी पार्टी की संख्या बढ़ाने वाले विधायक ही कहलाएंगे । लेकिन हमारे राजा साहब कोई ऐसे साधारण व्यक्ति तो है नहीं। और न ही वह कोई साधारण विधायक हैं।  उनके साथ जनता का बेशुमार प्यार है।
    बात ऐसी थी कि उनकी पार्टी नई पार्टी थी इसलिए उन्होंने कम जगह से लोगों को खड़ा किया। अगर बड़ी पार्टी के समान इतनी बड़ी संख्या में वो अपने लोगों को चुनाव लड़वा पाते और अपने लोगों को खड़े कर पाते तो बेशक भारी बहुमत के साथ हमारे हुकुम की निर्विवाद रूप से सरकार बनती और हमारे हुकुम बिना किसी शक शुबहें के मुख्यमंत्री होते।
       पार्टी और प्रत्याशी तो बहुत से खड़े हुए लेकिन अभी हमारे सामने जो दो मुख्य पार्टी खड़ी हैं उनमें से एक है राजदल  पार्टी और दूसरी है जन जागरण दल।
दोनों ही तरफ के नेताओं का लगातार मेरे पास फोन आ रहा है, कि मैं हुकुम की तरफ से सारे विधायकों को उनके सपोर्ट में भेज दूं। जिससे कि वह सरकार बना सके और मैंने अभी-अभी राजदल पार्टी से कह दिया है कि अगर वह हम से हाथ मिलाना चाहते हैं तो यह मेरी शर्त है कि हमारे राजा साहब ही मुख्यमंत्री बनेंगे।
    देखो जाहिर सी बात है कि जैसे ही हम किसी पार्टी से हाथ मिलाते हैं हम सारे मिलकर एक पार्टी बन जाएंगे और उस समय मुख्यमंत्री उस पूरी पार्टी में से किसी को भी चुना जा सकता है। इसलिए राजा साहब एक बार फिर निर्विवाद रूप से मुख्यमंत्री पद के दावेदार बन जाएंगे।”

Advertisements

“क्या यह सारी बातें राजा भैया जानते हैं।”

“अब तक तो नहीं जानते।”

“हां मुझे भी यही लगा था। क्योंकि मुझे नहीं लगता राजा भैया किसी दूसरी पार्टी से हाथ मिलाने के लिए तैयार होंगे। उन्हें मुख्यमंत्री बनने का कोई लालच नहीं है। वह तो विधायक बन कर भी अपने क्षेत्र की सेवा कर ही लेंगे। भगवान ने चाहा तो अगले चुनाव तक उनकी पार्टी इतनी सक्षम हो जाएगी कि वह अपने बलबूते पर बिना किसी से हाथ मिलाए मुख्यमंत्री पद के लिए दावेदारी कर सकते हैं।”

“तुम्हारी कहीं एक एक बात बिल्कुल सही है आदित्य। राजा साहब को जब मेरा यह प्लान पता चलेगा तो वह मुझ पर बहुत नाराज होंगे , लेकिन इसीलिए मैंने यह सोच रखा है कि यह सारी बातें उनसे युवराज भैया कहेंगे मैं नहीं। दूसरी बात राजनीति ऐसी काजल की कोठरी है जिसमें आप अंदर घुसकर बिल्कुल बेदाग बाहर नहीं आ सकते।
  राजा साहब फिर भी बेदाग हैं। उनके सारे दाग मैं अपने ऊपर लेने को तैयार हूं। लेकिन उनके राजनैतिक कैरियर के लिए फिलहाल किसी एक पार्टी से हाथ मिलाना बेहद जरूरी है।
   हां यह किया जा सकता है कि एक बार मुख्यमंत्री बनने के बाद राजा साहब अपने कार्यों से वैसे भी जनता का दिल इतना जीत ही लेंगे कि अगले 5 सालों में उनकी अपनी नई पार्टी बना कर वो अलग हो जाएं।”

“तुम्हें लगता है कि अगर राजा भैया एक बार किसी पार्टी से जुड़ गए तो कभी भी उस पार्टी को छोड़ेंगे?”

“नही छोड़ेंगे!,मैं जानता हूँ इस बात को। इसलिए ऐसी पार्टी से हुकुम को जुड़वाने की कोशिश में हूँ जो बाकी राजनैतिक पार्टियों से ठीक हो। बाकी तो हुकुम वो पारस हैं कि जिस पत्थर को छू ले वह सोना बन जाए! जाहिर है वो जिस पार्टी से जुड़ेंगे उस पार्टी को भी अपने मुताबिक बना ही लेंगे।”

“सही कह रहे हो समर! लेकिन अब भी मुझे इस बात पर यकीन करना मुश्किल लग रहा है कि राजा भैया अपनी पार्टी को किसी और पार्टी से मिला लेंगे।”

“कोशिश करने में क्या बुराई है आदित्य?”

“बिल्कुल कोशिश तो हम सब करेंगे ही। अभी यह बताओ कि मंत्री जी से बात करने के बाद तुम इतने चिंतित क्यों हो गए थे। और यह विराज की धोखा देने वाली क्या बात है?”

“मैं चाह रहा था कि राजा साहब राज दल पार्टी के साथ हाथ मिला लें। यह बात विराज को मालूम चल गई हैं। और अब वह जन जागरण दल से बातचीत करने में लगा हुआ है। तुम जानते ही हो कि राजा साहब के अलावा कुल 11 सीटों पर हमारे लोग खड़े हुए थे, यानी राजा साहब को मिलाकर हमारे पास कुल 12 विधायक हैं। इनमें से तीन लोग विराज के खास हैं। अगर विराज अपने उन तीन लोगों को लेकर जन जागरण दल की तरफ चला जाता है, तो हमारे विधायक कम हो जाएंगे और ऐसे में राज दल पार्टी के ऊपर प्रेशर बनाने में हमें समस्या खड़ी हो जाएगी।”

“यह तो बहुत बड़ी समस्या खड़ी कर दी विराज ने! अगर वह अपने तीन लोगों को साथ लेकर जाता है, इसका मतलब हमारी पार्टी से कुल चार लोग कम हो जाएंगे और सिर्फ आठ लोग ही बचेंगे राज दल पार्टी से जुड़ने के लिए।”

“बिल्कुल सही समझे आदित्य! अब अगर सिर्फ आठ लोगों के साथ हम हाथ मिलातें हैं तो मेरा गणित वापस गलत हो जाएगा और मैं दबाव बनाने में असमर्थ हो जाऊंगा।

“तो अब क्या सोचा है आगे?”

“सोचा तो यही है कि आज विराज के उन तीन लोगों से जाकर मीटिंग करता हूं। पहले तो रुपए पैसे देकर ही उन्हें अपनी तरफ मिलाने की कोशिश करूंगा और अगर नहीं तैयार होते हैं तो…”

” तो उस सूरत में क्या करोगे?”

समर ने अपनी जेब से गन निकल कर सामने टेबल पर रख दी।

“उस सूरत में बस एक ही उपाय बचेगा मेरे पास।”

“यह क्या समर तुम लोगों को जान से मारने की धमकी दोगे।”

“देना ही पड़ेगा आदित्य और कोई चारा भी नहीं है! राजनीति रुपया या खून मांगती ही है। मेरे पास और कोई उपाय नहीं है अगर विराज के वह तीन विधायक हमारी तरफ आ गए तो फिर विराज अकेला कुछ नहीं कर पाएगा। मन मार कर ही सही उसे हमारी तरफ आना ही पड़ेगा। “

“सही कह रहे हो। “

“कौन सही कह रहा है और क्या सही कह रहा है आदित्य?”

आदित्य और समर अपनी बातों में लगे थी कि राजा और युवराज भी उस कमरे में चले आए। राजा के इस सवाल पर आदित्य मुस्कुराकर समर की ओर देखने लगा।

“आपके अलावा और कौन हर वक्त सही हो सकता है हुकुम?”

“यह तो गलत बात है समर ! हमारे अलावा एक और इंसान है, जो हर वक्त सच्चाई और ईमानदारी पर अडिग खड़ा रहता है। और वह है हमारे बड़े भाई युवराज सा।”

“जी सही कहा हुकुम! इन की तो बात ही निराली !है आप लोगों के लिए चाय या कॉफी कुछ मंगवाया जाए।”

“हां मंगवा लो! उसके बाद जरा रियासत के दौरे पर जाना है। “
   राजा के ऐसा कहते ही समर ने बैल बजा कर बाहर खड़े सहायक को अंदर बुला कर कॉफी के लिए कह दिया।
    राजा इस वक्त रियासत के दौरे पर निकलने वाला है यह सुनकर समर के चेहरे पर मुस्कान खिल गई… क्योंकि उसे युवराज से बात करने के लिए वैसे भी एकांत चाहिए था।

   सबके साथ कॉफी पीने के बाद राजा प्रेम के साथ रियासत के दौरे पर निकल गया! उसने जाती बेला आदित्य से भी पूछा, आदित्य उनके साथ जाने को तैयार था, लेकिन निकलते वक्त अचानक उसका पैर हल्का सा मुड़ा और मोच खा गया। जिसके कारण वह वही बैठ गया। उसकी हालत देख राजा ने उसे आराम करने की सलाह दी और प्रेम के साथ बाहर निकल गया।
     समर युवराज से क्या बातें करना चाहता है यह आदित्य जान ही चुका था इसीलिए उन दोनों को कमरे में छोड़ वह भी बाहर निकल गया । समर ने उसके जाते ही अपने ऑफिस के बाहर खड़े सहायक से कह दिया कि किसी भी हाल में अगले दो घंटे तक वह उसे और युवराज को डिस्टर्ब ना करें।

    आदित्य अपने कमरे की तरफ जा रहा था कि उसे पिंकी की माँ के कमरे से कुछ अजीब सी आवाज़ें सुनाई पड़ीं।
  उसे एकाएक समझ नही आया कि हुआ क्या है?और ये आवाज़ कैसी आ रही है?
    उसे एकाएक अंदर जाने में भी संकोच सा लग रहा था। झिझकते हुए उसने दरवाज़े पर दस्तक दी लेकिन अंदर से कोई जवाब नही आया। उसने दो तीन बार दस्तक देने के बाद उसने आवाज़ लगा दी, लेकिन जब अंदर से कोई आवाज़ नही आई तब वो दरवाज़े को हल्का सा धक्का दिए भीतर चला गया।
    आश्चर्य की बात ये थी कि कमरे में अंदर कोई नही था,एक नौकर तक नही।
   आदित्य ने बाथरूम का दरवाजा खटकाना चाहा वो खुला हुआ ही था। उसने धीरे से झाँक कर देखा अंदर कोई नही था।
   उसे अब वो आवाज़ बड़ी करीब से सुनाई दे रही थी, जैसे कोई रोते हुए हिचकियाँ ले रहा हो। आवाज़ की दिशा में उसने आगे बढ़ना शुरू किया तो आवाज़ और साफ सुनाई पड़ने लगी।
    आवाज़ बालकनी की तरफ से आ रही थी।

   वो धीरे से बालकनी में पहुंच गया। उसने देखा बालकनी की एक तरफ बनी मेहराब पर जाने कैसे पिंकी का बेटा चढ़ गया था, और अब वहां की जालीदार लकड़ियों पर खुद को संभालने की कोशिश में सिसक रहा था।
   आदित्य ने उसे देखने के बाद एक बार नीचे झाँक कर देखा और उसका सिर घूम गया। कमरा तो पांचवी मंज़िल पर ही था लेकिन आदित्य को अलटोफोबिया था यानी उसे ऊंचाई से डर लगता था। डर भी कोई सामान्य डर नही बेहद घबराहट और रक्तचाप बढ़ा देने वाला डर।
     उसे इतनी ऊंचाई पर चक्कर से आने लगते थे। उसने अपनी आंखें एक पल को बंद की और एक गहरी सांस भरी।
   आंखें खोल कर वो बिना दुबारा नीचे देखे बच्चे की तरफ बढ़ने लगा बच्चा उसे देखकर घबराहट में कहीं अपना संतुलन ना बिगाड़ बैठे इसलिए आदित्य एकदम शांति से बिना कोई शोर किए उस कंगूरे तक पहुंच गया।  बहुत धीमे से उसने बिना आवाज किए पास रखे मोढ़े को कंगूरे तक रखा और उस  पर चढ़ गया।  धीरे से अपना एक पैर बालकनी के किनारे बनी रेलिंग पर रख वह उस रेलिंग पर कंगूरे को पकड़कर चड गया। अब उसका एक हाथ बच्चे तक आसानी से पहुंच पा रहा था। अपने दूसरे हाथ से कंगूरे को पकड़े हुए उसने एक हाथ से बच्चे को धीमे से अपनी गोद में उठाना चाहा। बच्चा आदित्य को देख कर और जोर से रोने लगा। आदित्य ने बहुत कोमलता से उसका जाली में फंसा पैर बाहर निकाला और एक हाथ से ही बच्चे को गोद में लेकर अपनी तरफ खींच लिया।  इस झटके में एक बार उसका खुद का संतुलन बहुत बुरी तरह से बिगड़ गया लेकिन उसने दूसरे हाथ से कंगूरे को इतनी जोर से थाम रखा था कि वह गिरने से बाल-बाल बच गया। अगर इस वक्त आदित्य वहां से गिरा होता तो वह पांचवीं मंजिल से सीधे महल की पथरीली जमीन पर गिरता।
भगवान का शुक्र मनाते आदित्य ने बच्चे को कस कर पकड़ा और वापस मोढ़े की सहायता से बालकनी में उतर गया।
   
     आदित्य जिस वक्त बालकनी में आया था उसी वक्त काकी साहब की सहायिका उस कक्ष में कुछ सामान रखने आई थी। उसने आदित्य को बालकनी की तरफ जाते देखा तो आदित्य को क्या चाहिए यह पूछने वह भी उसके पीछे-पीछे बालकनी तक चली आई और जैसे ही उसने बच्चे को कंगूरे पर लटके देखा वह तुरंत भाग कर बगल वाले कक्ष में बैठी पिंकी और काकी साहब को बताने चली गई थी।
   
आदित्य जैसे ही बच्चे को लेकर बालकनी के फर्श पर बैठा उतने में ही एक किनारे सांस रोके खड़ी पिंकी आदित्य तक चली आई और रोते-रोते उसने अपने बच्चे को आदित्य की गोद से ले लिया।
    पिंकी के पीछे काकी साहब भी आदित्य तक चली आई।  उसके बालों में हाथ फेर कर उन्होंने उसे आशीर्वाद दिया और उसके सामने अपने दोनों हाथ जोड़ दिये।
    वह उनके हाथ थाम कर सिर हिला कर उन्हें मना करने की कोशिश में था कि उसकी आंखें बंद हुई और वह बेहोश होकर वहीं गिर पड़ा।
     घबराई हुई पिंकी ने तुरंत पास खड़ी सहायिका से पानी का गिलास मंगवाया और उसे डॉक्टर को इत्तिला करने के लिए भेज दिया। काकी साहब ने आदित्य का सिर अपनी गोद पर रख लिया। आदित्य के माथे पर पसीने की बूंदें छलक आई थी । पिंकी ने ग्लास से पानी निकालकर आदित्य के चेहरे पर छींटना शुरू किया। कुछ देर में ही सहायिका ने दो और सहायकों को बुला लिया। जिन लोगों की सहायता से काकी साहेब ने आदित्य को अंदर कमरे में ले जाकर अपने पलंग पर लेटा दिया । कुछ देर में ही डॉक्टर साहब भी चले आए। आदित्य की जांच करने के बाद उन्होंने एक गोली उसकी जीभ के नीचे रख दी और काकी साहब और बाकी लोगों की तरफ मुड़ गए।
    पिंकी के पिता भी इतनी देर में आकर पीछे हाथ बांधे खड़े हो गए थे

Advertisements

“अरे ये तो दिल्ली वाले आदित्य सिंह है ना। मैं जानता हूँ इन्हें। मुझे लगता है शायद स्ट्रेस के कारण इनका बीपी बहुत ज्यादा बढ़ गया है। बीपी कम करने के लिए फिलहाल मैंने एक गोली इन्हें  खिला दी है। जैसे ही स्ट्रेस थोड़ा कम होता है इन्हें होश आ जाएगा। बेहोश हो जाने का फिलहाल यही एक कारण मुझे समझ में आ रहा है। मैं यह कुछ दवाइयां लिख कर दिए जा रहा हूं, इनके होश में आने के बाद आप इन्हें   खिला दीजिएगा और कल एक बार इन्हें मेरी क्लीनिक पर भेज दीजिएगा मैं एक बार फिर से सारी जांच कर लूंगा।”

पिंकी डॉक्टर साहब के सामने हाथ जोड़ें अनुनय करने लगी …-“डॉक्टर साहब कोई घबराने की बात तो नहीं है।”

“अरे नहीं बिल्कुल घबराने की बात नही है। असल में आदित्य जी अलटोफोबिक हैं। इन्हें ऊंचाई से डर लगता है, लेकिन जब इन्होंने बच्चे को कंगूरे पर फंसा देखा तो अपने डर को एक तरफ कर यह बच्चे को बचाने के लिए जुट गए और बस उसी सब में इन्होंने इतना ज्यादा स्ट्रेस ले लिया कि इनका बीपी एकदम से शूट कर गया। बच्चे को बचाने के बाद यह अपने उसी बढ़े हुए बीपी के कारण बेहोश होकर गिर गए। “

   डॉक्टर की बातें सुन पिंकी आश्चर्य से सामने लेटे आदित्य को देखने लगी। उसे यकीन नहीं आ रहा था कि जिस आदमी से वह सिर्फ इस वजह से नफरत किया करती थी कि वह उसके पिता की ही अवैध संतान है, वही लड़का अपनी जान की परवाह किए बिना अपने डर को एक तरफ रख उसके बच्चे को बचाने के लिए जी जान से जुट गया । अगर कहीं डर के कारण वह अपना संतुलन खो कर जमीन पर गिर जाता तो उसकी जान भी जा सकती थी। लेकिन उसके बेटे को बचाने के लिए आदित्य ने अपनी जान की भी परवाह नहीं की।
      और वह आदित्य की कोई गलती ना होने पर भी बिना वजह उसे सजा दिए जा रही थी। क्या आदित्य वाकई उसके भाई होने का हक नहीं रखता?
   क्या आदित्य महल का उत्तराधिकारी होने का हक नहीं रखता?
    और यह सब सोचने और तय करने वाली वह खुद होती कौन है? एक तरह से देखा जाए तो आदित्य उसके पिता की पहली पत्नी की संतान है इस हिसाब से वह अवैध कैसे हुआ?
   सिर्फ सोचने का ही तो फर्क है। आखिर उसके बड़े पिता साहेब ने भी दो-दो शादियां की। क्या राजा भैया और युवराज भाई साहब ने विराज और विराट को नहीं अपनाया?
   युवराज भाई साहब ने तो आज तक विराज विराट और राजा भैया में कोई अंतर ही नहीं किया और यही हाल राजा भैया का भी है। तो उन दोनों भाइयों के संरक्षण में पली वह खुद कैसे इतनी कठोर ह्रदय हो गई?
   पिंकी को अपने आप पर बहुत ज्यादा शर्मिंदगी महसूस होने लगी। उसकी आंखों से आंसुओं की धार बह चली! पिंकी की मां ने आकर उसे प्यार से अपनी बाहों में समेट लिया…-” मत रोइये बेबी! आपके भाई को कुछ नहीं होगा।”
अपनी मां के मुंह से आदित्य के लिए यह संबोधन सुन वह अपनी मां के गले से लग गई। मां और बेटी दोनों ही एक साथ जी भर कर रो लेना चाहती थी।  उन दोनों को रोते देख पिंकी के पिता भी उनके पास आकर बैठ गये। पिंकी की मां ने पिंकी को शांत करवाने के बाद उसके पिता के हाथों पर अपना हाथ रख दिया….-” आप चिंता मत करिए! आदित्य को कुछ नहीं होगा! हम हमारे बेटे को कुछ भी नहीं होने देंगे।”

    पिंकी के पिता की आंखों में खुशी की दो बूंदें छलक आई। कुछ देर में ही आदित्य को होश आ गया। उसने आंखें खोली, सामने पिंकी बैठी थी। पिंकी को देखते ही उसे उसके बच्चे का ध्यान आया और उसने तुरंत आसपास नजरें दौड़ानी शुरू की। तभी पिंकी की मां ने आगे बढ़कर आदित्य के सर पर हाथ रख दिया। उसके माथे पर हाथ फेरते हुए वह प्यार से कहने लगी…-“घबराइए मत आदित्य। आपका भांजा बिल्कुल सही सलामत है ।”
  पिंकी ने सहायिका की तरफ इशारा किया। सहायिका उसके बेटे को गोद में लिए उस तक चली आई । पिंकी ने अपने बेटे को अपनी गोद में बैठाया और आदित्य की तरह उसका चेहरा कर दिया…-” बेटा मामा जी को नमस्ते करो!”
    पिंकी के मुंह से अपने लिए ऐसा प्यार भरा संबोधन सुनकर आदित्य का भी दिल भर आया। धीरे से उठकर आदित्य तकिए का सहारा लिए पलंग पर टिक कर बैठ गया। उसके आसपास उसकी बहन पिंकी , उसकी माँ और उसके पिता खड़े थे। और इन सब के पीछे अदृश्य रूप से खड़े मुस्कुरा रहे  थे राजा अजातशत्रु सिंह!! जो आदित्य को उसका हक दिलवाने के लिए इस महल में लेकर आए थे। आज उनका वह सपना सही अर्थों में पूरा हो रहा था।
आदित्य के पिता ने सामने बढ़कर आदित्य को गले से लगा लिया…-” हमें  हमारी हर गलती के लिए माफ कर दो बेटा और पूरी तरह से वापस लौट आओ।”
  काकी साहब ने भी अपने पति की हां में हां मिलाई…-” आदित्य बेटा! आज तक हमें कभी बेटे की कमी महसूस नहीं हुई, क्योंकि पिंकी के साथ ही युवराज, कुमार,  विराज विराट सभी हमें भी छोटी मां का दर्जा ही देते आए हैं। लेकिन आज तुम्हें पाकर हमारा वह स्थान और थोड़ा ऊंचा हो गया है। तुम पिंकी के बड़े भाई थे, और सदा रहोगे। अब इस महल से वापस लौटने की कभी सोचना भी मत।”

  पिंकी का बेटा आदित्य की गोद में जाने के लिए  मचलने लगा। आदित्य ने प्यार से हाथ बढ़ाकर उसे गोद में ले लिया।

“आदित्य भैया संभल कर यह बहुत शैतान है! आपको परेशान कर देगा।”

पिंकी के मुंह से खुद के लिए भैया शब्द सुन आदित्य मुस्कुराने लगा बच्चे को गोद में लिए ही वो बाहर निकल गया।
   उसका दिल इस वक्त मिली खुशियों से ऐसा भर आया था कि कहीं उसकी आंखें छलक ना आए, इसी डर से वहां बैठे सब लोगों को छोड़ यह खुशखबरी फोन पर राजा अजातशत्रु को सुनाने ही वहां से बाहर निकल गया…..

Advertisements

क्रमशः

Advertisements

aparna …….


लेखक: Aparna Mishra

दिल से लेखक हूँ... मेरे किस्सों में आप खुद को ढूंढ सकते हैं... 80aparna.mishra@gmail.com

36 विचार “जीवनसाथी -120” पर

  1. आखिर पिंकी को एहसास हो ही गया कि आदित्य के प्रति वो बेफजूल में ही बैर पाले बैठी है। आदित्य को उसका परिवार मिल गया, इस बात की बहुत खुशी है।
    इस समर के दिमाग के तो क्या कहने, कितना दूर तक की सोचता है। पिया सही कहती है इसे ‘मंत्री जी’ 🤭😂

    विराज में आखिर खून तो ठाकूर साहब और रानी मां का ही है, उससे वफादारी की उम्मीद भी नहीं की जा सकती। विराज और विराट जुड़वा होने के बावजूद कितने अलग हैं।
    अर्पणा जी, एको बात मन में आई है कि बहुते दिन हो गये, ये हमारे प्रिंस बाबू का कछु पता नहीं चला कि कहां है, क्या कर रहें हैं, अभी भी जंग लगी दुनाली लूकर ही घूम रहें हैं क्या🤭🤭

    Liked by 1 व्यक्ति

  2. finally आदित्य को अपना भाई स्वीकार कर ही लिया पिंकी ने और आदित्य को अपना पूरा परिवार भी मिल गया।
    राजा जी को जीतना था और वो जीत गए मगर विराज ना कभी सुधरा था न सुधरे गा।
    very nice

    Copy paste 😀 😂 😂

    Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s