लफ़्ज़ों का खेल…..

दंसवी स्टेट बोर्ड का इम्तिहान 70 फीसदी नंबरों से पास करने वाला जब खुद को बाहुबली समझ कर गयरहवीं में अति आत्मविश्वास में मैथ्स ले लेता है …. और अर्धवार्षिक परीक्षा में जब हाथ में थमा पर्चा खुलता है और आंखों के सामने आता है इंटीग्रेशन डिफ्रेंशियेशन तब बालक की हालत ……

आंखों में हमने आपके सपने सजाएं है

ठहरे हुए पलों में ज़माने बिताए हैं……ऑब्वियस है पल ठहर ही जायेंगे जब कुछ लिखा न जाएगा…