समिधा – 47

Advertisements


   समिधा – 47

  
    उदयाचार्य के अपनी बात समाप्त करने के बाद सारे आचार्य सोच में थे सभी की निगाहें वरुण की ओर थीं कि आखिर वरुण के दिमाग में ऐसी कौन सी योजना है जिसके लिए वो इतने आत्मविश्वास से कह रहा है।
  उदयाचार्य ने उससे पूछा पर अपना विचार बताने के पहले वरुण भी कुछ जानना चाहता था।
  
  ” स्वामी जी अब तक आपने जो बताया उससे तो यही मालूम चला कि प्रबोधानन्द जी ने आश्रम के लिए बहुत कुछ किया है। पर मुझे ये समझ नही आ रहा कि इतना ज्ञानी अचानक ऐसे पतित कार्य में कैसे संलग्न हुआ? “

  ” यहाँ उपस्थित सभी के मन में यही बात है शायद। और इस के बारे में मैं कुछ भी नही जानता लेकिन यहाँ उपस्थित स्वस्तिकाचार्य इस बात पर रोशनी डाल सकतें हैं। स्वस्तिक क्या आप इस बारे में कुछ कहना चाहेंगे?”

   अब सभी स्वस्तिकाचार्य की तरफ देखने लगे। अपने गले को ज़रा साफ कर उन्होंने बोलना शुरू किया….

Advertisements

“मैं शुरू से प्रबोधानन्द के साथ नही था। मैं उसके काफी पहले ही यहाँ आचार्य पद पर आ चुका था। प्रबोधानन्द ने जब आचार्य का पद संभाला तब अमृतानंद स्वामी ने उसे मेरे साथ कर दिया और मुझसे कहा कि मैं उसे आचार्य पद की गरिमा और दीक्षा के बारे में अवगत करा दूं|  मैंने सोचा नया लड़का है इसे अभी बहुत ही चीजें सिखानी समझानी पड़ेगी। लेकिन वह मेरी सोच से बहुत आगे था। और वैसे देखा जाए तो सही अर्थों में वाकई वह बहुत तीव्र बुद्धि का स्वामी था। हम जब तक किसी समस्या के लिए सोचना शुरू कर पाते, उसके पहले ही वह समाधान प्रस्तुत कर दिया करता था। अब ऐसे व्यक्ति को मैं क्या और कैसे सिखा पाता ? इस चीज को मैं भी समझता था और इसलिए मैंने उसे कुछ भी समझाने की जगह उसकी तरफ दोस्ती का ही हाथ बढ़ाया और उसने भी बहुत प्रेम से वो हाथ थाम लिया। उसने बहुत कुशलता से आश्रम की जिम्मेदारी उठानी शुरू कर दी थी। आश्रम में एक नियम था कि हर एक काम के लिए एक व्यक्ति और एक व्यक्ति के लिए एक काम । लेकिन उसने आश्रम के लगभग हर एक काम को पूरी जिम्मेदारी से अपनी निगरानी में करवाना शुरू कर दिया। हर बात के लिए वह आदेश पारित करता और उसके व्यक्तित्व का प्रभाव ऐसा था कि हर कोई उसके सामने नतमस्तक हो उसका आदेश मानने को बाध्य हो जाया करता था। शायद किसी किसी को भगवान अंदर से ही सम्राट बनाकर पैदा करते हैं। प्रबोधानन्द उन्हीं में से एक था, लेकिन कहते हैं ना कि एक सम्राट में जहां लोगों का नेतृत्व करने की क्षमता होती है, निर्णय लेने की क्षमता होती है, सभी में अनुशासन बनाए रखने की क्षमता होती है, वहीं इतनी सारी अच्छाइयों के बावजूद एक सम्राट के अंदर हमेशा अपने आधिपत्य को लेकर एक गर्व की भावना, अभिमान की भावना जरूर रहती है। और उस अभिमान से प्रबोधानन्द भी अछूता नहीं रह सका।

    शुरुआत में जितने प्रेम और प्यार से वह सभी स्वामी गुरु आदि का आदर किया करता था। धीरे-धीरे उसकी आंखों से वह प्यार और सम्मान घटने लग गया। एक समय ऐसा आया कि उसे अपने प्रभुत्व अपने बल पर अपनी बुद्धि और विवेक पर इतना अभिमान हो गया कि, वह अपने साथ के आचार्यों पर भी कड़े शब्दों का प्रयोग करने लगा।
    पहले तो हम सभी ने यह प्रयास किया कि हम प्रबोधनंद की बातों पर ध्यान ही ना दें लेकिन धीरे-धीरे यह समस्या बढ़ने लगी। अब ऐसा हुआ कि जिस आश्रम में वह रहा करता वहां हर एक चीज उसकी पसंद की होने लगी। हर एक कार्य के लिए चाहे कोई भी स्वामी या आचार्य निर्धारित हो, पर उस कार्य को कैसे करना है और कैसे नहीं का निर्णय प्रबोधनंद स्वविवेक से लेने लगा। उसने अब किसी भी कार्य के लिए किसी अन्य से पूछने की आवश्यकता ही समझनी छोड़ दी। एक बार हम सब ने मिलकर सोचा भी की अमृतआनंद स्वामी से इस बारे में बात करनी चाहिए , लेकिन हम सब यह भी जानते थे कि  प्रबोधानन्द अमृतआनंद स्वामी का सर्वाधिक प्रिय शिष्य है, और उनकी आंखों पर उस समय प्रबोधनंद के स्नेह का चश्मा चढ़ा हुआ था। वह इस कदर उससे प्रभावित थे, कि उन्होंने मन ही मन शायद यह तय कर लिया था, कि वह अपनी गद्दी अपने बाद प्रबोधनंद को ही देंगे।
     अमृतआनंद स्वामी की वृद्धावस्था और उनका प्रबोधानन्द पर अटूट विश्वास देखकर हम में से किसी का भी मन नहीं हुआ, कि हम स्वामी जी से प्रबोधानन्द की शिकायत करें। हम मन मार कर रह गये, लेकिन यहीं पर हमने गलती कर दी। अगर कोई विषबेल आपके आंगन में फलने फूलने लगे तो उसे शुरुआत में ही काट कर फेंक देना चाहिए, वरना वह बढ़ते बढ़ते अमरबेल का रूप धर लेती है। और उसके बाद वह उस उद्यान में उपस्थित हर एक वनस्पति को लील जाती है यही हमारे साथ भी हुआ।
    इसके बाद एक बार मैंने गुपचुप तरीके से आश्रम ट्रस्ट में प्रबोधानन्द के खिलाफ शिकायत दर्ज की उसका परिणाम यह हुआ कि, ट्रस्ट ने मुझे ही उस आश्रम से हटाकर दूसरे आश्रम में पदस्थ कर दिया। मैं समझ गया कि प्रबोधनंद की पहुंच अब बहुत ऊंची हो चुकी थी और वह हमारी तरह एक सामान्य आचार्य बस नहीं रह गया था। उसने जितना कार्य हम सबके सामने आश्रम के लिए किया था अंदर ही अंदर उसने ट्रस्ट के लोगों के साथ भी अपने संबंध उतने ही प्रगाढ़ कर लिए थे।
      उम्र तो उसकी भी ऐसी कोई ज्यादा थी नहीं। और जैसे उसकी उम्र थी उस उम्र में सामान्य कामनाएं जागना स्वाभाविक ही था। और इसीलिए आश्रम किसी भी गुरु स्वामी आचार्य से उनकी इच्छा के विरुद्ध जाकर ब्रह्मचर्य का पालन नहीं करवाता। आश्रम में आज भी सुविधा है कि अगर कोई आचार्य चाहें तो अपने पद से त्याग पत्र देकर विवाह करके गृहस्थाश्रम व्यतीत कर सकते हैं… और जब चाहे तब विवाह की जिम्मेदारियों को निपटाने के बाद अपनी आयु पूरी करने के बाद वानप्रस्थआश्रम में आने पर हमारे कृष्ण आश्रम वापस आ सकते हैं। लेकिन प्रबोधानन्द ने विवाह के मार्ग को नहीं चुना क्योंकि आश्रम में अब उसका अपना एक स्थान था पद था। और उस गरिमामय पद पर रहते हुए वो अपने मनमाने कार्य कर सकता था।
   यह तो हम सबको बहुत बाद में पता चला कि वह विदेशों में मंदिरों के शिलान्यास, निर्माण आदि में बहुत बड़ी राशि लिया करता था। उसमें से कुछ राशि अपने व्यक्तिगत उपयोग के लिए अलग से रख लिया करता था ।जबकि ऐसा करने की आज्ञा किसी को भी नहीं है। अगर आप मंदिर ट्रस्ट के लिए मिली राशि को स्वयं के उपयोग के लिए रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ट्रस्ट से अनुमति लेनी होती है।
   वैसे भी आश्रम ट्रस्ट हर महीने सभी सदस्यों को फिर चाहे वह गुरु हो आचार्य हों, उनके कार्य और पद के अनुरूप  एक निश्चित राशि प्रदान किया ही करती है। इसके बावजूद प्रबोधानन्द ने राशि का गबन शुरू कर दिया। और यहीं से उसका पतन शुरू हुआ। पहले पहल विदेशों में पूजा-पाठ कर्मकांड करवाने के नाम पर जब भी वो जाया करता था, तो अपने आने-जाने का खर्च भी वह विदेशों में स्थित अपने यजमानों से ही वसूला करता था। वहीं धीरे से उसकी कुछ महिला मित्र बननी शुरू हुई, और फिर उसे एक बार इस तरह की मित्रता की आदत हुई वो सुधारने की जगह बिगड़ता ही गया।

Advertisements


    मैंने अपने स्तर पर उससे बात करने की और समझाने की बेहद कोशिश की, लेकिन अब वह जिस स्थान पर पहुंच चुका था वहां उसे उसके अभिमान ने इस कदर जकड़ रखा था कि वह अपने सामने हर किसी को गलत समझने लगा। तरह-तरह के कुतर्कों से उसने मुझे भी परास्त कर दिया। मैंने एक बार उसे यह धमकी भी दे दी कि मैं ट्रस्ट से बात करूंगा, लेकिन मेरे द्वारा ट्रस्ट में बात किए जाने से पहले ही उसने पता नहीं ट्रस्ट के लोगों से क्या बात की कि मुझे मेरे पद से एक पद नीचे स्थान देकर ट्रस्ट ने एक बार फिर मेरा स्थान बदल दिया।
   उसने पता नही ट्रस्ट के लोगों को क्या घुट्टी पिलाई थी , कि कोई उसके बारे में कुछ सुनना ही नही चाहता था। और बस इसलिए मैं भी चुप लगा गया। लेकिन मुझे नही पता था कि बढ़ते बढ़ते उसकी मनमानी इतनी बढ़ जाएगी कि वो अपने ही आश्रम की महिलाओं पर कुदृष्टि डाल बैठेगा।
   और ये उसने जो भी किया है कहीं से भी क्षमा के योग्य नही है। इसलिए उदयाचार्य जी का ये कथन की उसे बाहर निकलवाना होगा मुझे रास नही आ रहा है। हालांकि उदयाचार्य जी ने ऐसा कहा है , तो कुछ सोच कर ही कहा होगा लेकिन मैं व्यक्तिगत तौर पर तो नही चाहता कि वो बाहर आये। बल्कि ये चाहता हूं कि कुछ ऐसा हो जिससे आश्रम की बदनामी हुए बिना ही उसे उसके किये की सज़ा मिल जाये और साथ ही इस कार्य में उसके साथ संलग्न अन्य लोगों को भी जेल का सुख मिल सके।
   बोलो वरुण तुम क्या कहना चाहते थे।”

” गुरुवर आप सभी मुझसे बड़े हैं श्रेष्ठ भी हैं। मेरे मन में यह विचार आया था कि अगर आश्रम ही प्रबोधानन्द के खिलाफ रिपोर्ट करेगा तो आश्रम की बदनामी नही होगी। पर अगर कोई श्रद्धालु या भक्त आश्रम के किसी सदस्य पर उंगली उठाता है तो पूरे आश्रम की बदनामी होती है। मेरा कहना बस ये है कि हमें अमृतानन्द स्वामी जी को सारी बातें बता देनी चाहिए। उसके बाद वो प्रबोधानन्द के खिलाफ लिखित कार्यवाही कर उस कार्यवाही को ट्रस्ट में भेज कर पारित करवाएं और उसके बाद सार्वजनिक रूप से अगर अमृतानन्द आचार्य प्रबोधानन्द का पद समाप्त कर उसे मठ से निष्कासित करने का आदेश दे देते हैं, तो उसके बाद उस पर कोई भी इल्जाम लगे वो सारे उसके अपने होंगे और तब उसके किये कार्यों का और उस पर लगे आरोपों का कोई दुष्प्रभाव आश्रम पर नही पड़ेगा।”

  वहाँ उपस्थित सभी आचार्यों ने एक साथ वरुण की बात पर सहमति की मुहर लगा दी।  तुरंत ही सर्व सहमति से उदयाचार्य जी ने अमृतानन्द स्वामी को फ़ोन मिला दिया।
    सारी बातें सुनने के बाद अमृतानन्द स्वामी भी सकते में आ गए। उनके मन के लिए ये बहुत बड़ी चोट थी, उन्होंने प्रबोधानन्द को अपनी संतान मान कर प्रेम किया था, और अपनी संतान का ऐसा कलुषित दुर्व्यवहार उनके लिए असहनीय था। बड़ी कठिनता से उन्होंने खुद को संभाला और अगले ही दिन आश्रम पहुंचने की बात कह कर फ़ोन रख दिया।
   वहाँ उपस्थित सभी आचार्य वर अब भी परेशान थे पर अब कम से कम उन सभी को एक मार्ग मिल गया था।
   उदयाचार्य जी ने वरुण और प्रशांत को  स्वस्तिकाचार्य के साथ मिलकर प्रबोधानन्द के काले कारनामों को कलमबद्ध करने की ज़िम्मेदारी दी और इस मामले में जो भी जितना प्रकाश डाल सकता था, उनसे उतनी सहायता करने की बात रख दी।

  शाम की आरती का समय होता देख उनमें से कुछ आचार्य पूजा स्थल को चले आये।
   रात्रि के भोजन के बाद भी कुछ समय वेद चर्चा हुआ करती थी। उसके लिए आज दो दिन से कोई एकत्र नही हो पा रहा था। इस हेतु आज उदयाचार्य ने सभी से विशेष आग्रह कर सभी को कृष्ण मंडप में बुलाया था।
    खाने के बाद वरुण कुछ देर को सरोवर की सीढ़ियों पर आ बैठा था। वो धीमे धीमे छोटे छोटे तिनके ऊपर की सीढ़ियों पर बैठे सामने पानी में फेंकता जा रहा था। सीढ़ियों का ऐसा निर्माण हुआ था कि ऊपर की सीढ़ियां खड़ी सी थी और नीचे की ढलान पर थीं। जिसके कारण अगर कोई सबसे नीचे की सीढ़ियों पर बैठा हो तो ऊपर बैठे इंसान को दिखाई न दे।
   वही वरुण के साथ हुआ। वो तिनके पर तिनके फेंकता रहा और कुछ देर में ही नीचे की सीढ़ियों पर कुछ हलचल सुनाई पड़ी,वरुण ने ध्यान से देखा नीचे की सीढ़ियों से पारो ऊपर चली आयी।
   उसके बालों में जगह जगह तिनके फंसे हुए थे।
वो उन्हें धीमे से निकालते हुए चली आ रही थी। वो खुद खाने के बाद सरोवर के पास बैठी वरुण के बारे में ही सोच रही थी। वो सोच रही थी कि वरुण में ऐसा क्या था जो उसके आसपास रहने पर उसे ऐसा आभास होता था जैसे वो देव के पास हो… और कहीं उसकी आंख बंद हुई तब तो बिल्कुल यही लगता कि उसके पास वरुण नही देव है। वरुण उसे कोई अपरिचित अनजान पुरुष क्यो नही लगता था। उसकी मुस्कान, उसकी गहरी आंखें सब कुछ उसे क्यों डुबाने पर तुली थीं।
   बहुत बार दिमाग लगा कर सोचने पर उसे आभास होता था कि उस जैसी स्त्री को ऐसे लुभावने सपने देखने का कोई हक नही है ,जब वो अकेली होती हर बार यही प्रण करती की अब वो वरुण के मोहपाश में नही फंसेगी पर उसे एक झलक देखते ही वो जैसे सब भूल कर रह जाती।
   आज भी सरोवर में बैठी वो यही सोच रही थी कि शायद वरुण उससे दूर भागना चाहता है और एक वो है कि उससे चिपकी चली जा रही है,अब उसे भी अपना मन कड़ा करना ही होगा।
  की तभी उसके बालों में एक तिनका आकर उलझ गया, और फिर एक के बाद एक आते ही चले गए और कहीं बाल चिड़िया का घोंसला न बन जाये इस डर से उसे अपनी जगह से उठ कर ऊपर जाना पड़ा जहाँ वरुण उसे आश्चर्य से खड़ा देख रहा था।
  वरुण तक पहुंचते ही उसका नियंत्रण बिगड़ा और वो अपनी ही साड़ी में उलझ कर गिरने को थी कि वरुण ने उसे सम्भाल लिया। उसकी कमर के इर्द गिर्द वरुण की बाहों का घेरा था।
    पारो का कलेजा जैसे उछल कर मुहँ को अ गया। उसकी डर से आंखें बंद हो गयी। और वरुण की उंगलियों के स्पर्श से उसके सोए मन के सारे तार झनझना उठे…
  …. वो पता नही कब तक वैसी ही खड़ी रह जाती की उसे पकड़ कर वरुण ने  सीधा खड़ा कर दिया….

Advertisements
Advertisements

” आंखें खोलो पारोमिता , तुम ठीक हो!”

  घबरा कर पारो ने आंखे खोल दी… अब भी उसकी धड़कन रेलगाड़ी से होड़ लेती भाग रही थी।

“सांस लो पारोमिता!”

  पारो ने एक नज़र वरुण को देखा और शरमा कर नीचे देखने लगी।

  उसकी हालत समझते हुए भी वरुण उसे वहीं छोड़ तेज़ कदमों से अपने कमरे की ओर चला गया।

“पहले तो पारो ही कहा करते थे, अब अचानक पारोमिता? लेकिन क्यो ?
   अपनी सोच में गुम पारो भी भारी कदमों से अपने भगिनी आश्रम की तरफ मुड़ गयी…

क्रमशः

Advertisements

aparna …..

समिधा – 39

Advertisements

  समिधा – 39

    वरुण के गाड़ी में बैठते ही प्रबोधानन्द का चेहरा उतर गया। उनकी नज़र में वैसे तो अब तक वरुण ने ऐसा कुछ नही किया था बावजूद वो वरुण को पसन्द नही कर पाते थे| जबकि वो लड़का उनके आगे पीछे घूमता उनकी सहायता को ततपर नज़र आता था।
  ” कहाँ घूमना चाहेंगे गुरुवर?”
  ” यहाँ के रास्ते मालूम भी हैं तुम्हें?”
   ” जी! शुरुवाती दिनों में तो मैं और प्रशांत पैदल ही पूरा मथुरा घूम आया करते थे। श्री कृष्ण जन्मस्थली तो जाने कितनी बार हम हो आये। प्रभु की जन्मस्थली देख कर मन ही नही भरता।”
“हम्म ! हमें तो द्वारिकाधीश मंदिर बहुत पसंद है। वहाँ भी चलेंगे।”
” जी! सबसे पहले आपको कंस किला लेकर चलता हूँ।”
” वहाँ ऐसा क्या है? हमें तो ज़रा पसन्द नही।”
“जी यही तो दिखता है कि कंस जैसा इतना बड़ा राजा जिसके पास न धन की कमी थी ना राज्य की बस अपने लोभ और लालच ने उसे कहीं का नही छोड़ा। आज उसका किला कैसा जीर्ण शीर्ण पड़ा है जो कभी आमोद प्रमोद का गढ़ हुआ करता था। ये सब हमें ये दिखाता है कि राजा हो या रंक समय सभी का बदलता ज़रूर है। और घमंड कभी किसी का नही टिकता। अगर हम अपने मन को शुद्ध साफ नही रख पाते हैं तो भगवान स्वयं हमारे मन की कालिख दूर करने का प्रयत्न करते हैं।”

Advertisements


“बस बस… स्वामी जी ने तुम्हें प्रवचन की ज़िम्मेदारी क्या सौंपी तुम तो हर जगह शुरू हो जाते हो। ये सब जो बता रहे हो तुम क्या सोचते हो, हमें नही पता होगा।?”
“ऐसा तो असम्भव है गुरुवर! जो मैं जानता हूं वो तो समंदर की एक बूंद बराबर भी नही। आप तो स्वयं समंदर हैं।”
“अच्छा सुनो  वरुण देव! हमें ज़रा कुसुम ताल की तरफ चलना होगा। वहीं थोड़ा आगे बढ़ कर हमारा भी ऑफिस है। हम प्रबोधानन्द जी को वहाँ भी ले जाना चाहतें हैं।”
” जी, ज़रूर।”
     चारुलता की बात पर वरुण ने हामी भरी और गाड़ी पहले कुसुम ताल की ओर ही घुमा ली।
     गोवर्धन और राधा कुंड के बीच कुसुम सरोवर स्थित था। उधर से गुजरते हुए प्रबोधानन्द को उस सरोवर की सुंदरता ने ऐसा आकृष्ट किया कि उन्होंने वहीं गाड़ी रुकवा ली।
   वो चारों लोग सरोवर पर उतर गए। प्रबोधानन्द के पीछे ही चारुलता चल रही थी।  उनके पीछे वरुण था और वरुण के ठीक पीछे थी पारो। वो जानबूझ कर ऐसे चल रही थी कि उस पर प्रबोधानन्द की नज़र न पड़े…
   कुछ आगे बढ़ कर वो लोग वहीं सीढ़ियों पर बैठ गए।
    प्रबोधानन्द अपने बचपन से लेकर अपने स्वामी बनने के किस्से उन लोगो को सुना रहे थे। चारुलता तो बहुत खुशी से सब सुन रही थी पर न वरुण को ही उनकी बातों में कोई रस मिल रहा था और न ही पारो को।
      वो सीढ़ियों पर सबसे ऊपर और पीछे की तरफ बैठी थी। वो धीमे से उठ कर वहाँ से दूसरी तरफ निकल गयी। कुछ छोटे बकरी के बच्चे इधर से उधर कुलांचे भर रहे थे, वो उनके पास खड़ी उनकी उछल कूद देखने लगी।
    तभी उसका ध्यान एक मेमने पर गया जो सबसे अलग थलग एक तरफ खड़ा था। पारो ने देखा उसके पैर पर शायद चोट सी थी, हल्की लालिमा सी दिख रही थी, और शायद उसी चोट के कारण वो हिल डुल नही पा राह था।
   कि तभी उसे देव के साथ कि वो शाम याद आ गई। जब घर भर से झूठ बोलकर देव पारो को तांत्रिक बाबा के पास बंधवाने के नाम पर घुमाने लेकर जाया करता था। और एक शाम ऐसे ही बहाने बना कर निकले वो दोनो एक तालाब के किनारे बैठे सूरज को डूबते देख रहे थे… और साथ ही देख रहे थे पास में खेलते कुछ बकरी के बच्चों को..
    उनमें से एक बच्चा यूं ही किनारे चुपचाप पड़ा था तभी देव ने कहा जरूर इसके पैर में मोच आई होगी। बस इसी लिए यह पैर अपना सीधा नहीं रख पा रहा है।  देव  तुरंत अपनी जगह से उठा और उसने जाकर उस बच्चे को सीधा खड़ा किया…. उसके बाद उसके उस भाग में जिसमें मोच सी महसूस हो रही थी और लालिमा थी! उस हिस्से को सीधा करके उसने अपनी जेब से रुमाल निकाला और वहां पर बांध दिया। थोड़ी देर पैर पर मालिश जैसी करने के बाद मेमने का बच्चा उछलता कूदता अपने साथियों के साथ खेल में लग गया और पारो देव को देख कर मुस्कुरा उठी…
” अरे वाह आपने तो उसे बिल्कुल ठीक कर दिया।”
” जानती हो पारो हमारा शरीर खुद अपने आप में एक वैद्य होता है। जब भी हमारे शरीर में कोई भी समस्या या व्याधि पैदा होती है, तो हमारा शरीर सबसे पहले उस व्याधि से लड़ने के लिए तैयारी करने लगता है। और यह बात हम इंसानों से ज्यादा यह जानवर समझते हैं। हम तो हल्के से बुखार में भी डॉक्टर के पास दौड़े चले जाते हैं कि, बुखार कम करने की दवा दे दो। लेकिन यह नहीं समझते कि हमारे शरीर में आखिर ऐसा क्या हुआ जिसके कारण हमें बुखार आया ।
   जानती हो जब भी हमारे शरीर में कीटाणुओं जीवाणु विषाणुओं का आक्रमण होता है, तो हमारा शरीर अपना तापमान बढ़ा कर उन जीवाणुओं को हमारे अंदर प्रवेश करने से रोकता है, उनसे लड़ता और उन्हें मारने की कोशिश करता है, और तभी हमें बुखार आता है। लेकिन हम इस बात को समझे बिना दौड़कर डॉक्टर के पास चले जाते हैं। यह सारे निरीह बेजुबान जानवर हम से कहीं ज्यादा समझदार होते हैं…”
   पारो मुस्कुराकर देव की बात सुनती रहती थी उसे देव को सुनना बहुत पसंद था….

Advertisements

   वह अपनी मीठी सी यादों में खोई उस मेमने को सहला रही थी कि तभी उसके कानों में ऐसा लगा जैसे देव की ही आवाज गूंजने लगी…-” कुछ नहीं हुआ है इस मेमने को बस हल्की सी मोच आई है। अभी ठीक हो जाएगा।”
  झट से पारो ने पलटकर देखा पीछे वरुण खड़ा था। वरुण ने अपनी जेब से रुमाल निकाला और मेमने के पैर को थोड़ा सीधा किया और उसकी मोच वाली जगह पर बांध दिया। कुछ देर मालिश करने के बाद उसने मेमने को खड़ा कर दिया। थोड़ी देर लड़खड़ाने के बाद वह मेमना उछलता कूदता अपने साथियों के पास भाग गया….

” देखा यह जानवर हम से कहीं ज्यादा समझदार होते हैं। हम तो अपने शरीर में होने वाली अधि व्याधियों को पहचान नहीं पाते, जबकि हमारा शरीर खुद उन व्याधियों से लड़ने के लिए तैयार रहता है ।लेकिन यह जानवर इस मामले में हम से कहीं ज्यादा समझदार होते हैं । वह मेमना अपने उस मोच  वाले पैर को अपने शरीर से दबाए बैठा था। एक सीध में उसने अपने पैर को रखा हुआ था,और वह इसी तरह बैठा रहता तो 2 से 3 घंटे में उसकी मोच अपने आप ठीक हो जाती। उसके पैर के उस हिस्से की मांसपेशियां शिथिल हो जाती और उसे आराम मिल जाता। इसीलिए उसे देखते ही मुझे समझ में आ गया कि उसके किस पैर में कहां पर मोच आई है।”

    पारो आश्चर्य से वरुण के चेहरे को देखती रह गई… उसे लगा यही सब तो पहले भी उसके साथ हो चुका है। बस उस समय वरुण नहीं देव था सामने। लेकिन क्या ऐसा संभव है कि दो अलग-अलग लोग बिल्कुल एक ही तरह की बातें और एक ही तरह की सोच के हों।
    
        उसे जाने क्यों उस वक्त वरुण के अंदर देव की झलक मिल रही थी।
   ऐसा लग रहा था सामने वरुण नहीं देव खड़ा है… आंखों की वैसी ही चमक। चेहरे पर वैसा ही तेज। और उसके पास से आने वाली वही भीनी भीनी सी खुशबू कुछ भी तो देव से अलग नहीं था…..
      
    पता नहीं कैसे लेकिन उसके मन में अचानक से ऐसे भाव आने लगी कि जैसे वह देव के साथ तालाब के किनारे सीढ़ियों पर बैठी रहती थी, वैसे ही काश वरुण के साथ बैठ सके। उसकी सीढ़ियों से दो तीन सीढियां ऊपर देव बैठा करता था और उसके घुटनों पर सिर टिकाए वह बैठी सामने तालाब को देखती उस पर पत्थरों से निशाने लगाया करती थी, और वह हमेशा उसके निशानों का मजाक उड़ाया करता था।
     दोनों के बीच पत्थरों के निशानों का खेल हुआ करता था…. दोनों शर्त लगाते थे कि किसका पत्थर कितनी बार कूदकर तालाब में गायब होगा।
    और वह हर बार देव से जीत जाया करती थी।

अपने में गुम पारो सरोवर को देख रही थी कि तभी उसके बाजू से होते हुए एक चपटा का पत्थर तालाब में एक के बाद एक पांच कुदाली लगाता हुआ दूर तक चला गया…
     वह चौक पर पलटी… वरुण हाथ में ढेर सारे पत्थर लिए खड़ा था। उसने पारो की तरफ वो पत्थर बढ़ा दिए…-” निशाना लगाओगी?”
   हॉं में सिर हिला कर उसने वरुण के हाथ से पत्थर लिया और निशाना लगा दिया। उसका पत्थर सिर्फ तीन कुदाली के बाद ही डूब गया ।
    और इस बात पर उसकी भौहें चढ़ गयीं…-” नहीं ऐसा नहीं हो सकता! अगर आपके पत्थर ने पांच कुदाली लगाई है तो मेरा पत्थर दस बार कूदेगा देख लीजिएगा।’
“हाथ कंगन को आरसी क्या?  दिखा दो!
     कि आखिर तुम्हारा पत्थर दस बार कैसे कूदता है?”

       उसके बाद तो एक दूसरे से लड़ते झगड़ते पारो और वरुण वहां पर निशाना लगाते रहे । ऐसा लग रहा था जैसे कोई दो किशोर बालक बालिका है जो आपस में खेल कर एक दूसरे को हरा देना चाहते हैं।
  शुरू के दो तीन बार के बाद पारो के पत्थर ज्यादा दूर तक होने लगे और वह खुशी के मारे किलकारी मारती तालियां बजाकर हंसने लगी। उसे इस कदर खुश देख वरुण के चेहरे पर जो भाव थे वह समझाने मुश्किल थे। वरुण अपलक दृष्टि से पारो को देख रहा था, जैसे कितने दिनों बाद उसे यह चेहरा देखने को मिला था, कितने दिनों बाद ये मोहक मुस्कान उसके चेहरे को रंग रही थी।
     उसका  मन किया कि उस चेहरे को अपने दोनों हाथों में पकड़ कर चूम ले।  लेकिन तभी उसे भान हुआ कि वह वरुण है… आश्रम का एक कर्तव्यपरायण सदस्य!  और सामने खड़ी लड़की सिर्फ एक लड़की नहीं बल्कि उसी आश्रम की ही सम्मानित महिला सदस्य है ।
     और उसके लिए वरुण के मन में इस तरह की कोई भी भावना आना गलत है। सरासर गलत है।
   अपने मन के भावों को एक झटके से अपने दिमाग से निकाल कर वरुण ने हथेली में रखे बचे हुए पत्थर वहीं फेंक दिये और वापस मुड़ कर सीढ़ियां चढ़ गया। पारो को अचानक समझ में नहीं आया कि ऐसा क्या हुआ कि वरुण वहां से ऐसे चला गया।
   उसका तो अभी भी मन कर रहा था कि वरुण उसके पास ही खड़ा रहे और वह दोनों इसी तरह पत्थर फेंकते रहे।
    एक ठंडी से सांस भर कर वह भी वरुण के पीछे सीढ़ियां चढ़ गई….
” कहां चले गए थे आप दोनों? “
  उन दोनों के वहां पहुंचते ही चारु लता ने प्रश्न कर दिया।
” बस यही तो थे।  उस तरफ जरा बकरी के बच्चे और गाय के बछड़े खेल कूद रहे थे उधर ही चले गए थे।”
” बता कर जाना चाहिए था ना! प्रबोधानन्द स्वामी गाड़ी में जाकर बैठ चुके हैं। चलिए यहां से हमारे ऑफिस जाना है।”
चारुलता की बात पर सिर झुका कर वरुण गाड़ी की ओर बढ़ गया !

Advertisements


     
         कुछ देर पहले की जो शाम मुस्कुराती हुई ढल रही थी , उसे याद करते हुए पारो के चेहरे पर अब भी मुस्कान थी… वह भी चारुलता के पीछे धीमे कदमों से कार की तरफ बढ़ गई।
     उसे यही नहीं समझ में आ रहा था कि अचानक ऐसा क्या हुआ कि वरुण बिना कुछ बोले पलट कर चला गया। उसका मन उसी बात में लगा हुआ था कि अचानक उसे समझ में आ गया कि वरुण के मन में ऐसा क्या आया होगा।
   उसे अपनी सोच पर भी बुरा महसूस होने लगा। उसे यह लगने लगा कि वह खुद कैसे वरुण के लिए अपने मन में कुछ गलत सोचने लगी थी? आखिर क्यों वह वरुण को देव की जगह देखने लगी? और जैसे ही यह बात उसके मन में आई वह शर्मिंदा होकर गाड़ी से बाहर देखने लगी। अब तक वरुण पर टिकी उसकी नजरें खुद ब खुद वरुण से हट गई। उसने तय कर लिया कि अब वह खुद को वरुण से दूर रखने का प्रयास करेगी।

     वरुण के मन की भी सारी चपलता ठंडी पड़ गई थी। वह अपनी सोच में गुम गाड़ी चलाने लग गया था। प्रबोधआनंद को इस तरह से वरुण और पारो का अचानक गायब हो जाना पसंद नहीं आया था। लेकिन दूर खड़े वह उन दोनों को बछड़ों के पास खड़ा देख चुके थे। और वैसे देखा जाए तो उन दोनों का वहां इस तरह खड़े रहना कुछ गलत भी नहीं था। अपने मन को यही समझा कर प्रबोधआनंद एक बार फिर प्रसन्न होने की कोशिश करने लगे।
  आगे बढ़ते हुए गाड़ी चारुलता के ऑफिस के ठीक सामने जाकर रुकी। चारुलता ने सादर प्रबोधानन्द जी को अंदर आमंत्रित किया, उन्हीं के पीछे वरुण और पारो भी ऑफिस में प्रवेश कर गए..
      ऑफिस में प्रबोधानन्द को बैठाने के बाद चारुलता अपने तरह-तरह के कागज पत्तर निकालकर उनके सामने बिछाती चली गई। वह प्रबोधानन्द को हर तरह से अपने प्रभाव में ले लेना चाहती थी। वह दिखाना चाहती थी कि वह समाज सेवा के क्षेत्र में किस तरह से अग्रणी है। वृद्ध आश्रमों में जाकर फल और कंबल बांटने हों, या दिव्यांगों के अस्पताल में जाकर समय-समय पर जरूरी दवाइयां बांटनी हो, हर क्षेत्र में चारुलता के कागज बड़े पक्के थे।
   वह काम कितना और क्या करती थी यह तो वह खुद ही जानती थी । लेकिन उनके पास उनके सारे किए कामों का लेखा-जोखा भरपूर था।
   एक किया चार दिखाया की तर्ज पर हर जगह के फोटोग्राफ्स भी उसने फाइल करके रखे हुए थे।
    पारो के लिए यह सब बहुत नया था। यह सब देखकर उसकी आंखें फटी जा रही थी। उसे अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा था कि कोई एक औरत अकेले भी समाज कल्याण का इतना सारा कार्य कर सकती है वह भी बिना किसी की सहायता के।
   कुछ देर पहले चारुलता के लिए उसके मन में जो थोड़ी सी कड़वाहट आ रही थी, वह अब अचानक चली गई। और उसे चारुलता दीदी में देवी नजर आने लगी।
वरुण एक तरफ चुपचाप बैठा अपने आप में खोया हुआ था कि, तभी चारुलता का चपरासी उन सभी के लिए चाय और कुछ नाश्ता ले आया।
    प्रबोधानन्द की आंखे रह रह कर पारो पर ठहर जाया करती। चारुलता ने चाय की कप प्रबोधानन्द की ओर बढ़ा दी।
  वो अपना कप थामे अपनी जगह से उठे और पारो के पास जाकर खड़े हो गए।
उन्होंने अपना कप उसकी ओर बढ़ा दिया…-“मैं चाय नही पीती स्वामी जी!”
” क्यों ? ” और ये कहते हुए उन्होंने उसके कंधे पर हाथ रख दिया…
   पारो ने अब तक झुका रखी अपनी नज़र ऊपर उठायी और उसकी जलती आंखें प्रबोधानन्द के चेहरे पर गड़ गयीं।
   उस नाजुक कोमल सी लड़की की उन तीखी आंखों का तेज प्रबोधानन्द सह नही सका और उसने तुरंत उसके कंधे पर रखा हाथ हटा लिया। वो अपना कप अपने हाथ में लिए वहाँ से अपनी जगह वापस लौट गया।
” मुझे पसन्द नही है।” पारो का जवाब ऐसा था कि प्रबोधानन्द को एकबारगी समझ में नही आया कि वो चाय के लिए कह रही है या उसके स्वभाव के लिए।
  प्रबोधानन्द के हटते ही सामने बैठे वरुण पर पारो की नज़र पड़ गयी। वरुण भी उसे ही देख रहा था, लेकिन कुछ देर पहले के उखड़े उखड़े से वरुण के चेहरे पर अब थोड़ी शांति नज़र आने लगी थी।
  शायद उसने भी प्रबोधानन्द का हाथ रखना और हटा लेना देख लिया था और पारो के चेहरे पर आए गुस्से से ही उसके चेहरे पर संतोष की रेखाएं खींच गयीं थीं।
   उसने भी चाय लेने से मना कर दिया।
” अरे क्यों? तुम भी चाय नही पीते क्या?”
“कभी पिया करता था पर अब मन नही करता।”
    चारुलता एक बार फिर अपनी बतकही में लग गईं और पारो और वरुण अपने अपने मन से एक दूजे को हटाने में लग गए….

Advertisements

क्रमशः

   दिल से….

   आप में से कई पाठकों ने कहा कि कहानियां तो अच्छी चल रही है, लेकिन आप लोग मेरा कॉलम दिल से बहुत मिस कर रहे हैं। मिस तो मैं भी कर रही थी, लेकिन जीवनसाथी समाप्त करने के बाद पता नहीं क्यों कुछ समय तक दिल से लिखने का मन नहीं किया मैं भी अजातशत्रु जी को बहुत मिस कर रही हूं।

   अजातशत्रु और बांसुरी ऐसे दिल दिमाग पर छाए हैं की उस कहानी को समाप्त करने के बाद सच कहूं तो चार-पांच दिन तक मोबाइल देखने का भी मन नहीं किया। मैंने खुद नहीं सोचा था कि मैं इतनी इमोशनल ब्रेकडाउन में चली जाऊंगी।
    पहले लगता था कि प्रेम कथाएं लिखना सरल होता है। लेकिन असल में ऐसा नहीं है। जब आप कोई कहानी लिखते हैं तब आप उस कहानी की दुनिया में पूरी तरह से चले जाते हैं। मैं खुद अपने आप को राजा साहब के महल में महसूस करती थी , उनके कमरे उनकी बालकनी उनका दीवानखाना पिया का अस्पताल समर और राजा साहब का ऑफिस, प्रेम और निरमा का आशियाना हर एक जगह ऐसा लगता था मैं उन किरदारों के साथ खुद भी खड़ी हूं।
     जब-जब रसोई से झांक कर निरमा प्रेम से चाय के लिए पूछा करती थी, तो ऐसा लगता था मैं भी निरमा से कह दूं कि मेरे लिए भी एक कप बना लेना।

Advertisements

    यह सब लेखकों के लिखने के साइड इफेक्ट्स होते हैं। और इसीलिए शायद बहुत से लेखक जब कोई एक लंबी कहानी खत्म करते हैं तो उसके बाद एक ब्रेक या पॉज़ ले लेते हैं। क्योंकि वह शायद खुद अपने रचे उन किरदारों  से बाहर निकलने की जद्दोजहद में लगे होते हैं ।
    और उस समय उनका दिमाग किसी नए किरदार को रचने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं होता।
    
       और शायद यही वह चीज होती है , जिसे राइटर्स ब्लॉक कहा जाता है। मेरे साथ तो यह अक्सर होता है। जब मैंने shaadi.com लिखी थी तब बांसुरी की विदाई के बाद भी मेरा यही हाल था। और अपने आप को संभालने के लिए मुझे एक लीक से हटकर कहानी लिखनी पड़ी। क्योंकि अगर shaadi.com के तुरंत बाद मैं कोई प्रेम कहानी शुरू करती तो उस पर shaadi.com वाले राजा और बांसुरी की ही छाप नजर आती और इसीलिए एक नई प्रेम कथा शुरू करने से पहले मुझे एक ब्रेक की जरूरत थी।

    थैंक यू लिखने के बाद मुझे लगा कि अब मैं तैयार हूं shaadi.com का सीक्वेल लिखने के लिए और तब मैंने जीवनसाथी लिखना शुरू किया।
 
     दोनों कहानियों में नाम भले ही एक से थे, लेकिन किरदार बहुत अलग थे शादी.कॉम का प्रेम जहां बिल्कुल ही अलमस्त और खिलंदड़ प्रेमी था । वही जीवन साथी का प्रेम गंभीर और भावुक प्रेमी था।
   और मैं ऐसे ही लिखना चाहती थी। मैं बिल्कुल नहीं चाहती कि मेरी दो कहानियों के किरदार एक-दूसरे को ओवरलैप कर जाएं। यूं लगता है कि हर नई कहानी के साथ एक नया किरदार सामने आना चाहिए, जो अपने पूरे व्यक्तित्व के साथ आप पाठकों से मिले और आपके दिलो-दिमाग पर छा जाए।

   जीवनसाथी के बाद जो नई प्रेम कहानी मैं लिखने वाली हूं उसका प्लॉट मैं पहले ही आप सब से बता चुकी हूं कि, वह मुख्य रूप से प्रेम और निरमा की कहानी होगी सिर्फ प्लॉट और नाम ही समान होंगे। बाकी बहुत कुछ इस बार अलग होगा। यह बहुत अलग सी प्रेम कहानी होगी जिसमें इस बार एक मध्यमवर्गीय परिवार से आप रूबरू होंगे।

Advertisements

जीवनसाथी के तुरंत बाद इसे शुरू न करने का कारण यह भी था कि जीवनसाथी में अभी-अभी आपने प्रेम और निरमा के किरदारों को पढा है, और इस नई कहानी के किरदार उस पुरानी कहानी के किरदारों से कुछ अलग रहेंगे । तो इन दोनों किरदारों में आपस में कोई ओवरलैपिंग ना हो जाए बस इसीलिए उस कहानी को शुरू करने से पहले एक ब्रेक ले लिया और कहानी शुरू कर दी बेस्टसेलर!!

    मेरे दिमाग के कुछ पेंच जरा ढीले हैं… इसीलिए मैं अपनी पसंदीदा जॉनर में लिखने के बीच बीच में इधर-उधर भी हाथ आजमाती रहती हूं।
  मुझे अच्छा लगता है अपनी क्षमताओं से बाहर जाकर देखना और लिखना।
     बेस्टसेलर एक बहुत ही सामान्य सी हॉरर सस्पेंस थ्रिलर है ! यह असल में एक मर्डर मिस्ट्री है जो कहानी के अंत में सुलझ जाएगी। अब तक आप जो पढ़ रहे हैं इसमें तीन अलग-अलग कहानियां चल रही है… लेकिन आगे जाकर यह सारी कहानियां आपस में जुड़ती जाएंगी और धीरे-धीरे हर राज़ पर से पर्दा उठता जाएगा।
     कहानी के मुख्य चार पात्र हैं जिनमें एक इंस्पेक्टर है शेखर! एक पत्रकार है नंदिनी! एक लेखिका है कामिनी! और एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है सुहास! इन चारों की कहानियां आपस में गुथी हुई है, जो जल्द ही आपके सामने परत दर परत खुलती जाएंगी।

*****

   अब बात कहूं समिधा की तो , समिधा लिखते हुए मुझे खुद भी बहुत मजा आ रहा है। जैसा कि मैंने पिछली बार अपनी पोस्ट में कहा भी था कि समिधा में हवन अब जाकर शुरू हुआ है अब तक तो सिर्फ हवन की तैयारियां की जा रही थी।
    
    कहानी में मैंने जिस आश्रम का वर्णन किया है , और आश्रम के अंदर की जो काली सच्चाईयां लिखी है इनका वास्तविक जीवन से कोई लेना-देना नहीं है ! मैंने अपने आज तक के जीवन में ऐसा कोई आश्रम कभी नहीं देखा यह पूरी तरह से मेरी कल्पना है।
     आप यह कह सकते हैं कि कुछ हद तक अखबारों में आने वाली खबरें और समय-समय पर अलग-अलग आचार्य महंतों स्वामियों का जो भंडाफोड़ अखबारों में होता है उसे पढ़कर थोड़ा बहुत जो ज्ञान मिला उसमें अपनी कल्पनाओं का थोड़ा सा रंग घोला और समिधा लिखने बैठ गई….
     लेकिन मथुरा के किसी भी आश्रम से इस कहानी का कोई भी लेना देना नहीं है।

   मैंने आज तक सिर्फ एक ही आश्रम अंदर से देखा है और वह है हरिद्वार में स्थित शांतिकुंज।
   शांतिकुंज एक ऐसी जगह है जहां जाकर आपको वाकई आत्मिक शांति का अनुभव होता है ….अपनी जिंदगी में मैंने इतनी सुंदर जगह दूसरी नहीं देखी। गुरुदेव और माताजी ने इस आश्रम का निर्माण किया था युग निर्माण के लक्ष्य को लेकर और उनके बाद भी उनके अनुयाई उनके इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए दृढ़ संकल्प है।
      जाती पाती अमीर गरीब पुरुष महिला इनमें कहीं कोई भेदभाव इस आश्रम में आप नहीं देख पाएंगे। सभी बराबरी से पूरे सेवा भाव से ईस आश्रम से जुड़े हैं और लगातार कार्यरत हैं ।बड़े से बड़े डॉक्टर कलेक्टर इंजीनियर भी यहां पर खाना बनाते हुए और परोसते हुए दिख जाएंगे । लाइब्रेरी में किताबों को संभाल कर रखना हो या आश्रम की साफ सफाई का कार्य हो यह सभी लोग एकजुट होकर बराबरी से हर काम में हिस्सा लेते हैं।
      शांतिकुंज में वाकई स्वर्गीय सुख की प्राप्ति होती है ।

Advertisements

अब इसके साथ ही मैं अपना यह कॉलम समाप्त करती हूं । कुछ ज्यादा ही लंबा हो गया… शायद पिछले इतने सारे भागों में जो नहीं लिखा था उसकी कसर आज पूरी हो गई.. अब से कोशिश रहेगी कि हर भाग में छोटा ही सही दिल से जरूर लिखूं।

aparna….
   
    
   
 

दिल से….

Advertisements

खुशियां आंखें गीली कर जातीं हैं जब कोई ऐसा मौका आये कि किसी ज़मीन से जुड़े शख्स को सिंहासन पर बैठे देखती हूँ……

मेरी नज़रों में ही असल नायक होता है। फल बेचकर 150 रुपये प्रतिदिन कमाने वाले हरिकेला को संतरे को orange कहा जाता है ये मालूम न था। अंग्रेज़ी की ये छोटी सी भाषयी अज्ञानता ने उनके ज्ञान चक्षु खोल दिए। स्वयं की अशिक्षा को मानक मान कर उन्होंने अपनी जीवन भर की कमाई से अपने गांव के बच्चों के लिए स्कूल खोल दिया।

मेंगलुरु के हरिकेला के एक छोटे से प्रयास ने सफलता रची और आज सरकारी अनुदान और कई प्राइवेट ऑर्गेनाइजेशन के सहयोग से उनका हजब्बा स्कूल सफलता के सोपान छू रहा है।

स्नेह सम्मान से लोग इन्हें अक्षर संत भी कहतें हैं। आपके हाथों में पद्मश्री अवार्ड भी मुस्कुरा रहा है।

दिल से…

चिकित्सा के देवता भगवान धनवंतरी आप सभी पर अपनी कृपा बनाएं रखें, और धन की देवी लक्ष्मी आपके घरों पर स्थायी आवास बना लें।

आप सभी को महापर्व दीपावली के प्रथम दिवस धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं…💐

दिल से…

लोग कहतें हैं , झूठ मत बोलो।

पर रिश्ते निभाने वाले जानते हैं कि कुछ मीठे झूठ रिश्तों को बनाये रखने के लिये कितने ज़रूरी हैं…..

खुरापातें….

Advertisements

Son :- मॉमा s e r लिखुँ या s r e ? सर की स्पेलिंग के लिए?

मॉम:- sir …..😡😡😡

#online classes rocks

#kids rockstars…

Originally mine u can share it…😂😂

Advertisements

aparna …

कुछ खुरापातें…

She posted a ‘roti aloo ki sbji and dal ki thali ” photo on her wall and wrote …

Friday lunch….

खुरापाती ख्याल आया कि लिख दूँ

–चल finally तुझे खाना तो मिला।

पर मन की मन में रह गयी,नही लिख पायी, संस्कार बहुत है न मुझमें।

Next day she again posted her photo and wrote .. gain half kg after eating my favorite panipuri…

एक और खुरापात आई दिमाग में …

अच्छा हुआ बहन कुछ तो गेन किया वरना जिस ढंग से तू डाइट कर के पतली हो रही है, यूनेस्को वाले तुझे देख हमारे यहाँ अकाल न घोषित कर दें।

पर कह नही पायी क्योंकि संस्कार बहुत है ना मुझमें।

शादी.कॉम-14

Advertisements

       फेरे पड़ गये,,भान्वर हो गई….वर वधु ने पण्डित जी का आशीर्वाद लिया और अपने गृहस्थ जीवन के शुरुवाती सोपान पर कदम रख दिया।।

     ब्याह निपटने के बाद मन्दिर से नीचे उतर के सभी विमर्श में जुटे कि अब आगे क्या किया जाये।।
  लड़कों का कहना था कि लल्लन के घर जाया जाये,परन्तु अब तक अँग्रेजो के खिलाफ लड़ने वाले क्रान्तिकारियों सी धमक दिखाने वाला लल्लन अब एकदम ही सहमी भीगी बिल्ली बना बैठा था,अब रह रह के उसको गुस्से में चीखते हाँफते अपने बाऊजी और रोती मिमियाती अपनी माँ का करुण चेहरा दिख रहा था,उसकी घर जाने की बिल्कुल हिम्मत नही हो रही थी,उसने प्रस्ताव रखा __

” हम सोच रहे लखनऊ निकल जाते हैं,दो दिन बाद वैसे भी हमारी जॉईनिन्ग है,अम्मा को कह देंगे प्रिंस के साथ कमरा खोजने और बाकी काम निपटाने आये हैं,और अब जॉईनिंग के बाद ही वापस आयेंगे।”

” और बाद में का कहोगे लल्लन?”

Advertisements

” बाद में कह देंगे काम बहुते जादा है अम्मा,कुछ समय बाद ही घर आ पाएँगे।।”

” कानपुर लखनऊ में दूरी ही कित्ता है,जैसे मथुरा की लड़की वृंदावन ब्याही,बस वैसा ही।।।तुम नही गये तो तुम्हारी अम्मा आ जायेगी तो,तब का करोगे??”

प्रिंस के इस विचारणीय प्रश्न पर सभी सोच में पड़ गये।।

” हमें तो लगता है,लल्लन और रेखा तुम लोग पहले जाओ राजा के घर ,वहाँ सब का आशीर्वाद लो और वहाँ से युवराज भैय्या को साथ लेकर लल्लन के घर जाना,,बड़े भैय्या को सभी मानते हैं,वो जायेंगे तो लल्लन के घर भी कोई परेशानी नही होगी,क्यों ठीक बोले ना राजा।।”

बांसुरी के इस आइडिया पर राजा ने भी हामी भर दी

” ई पनौती फिर बोली,,ई जब जब अपना आइडिया देती है तब तब कोनो का बंटाधार होता है,लिखवा लो हमसे प्रिंस।” प्रेम फुसफुसाया

” अबकी ना होगा,,सही बोल रई बांसुरी!! लल्लन राजा भईया के साथ निकल लो गुरू,अब जादा सोच बिचार में ना पड़ो ।।”

बहुत सारी हिम्मत जुटा के लल्लन रेखा के साथ राजा के घर को निकला,राजा ने बांसुरी को भी साथ ले लिया,प्रिंस और प्रेम पीछे अपनी फटफटी फटफटाते चले आये।।

घर पे पहले ही रूपा के बाऊजी पधारे हुए थे,उनकी अगुआनी में रूपा ऊपर नीचे हो रही थी,तभी दरवाजा खोल के राजा अन्दर आया,आते ही दुबारा उसने भाभी के पिता को चरण स्पर्श किया,और एक कोने में खड़ा हो गया।।

” काहे लल्ला जी,रेखा कहाँ रह गई,आई नई आपके साथ।” रूपा की बात खत्म होते होते बन्सी भी अन्दर आ कर खड़ी हो गई

” अरे इसे ही तो सजाने गई रही,ये यहाँ खड़ी है तो रेखा कहाँ है भई ।।”

रूपा की पृश्नवाचक निगाहों को बांसुरी ने दरवाजे की तरफ घुमवा दिया,दरवाजे से बहुत धीमे से रेखा और उसके पीछे लल्लन आकर अन्दर खड़े हो गये।।

   कई सारे टी वी सीरियल और फिल्मों में नायक नायिका के भाग के शादी करने वाले सीन देख चुकी रुपा ने जब रेखा को फूलों की लम्बी वरमाला पहने और माथे पे पीला सिन्दूर लगाये देखा तो उसकी आंखें फटी की फटी रह गई।।।आज तक अपनी सास के सामने अपने खानदानी होने और संस्कारी होने की बड़ी बड़ी डीँगे हाँकने वाली रूपा का मुहँ रुआंसा हो गया।।

” रेखा!!!” बस इतना बोल कर अपने सर को पकड़े रूपा धम्म से नीचे गिर पड़ी,हालांकि इस गिरने में बराबर चोट ना लगे इस बात का ध्यान रखा गया, सोफे पर पसरने के बाद रूपा ने आंखे पलट दी,, आसपास के सभी लोग दौड़ पड़े,राजा की दादी जिनका दीवान खाने में एक ओर पर्मानेंट अड्डा था, घबरा कर चीखी__ ” अरे दांत ना जुड़ जई,देखो रे “

Advertisements

  राजा की अम्मा और शन्नो मौसी पानी की कटोरी लिये दौडे ,जल्दी जल्दी रूपा की तीमारदारी मे लगी, घर की मुहँ लगी नौकरानी अपने राग मे थी __ ” अम्मा जी जूता सूंघा दौ,अब्भी उठ बैठेगी बहुरिया।”

” अरे मुह्नजली!! इन्ने मिर्गी ना आई है जो जूतो सूंघाने बोल रई,चकरा गई है तनिक, अभी पानी का छींटा से ठीक हो जायेगी।”

बेहोश पड़ी रूपा के कानों में जब जूता सून्घाने की बात पड़ी तो वो घबरा के थोड़ा कसमसाई पर दादी की बात कान में पड़ते ही उसे संतोष हुआ कि जूता नही सुन्घाया जायेगा,और वो फिर चित पड़ी रही।

इधर रूपा के पिता का बी पी रेखा के नये नवेले दूल्हे को देख बढ़ ही रहा था कि रूपा अचानक चक्कर खा गई,वो बेचारे जब तक कुछ समझ पाते ,समधन अपनी पायल चूड़ी बजाती दौड़ी चली आई और वो बेचारे रिश्ते के सम्मान के मारे एक किनारे खड़े रह गये,उतनी ही देर में घर के बड़े लड़के युवराज का पदार्पण हुआ।।
    अपने कमरे में आये दिन रूपा की ऐसी नौटंकी से परिचित युवराज ने आगे बढ़ कर रूपा की नब्ज थाम ली __
      ” अरे नब्ज तो बड़ी धीमी हो गई है,राजा वो क्या नाम है तुम्हारी डॉक्टर सहेली का?? हाँ रानी,ज़रा फ़ोन घुमाओ उसे,कहना बड़ा वाला विटामिन का इन्जेक्शन लेती आये,,इन्हें सुई ही लगवानी पड़ेगी।”

राजा को बड़े भैय्या की बात समझ नही आई,वो तुरंत अपनी जीन्स से मोबाइल निकालने लगा, उसका हाथ पकड़ बन्सी ने इशारे से उसे फोन करने से मना कर दिया,अपने पति की सुई वाली बात सुन रूपा को भी होश आने लगा,उसने धीरे से अपनी आंखें खोल दी__” कहाँ हैं हम?” हमेशा फिल्मों में होश मे आने के बाद नायिका द्वारा बोला जाने वाला पहला डायलॉग बोल कर आंखे फाड़ रूपा युवराज को देखने लगी,तभी उसे रेखा और लल्लन याद आ गये,और वो अपने पूरे फेफड़े फाड़ के दम लगा के चिल्ला के रो पड़ी ।।

  पूरे घर मे हाहाकार मच गया,ये ऐसा समय था जब लल्लन को अपने किये पे दिल से अफसोस होने लगा,उसे वहाँ से निकल भागने की राह नही सूझ रही  थी,जो महिला जैसे सुना सकती थी,वैसे सुना रही थी,चाहे राजा की दादी हो या रूपा,यहां तक की शन्नो मौसी को भी मौका मिल गया था,वो भी पानी  पी पीकर आज के नौ जवान छोकरे छोकरियों की विवाह प्रगती पे अपने विचार प्रकट कर रही थी,

” एक हमारा समय था,शकल सूरत तक ना देखी शादी होने तक,और एक आजकल के लड़के लड़कियाँ हैं,हद बद्तमीज़ी है।।”

” ठीके रहा तुम्हरे समय सकल ना देखे बनी ,नही तुम्हे कौन ब्याह  ले जाता सन्नो??” राजा की दादी के कथन पर शन्नो मौसी का पारा और चढ़ गया,सब नाराज थे,पर एक कोई ऐसी भी थी वहाँ जिसके मन में लड्डू फूट रहे थे!!!

   राजा की अम्मा थी जो बार बार रूपा को ना रोने और जो हुआ उससे समझौता करने की सीख दे रही थी,आखिर थक कर वो वहाँ से उठी और चुपके से अन्दर खिसक गई,दस मिनट बाद एक हाथ में पूजा की थाली और दूसरे हाथ में मिठाई का थाल उठाये राजा की अम्मा वापस आयी।।बांसुरी ने आगे बढ़कर उनके हाथ से एक थाल ले लिया।।
   रेखा रूपा के पैरों के पास उसे मनाने मे लगी थी,युवराज और राजा वकील बाबु को समझा रहे थे, दादी और शन्नो मौसी अपने राग दरबारी मे व्यस्त थे, वहीं प्रिंस और प्रेम में से एक दादी का तो एक मौसी का पक्ष ले आग मे घी डालने का काम कर रहे थे, इस पूरे सीन से विलग लल्लन एक किनारे खड़े खड़े अपने घर पे मिलने वाले सत्कार के बारे मे सोच सोच परेशान हुआ जा रहा था,,,उसे आज तक का अपना पूरा जीवन अपने सामने रील सा चलता दिख रहा था, बचपन में माँ को सताना,बाऊजी का मार मार के गिनती पहाड़ा रट्वाना,बड़े भईया की जेब से चुराये पैसों से पहली सिगरेट खरीद कर पीना,हर राखी पे दीदी के लिये कैसे भी कर के गिफ्ट खरीदना,इत्ती सारी खुशनुमा यादों को उसने खुद अपने हाथों कुएं में बहा दिया था,एकाएक उसे अपना निर्णय जल्दबाजी में किया गया फैसला लगने लगा था, पर अब समय उसके हाथ से रेत सा फिसल चुका था,वो अभी अपनी उधेड़बुन मे था कि राजा की अम्मा पूजा की थाली लिये आई ।।
     बाँसुरी ने आगे बढ़ दीवार से लग कर खड़े लल्लन को हाथ पकड़ कर आगे खींच लिया और रेखा के बाजू में बिठा दिया,अम्मा ने आगे बढ कर नवयुगल का तिलक किया और आरती उतारी,मुहँ मीठा करा दिया।।

    गुस्से मे बडबड करती रूपा रोती धोती अपने कमरे में चली गई,,युवराज ने लल्लन को बैठा कर उसके घर परिवार नौकरी चाकरी का हिसाब लेना शुरु किया,पढ़ाई लिखाई बताने के बाद जैसे ही लल्लन ने अपनी ताजा ताजा लगी सरकारी नौकरी का जिक्र किया,वहाँ उपस्थित सभी के चेहरों पर अलग अलग तरह की प्रतिक्रिया दिखने लगी,औरतों की खुसफुसाहत कुछ और मुखर हुई,वकील बाबु के चेहरे पर भी सन्तोष की झलक आ ही रही थी कि राजा के बाऊजी भी पिछले दालान से निकल बाहर आये,और आते ही उन्होनें अपना सबसे प्रिय सवाल छेड़ दिया__

Advertisements

       ” किसके लड़के हो वैसे तुम,हमार मतलब कौन जात हो??”

   ” इरिगेशन में हमारे बाऊजी आफीसर है,बाबुलाल सूर्यवंशी।।”

लल्लन का ये वाक्य वकील बाबू के सीने मे घूंसे के समान लगा,उस समय उन्हें ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे किसी ने हाथ अन्दर डाल उनके फेफडों को जोर से मसल दिया हो,ऐसी प्राणान्तक पीड़ा मिली वो भी समधि के घर जहां ना वो खुल कर बोल पा रहे थे,और ना चिल्ला पा रहे थे।।आज तक वकील बाबू के लिये उनकी वकालत सबसे ऊपर थी,पर अदृश्य और अपरोक्ष रूप से उनकी वकालत के उपर था उनका ‘ ब्राम्हणत्व ‘।
     उन्हें सदा ही लगता आया था कि वो स्वयं ब्रम्हा की संतान हैं,इसीसे और कोई माने ना माने उन्होनें खुद को समाज में सबसे ऊपर स्थापित कर रखा था, उनके अनुसार उनके नीचे आने वाली हर जाति के लिये विभिन्न कार्य बनाये गये थे,और वो बने थे सबसे ऊपर बैठ कर सबके कार्यों का निर्धारण करने के लिये।।
      हालांकि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में उनकी सोच और उनका स्थान बिल्कुल उलट हो चुका था,पर इसके बावजूद वो तन मन से इस नई व्यवस्था के खिलाफ थे,वो खिलाफ थे अन्तर्जातीय विवाह के।।उन्होनें अपने बच्चों के मन की मिट्टी को  भी सदा से जाति पाति के जटिल खाद और पानी से ही सींचा था,पर जाने कैसे ये कुलबोरनी अपने सारे संस्कार गंगा जी में बहाये आयी।अभी उनके हाथ में दुनाली होती तो ये नये नवेले जोड़े को सीधा परलोक पहुंचा देते पर एक तो समधि का घर दुजा वो मन ही मन युवराज का भी थोड़ा अधिक ही लिहाज करते थे,उनकी नज़र में उनकी जिंदगी भर की असली कमाई उनका दामाद युवराज ही था,लड़के तो शादी के बाद अपनी अपनी घर गिरस्ती में लीन थे,बस यही एक हीरा था जिसकी चमक से उन्होनें अपने तन मन को रोशन कर रखा था।।

   अपनी मर्मांतक पीड़ा को दबाते हुए उन्होनें बड़े कष्ट से युवराज को अपने पास बुलाया और तुरंत घर निकलने की इच्छा जाहिर की।।
      अपने श्वसुर के कट्टर स्वभाव से परिचित युवराज ने उनकी मंशा जानते ही राजा को गाड़ी निकालने का आदेश दिया और बैठ कर उन्हें सरकारी नौकरी के फायदे गिनाने लगा।।पर पल पल बदलते ससुर के चेहरे के रंगों का कुछ असाधारण होना युवराज को खटक रहा था कि वकील बाबू ने अपना सीना अपने हाथों सा पकड़ लिया__” क्या हुआ बाऊजी,कुछ तकलीफ है क्या??”

” हाँ,,कुंवर जी,लग रहा जैसे कोई कलेजा मरोडे दे रहा।।”
    बोलते बोलते ही वकील बाबू दर्द से कुम्हला कर एक ओर को झटक गये।

   युवराज और राजा ने आनन फानन उन्हें उठाया और बाहर गाड़ी में डाल तुरंत अस्पताल को दौड़ चले।। रूपा ने जैसे ही सुना की उसके बाऊजी को अस्पताल ले जाना पड़ा वो और हाथ नचा नचा के रेखा को सुनाने लगी_

  ” और कर लो लब मैरिज,अब पड़ गई कलेजे को ठंडक!! इत्ते में मत रुकना,बाऊजी को मार के ही दम लेना तुम,,कहे दे रहे रेखा ,आज के बाद हमे अपनी सकल ना दिखाना ,समझी।”

बहुत देर से चुप चाप खड़ी रेखा के लिये भी अब सब कुछ असहनीय हो गया,आखिर वो भी बिफर पड़ी

Advertisements

” अरे शादी ही तो किये हैं,अपनी मर्ज़ी से कर लिये तो इतनी हाय तौबा काहे मचा रहे सब,और सुन लो दीदी बाऊजी भी अच्छे हो जायेंगे,तुम्हे ज्यादा चिंता करने की ज़रूरत नही है।” रेखा वहाँ से लल्लन का हाथ पकड़े बाहर निकली ही थी कि रूपा ने उसे रोक दिया__” कोई ज़रूरत नही तुम्हे अस्पताल जाने की।

” अरे अभी बखत नही है तुम दोनो का बिल्ली बन लड़ने का ,जल्दी अस्पताल चलो!! देखें वहाँ बकील बाबू को हुआ का है,भोले भंडारी रक्षा करे उनकी, समधन को भी खबर करना होगा।।”
  सबके सब बाहर निकले,प्रिंस और प्रेम अपनी बाईक में पहले ही राजा भईया की गाड़ी के पीछे निकल चुके थे,राजा के बाऊजी राजा लोगों के साथ निकल चुके थे,,अब बची थी घर की औरतें,बाँसुरी और लल्लन …..और बाहर खड़ी थी राजा की एस यू वी।।रेखा ने लल्लन को देखा __” हमें चलानी नही आती रेखा,हम बस आज तक वैगनार चलायें हैं,हम रोड पे एस यू वी नही उतार पायेंगे।”

  अभी लल्लन अपनी गाड़ी चलाने की योग्यता बता ही रहा था कि बांसुरी गाड़ी स्टार्ट कर गियर में डाल हॉर्न देने लगी,,

” चला तो लोगी ना,,बोज तो ना दोगी कहीं नाले वाले में ”  रूपा के सवाल पर बांसुरी ने मुस्कुरा कर नही में सर हिला दिया __” राजा सिखाये हैं हमें गाड़ी चलाना,बहुत सेफ ड्राइव करते हैं हम,,आप सब लोग  निश्चिंत होकर बैठिए।।

  सभी को लिये बांसुरी जब तक अस्पताल पहुंची तब तक वकील बाबू को इमरजेन्सी में भर्ती कर लिया गया था,कॉरिडोर में ही युवराज और राजा मिल गये,अभी सब मिल कर विचार विमर्श कर ही रहे थे कि डॉक्टर ने बाहर आकर एक परचा राजा को थमाया,और सारी दवाइयां जल्दी से जल्दी लाने की ताकीद की।।
   राजा के फोन पर रानी भी वहाँ पहुंच चुकी थी, वो भी अन्दर डॉक्टरों की टीम के साथ लगी हुई थी।।
  डॉक्टर और नर्सों की टीम भाग भाग कर अपने काम को अंजाम देने में लगी थी,लगभग दो ढाई घन्टे की मशक्कत के बाद एक सीनियर डॉक्टर बाहर आये __
         ” मरीज के साथ कौन है”  युवराज के आगे बढ़ते ही उन्होनें वकील बाबू के कमजोर हृदय का लेखा जोखा युवराज को थमा दिया

   ” देखिए इन्हें अटैक आया है,अभी तो हमने इमरजेन्सी दवाईयां दे दी हैं,पर आप लोग इनका एन्जियोग्राफ करवा लिजिये,जिससे ब्लॉकेज का परसेंटेज पता चल सके, अभी 4 दिन अस्पताल में ही रहना होगा,उसके बाद आप इन्हे लखनऊ मेडीकल कॉलेज ले जा सकते हैं ।”

इतना सुनते ही रूपा का पूर्वाभ्यासित रोने का कार्यक्रम शुरु हो गया,युवराज के बार बार समझाने पर भी उसने अपने राग तार सप्तक में ही छेड़े हुए थे, तभी वहाँ रानी आई__” अरे भाभी आप इतना परेशान मत होईये।।अभी अंकल ठीक है,आराम है उन्हें ।।लेकिन आगे चलकर कहीं वापस दुबारा अटैक आ गया तो बड़ी मुसीबत होगी इसिलिए डॉक्टर कह रहे कि एन्जियोग्राफी करवा लिजिये,उसमें अगर ज्यादा ब्लॉकेज आता है,तो आप एंजियोप्लास्टी करवा लीजियेगा,उसके बाद अंकल बिल्कुल स्वस्थ और सुरक्षित रहेंगे।।”

” ये सब का कारन ई कलमुही है,ना ये ऐसा भाग भगा के सादी करती ,और ना बाऊजी को हार्ट अटैक आता।”

” ऐसा नही होता भाभी,अंकल को शुरु से ब्लॉकेज रहा होगा,जो आज वेन्स को चोक कर गया और अटैक आ गया,आप बेवजह किसी को ब्लेम ना करें।”

” काहे ना करें,हमार बहिनी है,तुम्हारे पेट में काहे दरद हो रहा,ए लल्ला जी समझाओ अपनी डाक्टर्नी को,जादा चपर चपर ना करे,हम भी सब समझते हैं।।
बड़ी आई हमे समझाने वाली।”

कुछ ही देर में रूपा की माँ और भाई भी दौड़ा चला आया,अपनी माँ को देखते ही रूपा ने फिर एक बार रूदाली रूप धर लिया और आंखे और हाथ नचा नचा के रेखा के सर मत्थे सारा ठीकरा फोड़ दिया।।
  पर रूपा की माँ रूपा सी गंवार ना थी,समय की नज़ाकत को भांपते हुए उसने रूपा को समझा बुझा के शांत  कराया और रेखा के पास जाकर उसे अपने सीने से लगा लिया।।
    दुख की इस घड़ी मे,ऐसी अपार विपदा में जहां पति जीवन मृत्यु के बीच पीन्गे भर रहा था,बेटी का जात से बाहर जाकर शादी करना माताजी को कमतर दुखी कर पाया।।और शायद इसिलिए अपने दुख को दूर करने उन्होनें आगे बढ कर बच्चों को माफ कर दिया।।

  औरत ही औरत की पीड़ा समझती है,राजा की अम्मा ने आगे बढ़ कर समधन को गले से लगा लिया,दोनो औरतें साथ बैठी घंटों टन्सुये बहाती रहीं, अंत में रो धो कर फुर्सत पाई तो पति से मिलने की इच्छा जाहिर की,जिसे उस वक्त डॉक्टरों ने ठुकरा दिया।।

    शाम चार पांच बजे तक में मरीज की हालत स्थिर हुई,और सभी को उनके कक्ष में उनसे मिलने की इजाज़त मिल गई।।

   इतनी देर में राजा ने फ़ोन पे लल्लन के बड़े भाई को सारी जानकारी दे दी थी,राजा के फोन के बाद घर पे सोच विचार कर लल्लन का भाई,उसके बाबूजी और अम्मा भी अस्पताल चले आये।।
    आते ही लल्लन की अम्मा ने राजा की अम्मा से दुआ सलाम की और रेखा की अम्मा से मरीज का हाल पानी जानने लगी,वहीं लल्लन के पिता और भाई भी युवराज और बाकी पुरूषों से बाकी का हाल समाचार लेने लगे।।लल्लन को अपने पिता और भाई का तो उतना डर नही था जितना उसे अपनी अम्मा का डर सता रहा था,उसने आगे बढ़ कर पहले बाऊजी,भैय्या और फिर अम्मा के पैर छू लिये।।
   बाऊजी ने उसके सर पर हाथ फेरा तो लल्लन की आंखों की कोर भीग गई पर अम्मा ने आशीर्वाद की जगह दुसरी ओर मुहँ फेर लिया,और तो किसी को कुछ समझा नही पर कोखजाये ने अपनी जननी का दर्द उसकी पीड़ा समझ ली,पर अब क्या हो सकता था?? चुपचाप उठ कर लल्लन ने इशारे से रेखा को भी पैर छूने को कहा और एक तरफ खड़ा हो गया, रेखा ऐसी बातों को समझ कर भी कई बार नासमझ बन जाती थी,बांसुरी ने रेखा से मुहँ खोल कर कहा

” अपने सास ससुर की चरण धूलि तो ले लो रेखा, बड़ों का आशीर्वाद तुम्हारे भविष्य  को सफल बनाएगा,,चिंता ना करो सब ठीक हो जायेगा।।”

शाम ढलते ढलते सभी के चेहरों से चिंता की लकीरें भी छंट गई,रो के हँस के जैसे भी हो पर लल्लन और रेखा के विवाह को आखिर दोनो परिवारों की सहमती मिल ही गई।।
    वकील बाबू को भी हृदय मे उठी मर्मांतक पीड़ा  में जीवनरक्षक औषधियों ने ऐसा चमत्कार किया कि  अपने कष्ट से मुक्ति पाने के बाद वो यथासम्भव विनम्र होते चले गये,उन्होनें अपने मन की भावनाओं को समेट कर अपने नये जमाता को गले से लगा लिया।।

     वैसे भी मृत्यु के मुख से लौटे इन्सान को अपना जीवन और अधिक मूल्यवान लगने लगता है,वैसा ही कुछ वकील बाबू के साथ हुआ,और उन्होने हृदय से सबकी गलतियों को क्षमा कर दिया ।।

    रात मे अस्पताल में रूपा का भाई रुका,माँ को समझा बुझा कर रूपा अपने साथ ले गई,,शादी ऐसी जल्दी मे हुई परन्तु विदाई बिना परछन कैसे कर दे,ऐसा बोल रेखा को भी उसकी माँ अपने साथ ले गई,इधर लल्लन को उसके दोस्त बिना गाजे बाजे ही बाराती बने,, राजा भैय्या की गाड़ी में हँसी ठिठोली करते बिना दुल्हन ही उसके घर पहुँचा आये।।
    प्रेम प्रिंस और राजा भैय्या के साथ जैसे ही लल्लन अपने घर की चौखट लान्घने जा रहा था कि उसकी अम्मा की आवाज़ ने उसे वहीं रोक दिया, वो जल भरा कलश और आरती की थाल लिये चौखट पे आई,और पानी भरे कलसे को सात बार लल्लन के चारों ओर घुमा कर,बाहर निकल उस पानी को बहा आई__
       ” सादी बिना पूछे कर आये तो अब का हर जगह मनमानी चलेगी तुम्हारी,,अरे हल्दी नई चढ़ी तो का भवा,दूल्हा तो बनी गये,अब नैके दूल्हा का नज़र उतारे बिना,उसकी आरती उतारे बिना अन्दर कैसे ले लें,बोलो।।”

    नज़र उतार ,आरती कर,अम्मा ने लल्लन के मुहँ मे शगुन का गुड़ डाला और उसे अपने आंचल तले ढांप के घर के मन्दिर में ले चली।।
    कुल देवी के आगे प्रणाम कर लल्लन ने अपनी अम्मा के पांव छुए और अम्मा के आंसू लल्लन के चेहरे को भिगोते चले गये__” एक बार पूछने की ज़रूरत भी ना समझी लल्ला,आज तक किस बात के लिये रोका तुझे जो आज रोक लेती।।”

Advertisements

” गलती हो गई अम्मा!! माफ कर दे।।” लल्लन अपनी अम्मा के गले से लगा रो पड़ा,,माँ बेटे के इस पावन मिलन के बीच घर के किसी सदस्य ने आने की जुर्रत नही की,राजा इसी बीच जाकर अपनी गाड़ी में बैठा प्रिंस और प्रेम का रास्ता देख रहा था,कि  बांसुरी का मेसेज आ गया ” वहाँ लल्लन के घर पे सब ठीक है ना??” जवाब में राजा ने भी लिख दिया _” हाँ सब ठीक!!”

  ” क्या भाई,चाय पीकर ही टरोगे तुम दोनो??” लल्लन की दीदी के सवाल पर प्रिंस हड़बड़ा गया

” नहीं दीदी!! बस जाते हैं हम दोनो।।” दोनो बाहर को भागे,देखा राजा भैय्या ड्राइविंग सीट पर अपना मोबाइल पकड़े मुस्कुरा रहें हैं ।।

” का बात है भैय्या जी,बड़ा मुस्कुरा रहे हैं,किसका मेसेज आ गया ??”

” अबे किसी का नही बे!! जल्दी चलो ,,घर जाये कुछु खाये पिये,,आज तो लल्लन की शादी के चक्कर में पानी तक नसीब नही हुआ,फिर भाभी के बाऊजी की तबीयत बिगड़ गई,,अब तो पेट मे चूहे रेस लगा रहे हैं,अम्म्मा जाते जाते इशारा कर गई थी कि आज हमारी पसंद की प्याज की कचौड़ी बना रही हैं,तो चलो जल्दी से चले और खाये पियें।”

” चलिये भैय्या जी फिर भगा लिजिये गाड़ी,किसका इन्तजार है।।”

तीनों साथ बैठे राजा के घर को निकल चले।।

क्रमशः

Advertisements

aparna..

Advertisements

समिधा-28

Advertisements

      ससुराल में पारो का समय कैसे बीत रहा था उसे खुद ख्याल नही था। इसी बीच एक बार लाली भी उससे मिलने आई। लाली पेट से थी और इसी कारण उसे पहले आने नही दिया गया था।
   मांग भर लाल सिंदूर हाथ में शाखा पोला पहनी लाली पारो को अति सौभाग्यशाली दिख रही थी। उसके सामने पारो अपनी किस्मत का रोना लेकर नही बैठना चाहती थी। इसलिए उसे अपने कमरे में बैठा कर उसके लिए वो मुस्कुराती उसके सामने बैठ गयी। कुछ देर इधर उधर की बातों के बाद आनन्दी उन दोनों के लिये कुछ खाने पीने का सामना लिए ऊपर ही चली आयीं।
   बहुत दिनों बाद पारो के चेहरे पर मुस्कान आई थी , लाली को देख कर।
  जाने क्यों उसे लाली में देव नज़र आ रहा था। देव अपनी भतीजी पर जान भी तो छिड़कता था।।
  लाली भी पारो से मिल कर प्रसन्न थी, उसे पारो में उसके देव काका दिखाई दे रहे थे…-” पारो एक बात पूछूं”

” हाँ पूछ ना? “

Advertisements

” तुम वापस पढ़ाई क्यों नही शुरू कर देती? “

पारो अनमनी सी लाली को देखने लगी..-” अपने घर के रीति रिवाजों से तो परीचित हो भली तरह। जब तक देव बाबू थे फिर भी किसी तरह सम्भव था लेकिन अब पारो का पढना एक तरह से असंभव है!”
   जवाब आनन्दी ने दिया । जवाब कड़वा ज़रूर था पर सत्य था। घर में पहले भी देव ने चोरी छिपे ही पारो को पढ़ने में मदद की थी और अब उसके जाने के बाद पारो में भी वो उत्साह कम दिख रहा था।

” आप कह तो सहीं रहीं हैं बऊ दी , लेकिन पढेंगी लिखेगी तो मन लगा रहेगा। वरना करेगी क्या दिन भर?”..

  लाली की बात सुन पारो की आंखों में पानी भर आया। आनन्दी भी पारो को देख दुख में डूब गई। तीनों औरतें कुछ पलों को चुप रह गईं की क्या किया जाए क्या नही… उसी वक्त कहीं से घूम घाम कर लौटा दर्शन भी ऊपर ही चला आया…-” ये लो दर्शन चला आया। सुन तू ही पारो की मदद क्यों नही कर देता पढ़ने लिखने में। थोड़ा उसका भी मन लगा रहेगा।”

” तो मैंने कब मना किया ? बऊ दी जब चाहें पढ़ लें। मैं इन्हें पढ़ाने में पूरी मदद कर दूंगा।”

“पर मदद सबसे छिप कर करनी होगी दर्शन बाबू। अगर घर भर को पता चल गया तो एक और नई मुसीबत हो जाएगी।”
  आनन्दी की बात पर दर्शन ने भी हामी भर दी….
पारो का अब किसी काम में मन नही लगता था। न रसोई में न पढ़ाई में। उसे अब सारा सारा दिन देव के बारे में सोचना ही बस भाता था। खिड़की की बल्लियां पकड़े खड़े वो देव में खोई रहती।
  पर घर की बाकी औरतों को ये कैसे सहन होता। आखिर उनके भी अपने दुख थे। तो अकेली पारो को ही गमगीन रहने का अवसर क्यों मिले भला? जब बेटा खो कर भी माँ कामधाम में लगी है?
  आखिर देव की माँ ने पारो को भी गृहस्थी के जंजाल में वापस बुला लिया। अब सुबह उठ कर आंगन को पानी से धो कर पारो घर भर के लिए चाय चढ़ा कर फिर नहाने चली जाती। नहा कर आने के बाद ठाकुर माँ  के पूजा पाठ का सरंजाम जुटाने के बाद एक बार फिर रसोई बनाने में डूब जाती। दोपहर सबके खाने पीने के बाद ही उसे छुट्टी मिलती। तब कुछ देर को अपने कमरे में आराम करने का मौका उसे मिल पाता। हालांकि दोपहर सोने की आदत न होने से वो दर्शन की दी हुई किताबें पढ़ने लगती।
  अक्सर किताब के सबसे रस भरे अध्याय में डूबी होती कि नीचे से शाम की चाय बना लेने की पुकार चली आती और वो अपनी किताब बंद कर नीचे भाग जाती।
  वो इतना काम करते हुए भी नही थकती क्योंकि अब उसे देव की माँ में अपनी सास कम और देव की माँ का अंश अधिक नज़र आने लगा था। अब उसे उस सारे घर से प्यार हो गया था। वो प्यार जिसका अधिकारी जा चुका था उसके उस अधिकार को उसके प्यार को अब पारो उसके घर और सम्बन्धों पर लुटा देना चाहती थी। वैसे भी अब इसके अलावा उसके जीवन में और बचा क्या था?
   देव के बाबा का अब वो और ज्यादा खयाल रखती। बिल्कुल जैसे वो सुबह नाश्ते के बाद और रात खाने के बाद कि गोलियां उन्हें निकाल कर दिया करता वैसे ही वो गोलियां निकाल उनकी टेबल पर पानी के गिलास के साथ रख आती।
   और वो धीमे से अपने चश्मे पर चढ़ आई भाप को चुपके से साफ कर लेते।
  ठाकुर माँ को शाम में बैठ कर सुखसागर पढ़ कर सुनाती बिल्कुल जैसे वो सुनाया करता था। माँ की कही हर बात वैसे ही जी जान से लग कर पूरा करती जैसे वो किया करता था लेकिन बस एक ही जगह वो चूक जाती…
   जहाँ खुद से प्यार करने की बारी आती वो लाचारगी से खिड़की पर खड़ी खुद पर तरस खा कर रह जाती। उसे तो वो टूट कर चाहता था, उसका प्यार जब तब वो महसूस कर पाती थी लेकिन न कभी उसने खुल कर कहा और न पारो ने ही उससे खुल कर कहने कहा लेकिन समझते तो दोनो ही थे।
  कितनी कोमलता थी देव के प्यार में। उसे छूता भी ऐसे था कि कहीं वो मैली न हो जाये और आज उसे इस अनजान सी दुनिया में अनछुआ अकेला तड़पता छोड़ गया था।
अब जब उसे शादी प्यार पति पत्नी के सम्बन्धो के बारे में थोड़ा बहुत मालूम चलने लगा तब वो ही चला गया।
  यही सोचती कभी कभी वो एकदम गुमसुम रह जाती तो कभी रोते रोते उसकी हिचकियाँ बंध जाती।
    लेकिन अब उसे सासु माँ अधिकतर समय काम में भिड़ाये रखती जिससे वो सुकून से कमरे में बैठ रो भी नही पाती थी।
  ऐसे ही एक शाम वो अपनी खिड़की पर खड़ी बाहर डूबते सूरज को देख रही थी कि उसकी सास और बड़ी बुआ अंदर चली आयी…-” क्या देख रही है पारो? “वो चौन्क कर मुड़ी और माँ के साथ बड़ी माँ और बुआ को भी आया देख चुप खड़ी रह गयी।
“दिन भर ऊपर अकेली पड़ी पड़ी उकता नही जाती हो? नीचे चली आया करो। हम सब के साथ बैठोगी तो अच्छा लगेगा न। “
  हाँ में सिर हिला कर वो ज़मीन पर अपने पैर के अंगूठे से गुणा भाग के चिह्न बनाती रही।
  वो तीनों एक साथ उसके कमरे में क्या सचमुच उसकी चिंता में ही चली आयीं थीं ? पारो सोच नही पा रही थी। पर जाने क्यों आज इतने दिनों में पहली बार उसे उसकी सास के चेहरे पर खुद के लिए एक अलग सी ममता दिखी थी। फिर भी वो उस वक्त उनके भावों का अर्थ नही जान पायी…
   बड़ी बुआ ने बोलना जारी रखा…-”  बेटा पारो ! तुझे ऐसे अकेले ऊपर अब छोड़ा नही जाता। वैसे भी इतने बड़े कमरे में अकेले घबराहट सी होती होगी न। ऐसा करना अपना सामान कल नीचे ठाकुर माँ के कमरे में रख लेना।
   उनका कमरा बड़ा भी बहुत है। उसी में एक ओर तेरे लिए खाट भी पड़ जाएगी, और तेरी ठाकुर माँ के साथ रहने पर तुझे अकेले डर भी न लगेगा।”
  पारो का जी किया कि चिल्ला के कह दे कि मुझे अभी भी किसी से डर नही लगता। और मैं ये कमरा छोड़ कही नही जाऊंगी। लेकिन देव जाते जाते उसकी ज़बान उसकी बोली भी अपने साथ ले गया था।
  वो चुप खड़ी रही।

” क्यों बऊ दी मैं गलत कह रही हूँ क्या? इतने बड़े पलंग का और इतने बड़े कमरे का अब इसे क्या काम?वैसे भी अब इसे पलंग पर नही खाट पर सोना चाहिए। पुराने लोग तो ज़मीन पर सोने कहते थे, पर चलो हम लोग वैसे पुराने खयालों वाले नही हैं। दूसरी बात यह नीचे माँ के साथ रहेगी तो उन्हें भी आसरा हो जाएगा। रात बरात कभी पानी पीना है कभी बाथरूम जाना है आखिर कोई तो साथ रहेगा। और फिर बऊ दी तुम्हें माँ के लिए नर्स रखने की भी ज़रूरत न होगी। अरे जब घर की बहु नहला धुला सकती है तो इसी काम के लिए पैसे बहाने की क्या ज़रूरत?”

पारो ने बड़ी मुश्किल से आँख उठा कर अपनी सास को देखा उन्होंने उससे नज़रे चुरा लीं। पारो समझ गयी देव के न रहने पर शोक जताने आयी बड़ी बुआ इसी घर में अपना पक्का आवास बनाना चाह रहीं थीं। एक ही लड़का था उनका, जो पढ़ लिख नही पाया था। वो पहले भी एक बार देव से उसे अपने साथ काम सिखाने कह चुकी थी लेकिन अब तो लग रहा था वो उसे देव की दुकान पर ही बैठाने के मंसूबे लिए आयीं थीं। क्योंकि सारे काज निपटने के बाद जब उनके पतिदेव ने उनसे भी वापस चलने की बात कही तो उन्होंने कुछ दिन बाद आने की बात कह कर उन्हें अकेले ही भेज दिया था। उनके पति पोस्टमास्टर रह कर रिटायर हुए थे इसी से कुछ खास आमद थी नही पर मायके की सम्पन्नता उनकी आंखें चौन्धिया जाती थी।

  जबसे वो यहाँ आई थी कोई न कोई तिकतिक लगाये ही रहतीं। कभी उन्हें माछ में सरसों की झाल कम लगती तो कभी मिष्टी दोई में मीठा। कुल मिलाकर वो किसी से संतुष्ट नही थीं। पारो से तो कतई नही।
  अब आज वो एक तरह से पारो का कमरा हथियाने चली आयी थीं। पारो ने एक नज़र सासु माँ पर डाली उनके चेहरे पर कष्ट की हल्की सी छाया आकर गुज़र गयी, अपनी भावनाओं पर अपने गुस्से को जबरदस्ती लादती वो भी अपनी ननंद के सुरों में सुर मिलाने लगी…-“ठीक ही तो कह रहीं है दीदी। तुम इतने बड़े कमरे में घबराओगी ही,इससे अच्छा है वहीं नीचे रहोगी तो माँ को वक्त पर कुछ ज़रूरत हो तो तुम कर सकोगी। वैसे भी अब तुम्हारे जीवन में और बचा ही क्या है? “

  ” ऐसा क्यों बोल रहीं है काकी माँ! उसका पूरा जीवन बचा है और जीवन से अनमोल क्या है भला? वो भी अपने जीवन को किसी सुंदर और सार्थक कार्य में लगा सकती है। अपने जीवन को एक सुंदर आकार दे सकती हैं। आखिर भगवान ने तो हमें अकेला ही पैदा किया है,रिश्ते नाते तो हम जोड़ते चले जातें हैं। और फिर उन्हीं नातों में अपना जीवन ढूंढने लगते हैं ये सोचे बिना की उस ऊपर वाले ने हमें क्यों पैदा किया…”


  
    आनन्दी अपनी लय में बोलती चली जा रही थी, की उसकी सास ने उसे टोक दिया…-“तुम्हारे जितना दिमाग हम लोगों के पास तो है नही बऊ माँ! कनकलता दीदी घर पर सबसे बड़ी हैं, ये अपना घर छोड़ हमारे यहाँ दुख के समय में खड़ी हैं, हम सब के साथ। इनका सम्मान करना भी हमारा ही धर्म है। नीचे उनके लिए अलग से कोई कमरा नही है। माँ और बेटा दो लोग हैं। इस इतने बड़े कमरे में आराम से रह सकतें हैं। पारो का क्या है कुछ दिन ठाकुर माँ के कमरे में रह जायेगी तो क्या बिगड़ जायेगा। नीचे हम सब भी तो साथ होंगे।
   और फिर दीदी के जाने के बाद तो कमरा देव का ही है, पारो को मिल ही जायेगा।”

Advertisements

  अपनी सास के सामने आनन्दी कम ही बोलती थी, लेकिन आज उसका धैर्य चूक गया था। उसे बुआ जी के वहाँ रहने से कोई परेशानी नही थी, लेकिन उनका बात-बात पर घर परिवार के मामले में दखल देना उसे अखर जाता था।
   पर अब सासु माँ की तीखी आँखों के चाबुक ने उसे एक किनारे चुप खड़ा रहने की ताकीद कर दी थी। वो चुप खड़ी पारो को देख रही थी…-” जी ठीक है, मैं रात तक अपनी जरूरत का सामना लेकर नीचे चली जाऊंगी। ” पारो ने कह तो दिया लेकिन वो उन सब से और क्या कहती कि जब वो अपनी सास तक में अपने पति को देख पा रही थी तो इस कमरे में तो कितनी अनगिनत यादें गुंथी पड़ी थी। इसी खिड़की की बल्लियों पर उसके हाथों के निशान थे, जिन्हें पकड़ कर खड़ी वो यही महसूस करती की उसका हाथ देव के हाथों पर हैं। जिस तकिए पर वो सिर रखता था, जिस चादर को वो ओढता था, जिस तौलिए को काम में लाता था, वो सारी अनमोल धरोहरों को साथ ले पारो नीचे चली गयी। ठाकुर माँ के कमरे में एक ओर उसके लिए एक पुरानी चारपाई डाल दी गयी।
   उसमें एक पतले से रुई के गद्दे पर तकिया डाले जब वो रात में लेटी तो उसकी आंखें झर झर बहने लगीं… कहाँ देव के सामने वो अकेले उस हिंडोले से पलंग पर अकेली सोती थी। उन रेशमी चादरों मखमली तकियों के बाद आज ये पतला गद्दा उतना नही चुभ रहा था जितना देव का ऐसे चला जाना।
   किसी एक व्यक्ति के चले जाने से संसार कैसा वीरान और सूना हो जाता है, पारो महसूस कर रही थी। और सोचते सोचते अचानक एक बात उसके दिमाग में आई की क्या अगर वो देव की जगह मर जाती तो देव का जीवन भी ऐसा ही कठिन हो जाता? या उसके जीवन में कुछ और तरह की बातें होतीं।
  सभी तरह की बातें सोचती वो सो गई।
       रात उसे ऐसा लगा जैसे देव की उंगलियां उस पर चल रहीं हैं। चेहरे पर से फिसलती उंगलियां गले से नीचे उतरने को थीं कि नींद में भी उसे याद आ गया कि देव तो अब है नही फिर ये कौन था। वो चौन्क कर उठ बैठी। खिड़की पर कुछ सरसराहट सी हुई और सब कुछ एकदम शांत हो गया।
  उसकी खाट खिड़की से लगी हुई थी, उसने बैठे बैठे ही बाहर झांक कर देखा, बाहर कोई नज़र नही आया। तब क्या वो सच में सपने में देव को ही महसूस कर रही थी, या फिर खिड़की से किसी ने अपना हाथ अंदर डाल रखा था?
  पर कौन हो सकता था वहाँ इस वक्त? उसके बदन में एक झुरझुरी सी दौड़ गयी… उसके बाद वो रात उसकी आँखों ही आंखों में कट गई…रात बीत गयी, सुबह हो गयी लेकिन वो रात की बात किसी से कह न सकी।

Advertisements

   दिन बीत रहे थे। लाली भी कुछ दिन मायके रह कर वापस चली गयी थी। अब घर भर में दो ही लोग थे जिन्हें पारो की चिंता थी, एक आनन्दी और दूसरी ठाकुर माँ। उन्हें हमेशा पारो को देख कर यही लगता कि उसकी इस हालत की ज़िम्मेदार वो खुद हैं। ना वो देव को अपने साथ लेकर जाती और न देव के साथ ये हादसा होता।
   पर घर भर की सबसे बुज़ुर्ग होने पर भी कई बातों में उनकी भी नही चलती थी। जो नियम थे वो तो थे ही।
   आनन्दी ने दर्शन से कह कर पारो को पढ़ने के लिए किताबें दिलवानी शुरू कर दी थीं। अब दोपहर में पारो ठाकुर माँ के कमरे में एक किनारे बैठी किताबें पढ़ती रहती।
   और कभी जब दर्शन उससे किसी पढ़े गए पद की व्याख्या पूछता या उसे गलत बताता तो वो उसे सहीं कर देती।
  एक शाम वो बाहर से आते हुए ढेर सारे अमरूद ले आया। नीचे आंगन में बैठी पारो कोई काम कर रही थी कि पीछे से आकर उसने उसकी झोली में अमरूद डाल दिए। चौन्क कर दर्शन को देख पारो मुस्कुरा उठी। उसके मन के अंदर कहीं छिपी बैठी लड़की मुस्कुरा उठी। वो सारे अमरूद समेट कर रसोई की तरफ जाने लगी…-” अरे कहाँ चल दीं सारे अमरूद समेट कर? क्या हम लोगों को एक भी न दोगी? “
  दर्शन के सवाल पर वो पलट कर थम गई…-“सारे ही तुम्हारे हैं। मैं तो अंदर धोने लेकर जा रही थी। “
   ” मैं क्या जानूं? मुझे तो लगा तुम अकेली ही खा लोगी!”
   ” इतनी भुक्खड़ लगती हूँ तुम्हें”  हँस कर उसे घूरती पारो आगे बढ़ने लगी कि उसके सिर पर पीछे से एक टपली मार दर्शन सीढ़ियों पर भागता हुआ चढ़ गया, और उसकी टपली का जवाब देने आँचल से सारे अमरूद फेंक कर पारो उसके पीछे दौड़ पड़ी। बड़े दिनों बाद पारो ने जतन से जिस बावली सी लड़की को अपने भीतर छिपा रखा था बाहर आ गयी।
  ” अरे सम्भल के ! फिसल न जाना तुम दोनों। ” आनन्दी दोनो की चुलहबाज़ी देखती मुस्कुराती हुई अपने आँचल से अपना हाथ पोंछती रसोई में चली गयी, और उसकी बात पर वहीं आंगन में बैठी बुआ जी ज़हर बुझा तीर छोड़ गई…-” समय रहते इन्हें न रोका तो फिसल ही तो जाएंगे। “
   वही बैठ कर चांवल चुनती पारो की सास का जी धक से रह गया, उन्होंने साथ बैठी अपनी जेठानी की ओर देखा, उनकी अनुभवी आंखों में भी चिंता की रेखाएं नज़र आने लगीं थीं…..

Advertisements

क्रमशः

aparna…..

Advertisements

दिल से …..

     समाज के कायदे कौन बनाता है? कौन हैं वो समाज के ठेकेदार जिन्होंने औरतों के लिए अलग और मर्दों के लिए अलग नियम बना रखें हैं।
  हम कितना भी लिख पढ़ जाएं , कितने भी आगे निकल जाएं लेकिन अब भी बिना पति के एक औरत का जीवन उतना सुगम और सहज नही हो पाया है। दुर्भाग्यवश अगर जीवनसाथी बिछड़ जाएं या अलग हो जाएं तो इसमें किसी का कोई दोष तो नही फिर क्यों उसके साथ ऐसा सुलूक किया जाता है कि उसका दुख कम होने की जगह और बढ़ता चला जाता है।


   काश लोग फ़िज़ूल नियमों की जगह एक ही नियम प्रेम का नियम मान लें तो किसी का दुख समाप्त भले न कर सकें कुछ हद तक कम तो ज़रूर कर पाएंगे।
  
     आगे के भाग हो सकता है पढ़ने में थोड़े और तकलीफदेह हों लेकिन अगर कृष्ण दुख देते हैं तो उससे उबारने वाले भी वहीं हैं।

Advertisements

  आपका सभी का हार्दिक आभार व्यक्त करती हूँ। आप मुझे पढ़ते हैं सराहतें हैं, दिल से शुक्रिया नवाज़िश!!!

Advertisements

aparna…


 

बहुत नाइंसाफी है…

Advertisements

मनचाहा पति पाने के लिए –
हरतालिका, तीज, करवाचौथ, सावन सोमवार, शिवरात्रि व्रत आदि।।

और मनचाही पत्नी पाने के लिए —
CAT, UPSC, NEET, GRE, GMAT आदि।।

बहुत नाइंसाफी है ।।।

🤔🤔🙄🙄

Copy paste

ओ स्त्री!!!

Advertisements

पुरुष के मन मस्तिष्क
शब्द हृदय
हर जगह छाई हो।
ओ स्त्री!!!
तुम कहाँ से आई हो?

वो कहता है
मैंने तुझे पंख दिए।
परवाज़ दिए
उड़ लो, जितना मैं चाहूं
ओ स्त्री !!!
क्या तुम उसकी मोहताज हो?

Advertisements

उसका घरौंदा बनाया
तिनका तिनका सजाया
पर जब वक्त आया तुम्हारा
उसने तुम्हें
अपने पैरों पे गिराया
ओ स्त्री!!!
तुम कैसे उसकी सरताज हो?

वो बेबाक है बिंदास है
जो जी में आये
करने को आज़ाद है
कूबत तो तुम्हारी भी है
फिर
ओ स्त्री!!!
तुम क्यों हर मर्तबा
झुकने को तैयार हो?

Advertisements

कभी ये ना पहनो
का अधिकार
कभी ऐसे न बोलो
का अहंकार
पर हर दफा उसकी
सुन कर चुप
रह जाने वाली
ओ स्त्री!!!
तुम खुद में एक अंगार हो

क्यों जानती नही,
तुम खुद को मानती नही
वो ‘मैं’ में अड़ा रहता है,
क्यों  पहचानती नही?
तुम खुद को घोल घोल
ज़िन्दगी को पी गयी
ओ स्त्री !!!
तुम स्वयं एक संसार हो…

Advertisements

  To be continued …..

आप सब चाहें तो मेरी इस रचना को अपने शब्दों से सजा कर आगे बढ़ा सकतें हैं…. ” ओ स्त्री!!”
  बिंदास लिखिए
   बेबाक लिखिए..

  क्योंकि..
कलम को जितना चला लो ये शिकायत नही करती…

Advertisements

aparna…


लड़कियाँ

आंसूओं को छिपाने के लिए

जबरन मुस्कुराती लड़कियाँ….

दिल के दर्द को, बस यूं ही

हंसी में उड़ाती लड़कियाँ…

दिन भर खट कर पिस कर

तुम करती क्या हो सुन कर भी

चुप रह जाने वाली लड़कियां

Advertisements

बाप की खुशी के लिए

अपना प्यार ठुकराती लड़कियां….

भाई की सम्पन्नता के लिए

जायदाद से मुहँ मोड़ जाती लड़कियां….

पति के सम्मान के लिए

अपना घर द्वार खुशी छोड़ जाती लड़कियां….

बच्चों को बढ़ाने के लिए

ऊंची नौकरी को लात मार जाती लड़कियां…

Advertisements

डूबते से संसार की

अजूबी सी ये लड़कियां

जाने कब किस जगह इनकी मुस्काने

छिन जाएंगी…

उन बेपरवाह हंसी के गुब्बारों से

खुद को सजाती ये लड़कियां….

इन लड़कियों का जहान कुछ अलग सा होता है

इतनी आसानी से कैसे समझ पाओगे इन्हें

की क्या होती हैं ये लड़कियां!!!

aparna …

Once in a blue moon!!!

Once in a blue moon – रिश्ता.कॉम

Advertisements

    डिनर की प्लेट इन्हें थमा कर मैं वापस रसोई की ओर मुड़ गयी, रसोई साफ़ करने और बरतन धोने।।…..
 
     हम औरतें काम भी सारा ऐसे करती हैं जैसे कोई जंग लड़ रही हों, हाथ काम निपटाते हैं और दिमाग में युद्ध चलता रहता है, कभी सामने वाली पड़ोसन की लाल लपटें मारती नयी साड़ी, कभी सास बहू का ना देख पाया सिरियल, कभी सखी सहेलियों का फॉरेन ट्रिप तो कभी किसी खास मौके पर मायके ना जाने पाने की पीड़ा….

    लेकिन अभी तो वक्त ऐसा चल रहा कि हर औरत के दिमाग में एक ही शमशीर लहरा रही है__ हे प्रभु और कितना काम करवाओगे?? कब खुलेगा लॉकडाऊन? कब दर्शन देगी वो जिसे देखने की राह तकते तकते आंखें पथराने लगी हैं।। इतना ढ़ेर सारा काम तो अपनी आज तक की जिंदगी में कुल जमा नही किया होगा जितना इन एक महिने में कर लिया, भगवान जाने ये कोरोना हम औरतों से किस जनम का बदला ले रहा है??

    यही सब सोचते हुए मैं भी काम में लगी रहती हूँ, लेकिन इसके साथ ही पतिदेव को आराम से सोफे पर पैर पसारे हाथ में थामे रिमोट के साथ मटरगश्ती करते देख अन्दर से सुलग जाती हूँ __ इन्हीं का जीवन सही है, कोई फेर बदल नही हुआ, उल्टा वर्क फ्रॉम होम के नाम पर जल्दी उठने और भागादौड़ी से राहत मिल गयी, कोई मदद नही करेंगे बस सोफे पर लेटे लेटे ऑर्डर पास करतें जायेंगे__” मैडम समोसे खाये बहुत दिन हो गये ना? तुम बनाती भी अच्छा हो, आज शाम ट्राई कर लो फिर!!

  कभी कहेंगे __” सुनो इतना बड़ा सा तरबूज़ ले आया हूँ, सड़ा कर फेंक मत देना, ना खा पाओ तो सुबह शाम मुझे जूस बना कर दे देना”

   अब झाड़ू पोन्छा बरतन कपड़े से कुछ राहत मिले तब तो कोई एक्स्ट्रा काम करे, उस पर इनकी फ़रमाइशें…..

बेचारे फ़रमाइश एक दिन करतें हैं और उसे पूरी कर मैं सात दिन तक उसको पूरा करने की पीड़ा में सुलगती हूँ …..

Advertisements

  ऐसी ही किसी बिल्कुल ही फ़िज़ूल सी इनकी इच्छा पर मेरे दिल दिमाग में द्वंद चल रहा था और मैं समेट कर सारे धोने लायक बरतन सिंक में जमा कर चुकी थी कि  साहब अपनी प्लेट थामे रसोई में चले आये__ “पनीर पसन्दा बनाने में तुम्हारा कोई जवाब नही, बहुत यमी था, अरे इतने बरतन , लाओ आज मैं साफ़ कर देता हूँ “

   पहला तो खाने की तारीफ कर दी और दूजा मेरे हाथ से धोने के लिये थामी कटोरी छीन ली…..

   ” जाओ जाओ तुम भी खाना खा लो, मैं ये सब निपटाता हूँ ।”

   हाय कहाँ संभालू इतना प्यार……. मैंने प्यार भरे गुस्से से इन्हें देखा और कटोरी वापस ले ली__

  ” आप भी ना!!! जाओ आप न्यूज़ देखो मैं ये ज़रा से तो बरतन हैं , निपटा कर आती हूँ “
   एक तरह से धकिया कर मैने इन्हें रसोई से बाहर कर दिया….. ये काउच पे मैं रसोई में , कुछ देर पहले दिमाग में जो ज्वालामुखी फटने को तैयार था वहाँ मनभावन सावन की बूंदे बरस कर उसे शांत कर चुकी थी, अपने मोबाईल पर अपने पसंदीदा गानों को सेट कर मैंने चलाया और मुस्कुराते हुए काम पर लगा गयी__

   ” मेरे यारा तेरे सदके इश्क सीखा,
         मैं तो आई जग तज के इश्क सीखा,
               जब यार करे परवाह मेरी…..”

  मधुर रोमांटिक गानों के साथ बरतन धोने का मज़ा ही अलग है, बरतन धो कर पोंछ कर करीने से जमा कर , सारा सब कुछ यथावत कर अपनी चमकीली रसोई की नज़र उतार ली।

       चेहरे पर एक मुस्कान चली आयी, काम कुछ किया नही बस मुझे रिझा कर सब करवा लिया…… साहब भी ना पक्के मैनेजर हैं , इन्हें अच्छे से पता है किस लेबर से कब और कैसे काम  निकलवाना है , अब प्राईवेट सेक्टर के बंदे लेबर से कम तो होते नही और उनके सर पर बैठे मैनेजर ठेकेदार!! खैर …..

मैंने  अपनी प्लेट लगाने के लिये केसरोल खोला कि देखा रोटी तो है ही नही__उस समय ये सोच कर नही सेंकी थी कि काम निपटा कर गरमा गरम फुल्के सेंक लूंगी, पर अब मन खट्टा सा हो रहा था, एक ही तो रोटी खानी है , सेंकू या रहने दूँ, दूध ही पीकर सो जाऊंगी…..दिमाग का ज्वालामुखी वापस प्रस्फ़ुटित होने जा ही रहा था कि साहब वापस रसोई में चले आये__
      ”  लाओ ये बेलन दो मेरे हाथ में ” मैं इनकी बात समझ पाती कि तब तक ये मेरे हाथों से बेलन ले चुके थे….

” अब तुम जाओ मैडम!! जाकर सोफे पर आराम फर्माओ, मैं तुम्हारी थाली परोस कर लाता हूँ ।”
    मेरे कुछ कहने से पहले एक तरह से जबर्दस्ती धकिया के इन्होंने मुझे अपने आसन पर बैठा दिया और खुद गुनगुनाते हुए रसोई की ओर चल पड़े

Advertisements

  ” रोज़ तो तुम्हारा खाना ठंडा हो जाता है, आज मेरे हाथ से गरमा गरम फुल्के खा ही लो।”

  ” पर सुनो एक ही बनाना!!”

  ” क्यों?? आज के लिये ये कैलरी काउंटींग छोड़ो, एक की जगह तीन रोटियाँ ना खा ली तो मेरा नाम बदल देना।”

   कुछ इनकी रसीली बातें और कुछ गरम स्वाद भरा खाना , मैं सच थोड़ा ज्यादा ही खा गयी, चेहरे पर बिल्कुल वही संतुष्टी थी जो दिन भर थक हार के काम से लौटे मजदूर के हाथ में रोटी होने से होती है…..

    पर दिल के आगे एक दिमाग भी है, जिसने तुरंत सोचना शुरु कर दिया था, पर उसी समय मैंने मन ही मन एक छोटी सी कसम ले ली कि ऐसी शानदार थाली परोसने के बदले में पतिदेव ने किचन स्लैब और गैस चूल्हे का जो सत्यानाश किया होगा चुपचाप बिना किसी हील हुज्जत के झेल लूंगी, एक बार फिर सफाई कर लूंगी लेकिन इनके इतने ढ़ेर सारे प्यार के बदले कोई ज़हर नही उगलूंगी…..
     अपनी कसम मन ही मन दुहराती प्लेट रखने रसोई में आयी की मेरी आंखे फटी की फटी रह गईं…….

…..ये क्या मेरे स्वामी तो लिक्विड सोप स्प्रे कर कर के स्लैब को रगड़ रगड़ कर साफ़ कर चुके थे, सारा काम समेट कर गुनगुनाते हुए वो हाथ धो रहे थे, पूरे 20 सैकेण्ड से और मैं उन्हें देखती सोच रहीं थी__

   हाय मैं वारी जांवा , शायद इसे ही कहतें हैं once in a blue moon……….

aparna…..

मैं मैं हूँ!! जब तक तुम तुम हो!

Advertisements

मैं,मैं हूँ! जब तक तुम,तुम हो !

तुमसे सारे रंग रंगीले
तुमसे सारे साज सजीले,
नैनों की सब धूप छाँव तुम,
होठों की मुस्कान तुम ही हो।
मैं,मैं हूँ! जब तक तुम,तुम हो !

तुमसे प्रीत के सारे मौसम
तुमसे सूत,तुम ही से रेशम
तुमसे लाली,तुमसे कंगन,
मन उपवन के राग तुम ही हो
मैं,मैं हूँ! जब तक तुम,तुम हो !

जीवन का यह सार तुम्हारा,
मेरा सब संसार तुम्हारा,
गुण अवगुण मेरे सब जानो,
मुझमे बसे मेरे प्राण तुम ही हो।
मैं,मैं हूँ! जब तक तुम,तुम हो !।।

शादी.कॉम -9

Advertisements

  …………..

     बांसुरी के प्लान के मुताबिक राजा ने प्रेम के घर पे और बांसुरी ने निरमा के घर पे जाकर बात की,पर उम्म्मीद के विपरीत दोनों ही घर की अम्मा लोंगो ने और बड़ी बड़ी कसमें किरिया उठा ली कि,”हमरे जीते जी ई ब्याह ना हो सकब,हमरी ठठरी उठ जाये के बाद अपन अपन मर्ज़ी से निबटा लो जो करना धरना है,एक बार सादी हुई जाये फिर आटे दाल का भाव पता चल जई ।।”

    निरमा के घर से बाहर निकलने पे पूरी तरह से रोक लगा दिया गया,अब बेचारी कॉलेज भी जाती तो उसका एक नकारा मामा उसे लेने और छोड़ने जाता और बेचारी जब तक कॉलेज में रहती वो गेट के बाहर की गुमटी में अपना अड्डा जमाये रहता, उसके इस मामा के पास कोई विशेष कार्य भी नही था,जुआ खेल खेल के अपने बाप को पैसों को स्वाहा कर रहा था,जब उसके बाप यानी निरमा के नाना को इस बात का पता चला तो लात घुन्सों से अच्छी तरह आरती उतार कर उसे घर से निकाल दिया ,और वो अपने में झूमता बीड़ी पीता अपनी जिज्जी के घर आ गया,जिज्जी ने रो धोकर जीजा को उसके यहाँ रहने के लिये मना लिया,तब से मामा जी का निवास यही था,अपने जीजा को भरोसे में लेने के लिये आये दिन कोई ना कोई जुगाड भिड़ाता फिरता और आखिर वो मौका मिल ही गया ,जब बांसुरी ने निरमा की प्रेम कहानी के बारे में उसकी अम्मा को बताया तब सबसे ज्यादा उछल उछल कर घर की बदनामी की फिकर करने वाले मामा ने अपनी बडी बहन को भड़का भड़का कर भांजी का कॉलेज बन्द करा दिया,,बाद में चुपके से भांजी से पैसे वसूल कर उसे कॉलेज जाने की अनुमती दिला दी और जिज्जी से भांजी को रोज कॉलेज छोड़ने लाने के बदले मेहनताना वसूला जाने लगा।।

  इस पूरे प्रकरण को लगभग 40-45दिन बीत गये,बंसी का जिम यथावत चलता रहा ।।
     कि तभी एक दिन सुबह जिम के समय पर अचानक पिंकी फिर जिम पहुंच गई ___

    “प्रिंस !!! भैय्या जी कहाँ है?? जल्दी बुलाओ!!”

   “भैय्या जी तो प्रोटीन पाउडर खरीदने गये हैं,दीदी आप ऑफिस में बैठिए भैय्या जी आते ही होंगे।।”

Advertisements

  पिंकी ऑफिस पहुंची तो अन्दर बाँसुरी बैठी कुछ लिख रही थी,पूरी तन्मयता से__
     “क्या लिख रही हो बंसी?? इतना खो कर??”

  “अरे दीदी आप !! आप कब आई? ? मैं राजा के लिये कठिन सवालों को अलग छान्ट कर उनके जवाब तैय्यार कर रही हूं,बस ये याद कर लेने से पेपर पास करने में दिक्कत नही होगी।।”

“Very good बंसी!!! तुम पहले से थोड़ी दुबली भी लग रही हो,कुछ वजन तो कम हो ही गया है तुम्हारा।”

” हाँ लगभग साढे तीन से चार किलो कम कर लिया है इन्होनें ।।”राजा ने दरवाजा खोल ऑफिस में प्रवेश करते हुए जवाब दिया,

  बांसुरी ने पलट के राजा को सवालिया नजरों से देखा “पर हमने तो नापा ही नही,तुम्हें कैसे पता चला।।

“भैय्या जी की आंखो मे एक्स रे मशीन फिट है,किस लड़की का कितना वजन बढा कितना घटा सिर्फ देख कर ही बता लेते हैं भैय्या जी”प्रिंस अनजाने में कुछ भी मूर्खता पूर्ण अतिशयोक्ति कर जाता था

“अबे बौरा गये हो का बे!! कुछो भी बकते हो! पिंकी तुम अभी कैसे यहाँ आई,,घर में सब ठीक है ना??”

“कहाँ ठीक है भैय्या!!! वही तो बताने आये हैं,अभी सबेरे भाभी के पापा का फ़ोन आया था,वो लोग हमारी सगाई की तारीख पक्की कर दिये हैं,आज से ठीक पन्द्रह दिन बाद हमारी सगाई है,,,और आप अभी तक बड़े भैय्या से भी बात नही कर पाये।।”

“अरे ई तो नया काण्ड हुई गया!! तुम तो जानती हो पहले ऊ प्रेम के चक्कर में बिज़ी रहे उसके बाद ई जिम का सामान खरीदने दिल्ली चले गये इसी सब में बड़का भैय्या से बात करना रह गया ,अब रुको आजे कुछ जुगाड़ जमाते हैं भैय्या से बात करने का।”

“हम बताएँ राजा ,ऐसा करो ,कोरा बात करने से अच्छा ये है कि किसी तरह भैय्या से रतन की मुलाकात करवा दो,,मुलाकात ऐसी की भैय्या खुद प्रभावित हो जायें,और उसके बाद का प्लान हम बाद मे बताएँगे ।।”

बांसुरी के ऐसा बोलते ही राजा ने सवाल किया

“अब ऐसी कैसी मुलाकात करायें की भैय्या परभावित होई जाये,तुमही आइडिया देई दो।।”

“देखो सुनने में थोड़ा फिल्मी लगता है ,पर काम का  आइडिया है…… अभी बांसुरी बोल ही रही थी कि बीच में प्रेम कूद पड़ा

“भगवान बचाये भैय्या जी इ मुटकि के आइडिया से,हमरे लिये ऐसन खतरू आइडिया दी कि निरमा के दरसन भी दुरलभ हो गये,पहले कम से कम मिल जुल तो पाते थे,अब तो साला घर के अन्दर अम्मा ताने मार मार के जीना मुहाल की है और बाहर ऊ कनफड़े के गुंडे हमार रस्ता ताकते हैं कि कब हम उनके हाथ लगे औ ऊ हमार हड्डी मांस नोच नोच खा जायें  ।।

“प्रेम तुम चुप रहो!! इस बार हमारा आइडिया फेल नही होगा,,तुम्हारा और निरमा का भी ब्याह करायेंगे भाई चिंता ना करो।।”

“अरे काहे ना करे चिंता!! जिसके पास तुम जैसा दोस्त हो जो घरफुक्का राय दे बात बात पे, उसको चिंता छोड़ डायरेक्ट चिता मा चढ़ जाना चाही।।”

“कन्ट्रोल करो यार प्रेम !! तुम्हारा समय आयेगा ,तुम्हारा भी ब्याह हो जायेगा यार अभी बांसुरी का आइडिया सुनो!! हाँ बोलो बांसुरी तुम का बोल रही थी,कुछ फिल्मी उल्मी सा!!”

Advertisements

” हाँ सुनो!! भैय्या जब अपनी गैस एजेन्सी में बैठे होंगे,,दोपहर को जब सब लंच के लिये जायेंगे और भैय्या अकेले होंगे उसी समय चेहरे पे नकाब बांध के दो नकाबपोश उन्हें लूटने जायेंगे,,सीधे जाकर उनकी कनपटी पे बन्दूक तान देंगे और तभी रतन आयेगा और उन दोनो से लड़ के भैय्या की जान बचा लेगा।।।और जब भैय्या उसको धन्यवाद देकर नाम पूछेंगे तब रतन अपना पूरा हिस्ट्री जॉग्रफ़ी उन्हें बता देगा बस अपना पूरा नाम नही बतायेगा,, बिल्कुल ऐसा माहौल जम जाना चाहिये की भैय्या को लगे काश ये लड़का पहले मिलता तो पिंकी की शादी इसीसे तय करते।।।

“बहुत फिल्मी है बंसी!! पता नही रतन मानेगा या नही।”पिंकी ने कहा

“धमल्लो जी ये भी बता दीजिये की ये गुंडे कहाँ से किराया मा लाने वाली है आप”प्रेम ने सवाल किया

“कही से लाने की का ज़रूरत,हमारे पास आलरेडी हैं गुंडे!! तुम और प्रिंस!!”

“पर बांसुरी तुमको लग रहा ये आइडिया काम करेगा??”भैय्या जी इतनी देर में पहली बार बोले

“भैय्या जी पगलाए गये हो का,ई मोटकी कुच्छो भी बकवास कर रही और आप इसका बात सुन रहे।”प्रेम बौखला गया

“हां तो तुम ही सूझा दो प्रेम बाबु कोई आइडिया है तुम्हरे दिमाग में,,देखो हमारा आइडिया फिल्मी है पर काम ज़रूर करेगा,,पिंकी दीदी रतन को आप मना लेना ,आज ठीक डेढ़ से 2बजे के बीच उसको एजेन्सी में भेज देना कैसे भी कर के,, आगे का सब राजा संभाल लेगा,।”

“हम कैसे बांसुरी??”

Advertisements

राजा भैय्या के इस सवाल पर बाँसुरी ने उसे घूरा और __”यार हर बात तुम को समझानी पड़ती है,खाना लेकर तुम्ही जाते हो ना ,जब कभी ड्राईवर छुट्टी पर होता है,तो आज भी चले जाना और जब रतन और भैय्या जी की बात होने लगे तब तुम वहाँ पहुंच के ऐसी ऐक्टिंग करना जैसे रतन तुम्हे बड़ा पसंद आ गया ,,अब रतन वहाँ क्या करने जा रहा ,ये बताने की ज़रूरत तो नही है ना,फिर भी आप सबके लिये बता देते हैं,रतन वहाँ नया गैस कनेक्शन लेने जायेगा।।

“अब इसके आगे का प्लान भी सुन लो,राजा तुम अपनी तरफ से सिर्फ रतन की तारीफ करोगे पर पिंकी दीदी के लिये कुछ नही कहोगे उल्टा बढ़ चढ़ के सगाई की तैय्यारी मे लगे रहना, और रतन बड़के भैय्या से धीरे धीरे दोस्ती बढा लेगा।।
          जब सगाई को सिर्फ एक दिन बचेगा उस दिन तुम अपनी इस टोली के साथ चुपके से लड़के को किडनैप कर लेना,,जब सगाई के दिन भी लड़का अपने घर नही पहुंचेगा तो उसके घर वाले तुम्हारे घर फ़ोन करेंगे और माफी मांगेंगे ,तब तुम्हारे बाबूजी अपना सर पकड़ के बैठ जायेंगे क्योंकि सगाई के लिये हाल बुक हो गया है,सारे मेहमान आ गये हैं ,अब क्या किया जाये ,,तभी तुम बड़के भैय्या से कहना कि भैय्या आपका वो दोस्त जो अभी अभी आई ए एस का इंटरव्यू पास किया है उसिसे पिंकी की सगाई करा दो,,तब भैय्या बड़ी लाचारी से कहेंगे कि ऊ हमरे जात का नही है छोटे नही हम अभी इ सगाई कर देते ,लोग कहेंगे अपनी सगी बहन होती तो का ऐसे दुसरी जात में ब्याह देते तब पिंकी दीदी आयेगी और रोते हुए कहेगी भैय्या आपको जो सही लगे मैं करने को तैय्यार हूँ,आज जमाना इन्सान के काम से उसे पहचान रहा ना कि उसकी जात से,आपका दोस्त किसी भी जात का हो ,मैं तैय्यार हूँ,बस आपकी और बडे पापा की नाक नही कटनी चाहिये।।दीदी की ये बात सुनकर बड़के भैय्या खुश हो जायेंगे और जाकर आपके बाऊजी को मनाएंगे समझायेंगे और ये सगाई हो जायेगी।।”

“अरे वाह सुनने में तो अच्छा लग रहा है,पर क्या सच मे ये आइडिया काम करेगा??”

“अरे पिंकी तुमहू इसकी बतकही में आ गई,ये जैसन हमार कोल्हू पिराई है ना ,ऐसने तुम्हे भी पेर के मानेगी ,काहे इसकी बात सुनते हो यार तुम लोग।।”

Advertisements

“प्रेम चुप रहो अम्मा कसम नही धर देंगे तुमको!! अबे सही लग रहा हमको ई आइडिया,क्यों पिंकी?? लगाओ जरा रतन गुरू को फ़ोन और समझाए बुझाये दो ,हम इन दोनो लामलेट को तैय्यार करते हैं ।
   इस पूरे प्लान में बिल्कुल अनिच्छा से प्रेम को भाग लेना ही पड़ा ,पर जाने क्यों अन्दर ही अन्दर उसे किसी अनिष्ट की आशंका कंपकंपा रही थी,,खैर राजा भैय्या की खातिर नकाब चेहरे पे बांध अपनी हीरो होंडा मे प्रिंस को पीछे बैठाए प्रेम निकला, निरमा की गली से निकलते हुए बड़ी हसरत भरी निगाहों से उसने छत की ओर देखा पर वहाँ खड़ी निरमा ने प्रेम को देख कर भी अनदेखा कर दिया__
               “देखा प्रिंस उस कजरौटी की ऐसी काली नज़र लगी है की हमरी निरमा भी हमारी तरफ देख नही रही।।”
           “अबे प्रेम तुम भी पूरे उल्लू हो यार!! पहला तो चेहरे पे गमछा बांधे हो,और दूसरा उसके ऊपर हेल्मेट चढाये हो ,गाड़ी का नम्बर प्लेट भी बदल दिये हो तो भाभी चिन्हेंगी भी कैसे बे??”
 
               प्लान के मुताबिक प्रिंस और प्रेम नकाब पहन कर युवराज के ऑफिस मे दाखिल हुए ,अभी उन्होनें गन निकाल के युवराज की तरफ मोड़ी ही थी की रतन वहाँ पहुंच गया__
               “आप बिल्कुल मत घबराइये ,मैं आपको बचा लूंगा ।”रतन की बात पूरी होने के पहले एक ज़ोर का चाँटा गन तानने वाले  प्रेम के चेहरे पे पड़ा _”अरे मर गया रे ,मार डाला रे मार डाला !!! “
  चिल्लाते हुए प्रेम अपना नकाब संभाले वहाँ से भागने को हुआ पर जाते जाते भी युवराज का ज़ोर का घूंसा उसकी और प्रिंस की पीठ पर पड़ ही गया, दोनों सर पे पैर रख कर वहाँ से भागे ।।।

  रतन घबराया सा कभी युवराज को कभी जान बचा कर भागते प्रेम और प्रिंस को देख रहा था,,जब दोनो आंखों से ओझल हो गये तब युवराज का दहाड़ना बन्द हुआ,तब तक वो उन दोनो को पानी पी पी कर गालियाँ देता रहा,अब उसने रतन की तरफ देखा !! तब तक रतन यही सोचता रहा कि उसे वहाँ खड़ा रहना चाहिये या भाग जाना चाहिये।।अभी रतन कुछ कहता उसके पहले ही युवराज ने उससे उसका परिचय जानना चाहा लेकिन तभी अचानक उसे तबीयत खराब सी लगने लगी,,सीने में उठने वाले दर्द और घबराहट से वो  दिवार का सहारा लेकर खड़ा हो गया,,युवराज का चेहरा पसीने से भीग गया और कलेक्टर साहब को “जी के “में पढ़े स्ट्रोक के सिम्पटम याद आ गये,,उसने फौरन युवराज को कुर्सी पर आराम से बैठाया और युवराज की बाई गरदन पर हलके हाथों से मसाज करते हुए उसे गहरी सांसे लेने के लिये कहने लगा और फिर धीरे से उसकी रीवोल्विंग चेयर को हल्के हाथों से खींचते हुए गाड़ी तक ले गया,,,युवराज को अपनी गाड़ी में बैठा वो तुरंत अस्पताल की ओर भागा।।


 
     जब रतन की स्विफ्ट एजेन्सी के गेट से निकल रही थी,उसी समय राजा भैय्या अपनी एक्स यू वी में अन्दर दाखिल हो रहे थे,रतन का भैय्या को गाड़ी मे ले कर कहीं जाना तो प्लान का हिस्सा था नही,उन्होनें अपने छोटे से दिमाग पर बहुत ज़ोर दिया पर उन्हें बांसुरी का बताया ऐसा कोई प्लान याद नही आया…..अभी राजा सोच में डूबा खड़ा था की कान्खते कराहते प्रिंस और प्रेम नकाब हटा कर वहाँ चले आये।।

Advertisements

“हम कहे रहे ,,ई सनिचर हमरी जान की दुसमन है भैय्या जी!! हमको तो लगता है निरमा की अम्मा हमारी सुपारी दे रखी है ई बंसुरीया को,,जब देखो तब हमे मारे का प्लान बनाती रहती है।।आज तो बड़का भैय्या का हाथ से हमारा हत्या हो जाना था, ऊ तो सुबह सुबह चौकी के बजरंग बली का आसिर्वाद ले आये थे ,वर्ना अभी आप हमरी अर्थी सजाते होते।।

  प्रेम अपना दुखड़ा रो रहा था की भैय्या जी का फ़ोन बजा__’ जय हो जय हो शंकरा …..

“हेलो!! राजा बोल रहे हैं ।”

“राजा भैय्या हम रतन बोल रहे हैं,बडे भैय्या को हार्ट अटेक आया है,आप जल्दी से जल्दी सिटी हॉस्पिटल पहुंच जाइये,हम बस अभी पार्किंग मे गाड़ी डाल रहे हैं,,पहले चला रहे थे,इसलिए फ़ोन नही कर पाये,,,जल्दी आ जाईये आप !!”

“हे शिव शंकर ये क्या हो गया,चलो बैठो दोनो,अभी के अभी अस्पताल जाना है,भैय्या का तबीयत बिगड़ गया है,,,साला ई कलेक्टर उलेक्तर से रिस्ता जोडना भी रिस्की है,अब देखो ससुर गाड़ी चला रहा तो फ़ोन नई किया,हमको देरी से खबर मिली,,चलो यार प्रिंस कहाँ अटक गये तुम??”

“ऊ भैय्या जी घर मा फ़ोन करने लग गये थे।”

“किसके घर मे बे??”

“आपके औ किसके,आपकी अम्मा बाऊजी को बता रहे थे ,भैय्या को हार्ट फेल हुआ है।।”

“अबे तुम ना गधे हो एक नम्बर के,,का जरुरत रही अभी से अम्मा को बताने की ,अब ऊ वहाँ रो रो के जो रामायण गायेगी,,तुम्हरी ना ये हडबड़ी की आदत से बहुते परेसान हो गये हैं ।।”

हैरान परेशान राजा प्रिंस और प्रेम जब तक हॉस्पिटल पहुँचे तब तक में वहाँ रतन के फ़ोन से पिंकी और बांसुरी भी पहुंच चुके थे।।

   रतन ने उन्हें बताया की बड़े भैय्या को इमरजेन्सी में भर्ती करा दिया गया है,डॉक्टरों की टीम सारी जांच मे लगी हुई है,अभी किसी को भी अन्दर जाने की इजाज़त नही है।।राजा को बहुत ज्यादा परेशान देख बांसुरी उसके पास पानी की बोतल लिये आई__”पानी पी लो राजा!! और ज्यादा परेशान मत हो!! देखो भैय्या को समय पे अस्पताल तो ले आये ना ,तो अब कुछ भी बुरा तो होगा नही ।।और दुसरी बात तुम चिंता कर कर के अपनी तबीयत बिगाड़ लोगे,जबकि अभी यहाँ सारी भागदौड तुम्हें करनी है।।”अभी बांसुरी राजा से बात कर ही रही थी कि ओब्सर्वेशन रुम का दरवाजा खुला और एक जूनियर डॉक्टर बाहर निकल कर आई__

Advertisements

  “आप में से युवराज अवस्थी के साथ कौन है”

   रतन पिंकी और राजा दौड़ पड़े “हम हैं ।”

“लिजिये ये कुछ दवाएं और इन्जेक्शन ले आईये , नीचे फार्मेसी है” उस लेडी डॉक्टर ने पर्ची रतन को पकड़ा दी और फिर राजा की तरफ बड़ी गहरी नजरों से देखने लगी__”सुनो तुम राजा हो ना !! राजकुमार अवस्थी!!”

  प्रेम और प्रिंस के साथ साथ पिंकी और बांसुरी की भी आंखे फट गई,ये इतनी सुन्दर डॉक्टरनी राजा को कैसे जानती है।।

“हां हम राजा ही है!! अरे !! तुम ,,तुम तो रानी हो ना ,,अरे यहाँ कैसे ,,और हमारे भैय्या कैसे हैं,पहले ऊ बताओ।।”

“तुम्हारे भैय्या बिल्कुल ठीक है,उन्हे हाइपर ऐसिडिटी हुई थी,,जलन कुछ ज्यादा बढ़ने के कारण और गर्मी से डिहाइड्रेशन से बेहोश हो गये थे,,अब वो ठीक हैं ।।

“का मतलब भैय्या को हार्ट उर्ट अटेक नई आया।”

राजा की बात पर डॉक्टर हँस पड़ी “नही कोई हार्ट अटैक नही आया,,उनका ई सी जी और बाकी सारे टेस्ट नॉर्मल आये हैं ,,घबराने की कोई बात नही है।।
   “तुम यहाँ कैसे रानी ?? तुम तो बाहर गांव चली गई रही पढ़ने”?? राजा के सवाल पर रानी मुस्कुरा दी।।
     “हां पढ़ाई पूरी हो गई,अभी हमे इंटर्नशिप करना था,तो हमने सोचा अपने शहर से ही किया जाये ,इसलिए हम यहीं आ गये।।और बताओ तुम क्या कर रहे अभी।।”
    रानी को देख पहले ही गुलाबी हो रहे राजा भैय्या उसके सवाल पे पूरे लाल हो गये,,अब उस डॉक्टरनी  के सामने क्या बोलते कि पांच साल में भी स्कूल का साथ नही छूटा ,बेचारे जवाब सोचने में व्यस्त हो गये।।

अभी वो दोनो बात कर ही रहे थे कि पूरा का पूरा अवस्थी खानदान वहाँ पहुंच गया,,रूपा और उसकी सास एक दूसरे से होड़ लगाती तार सप्तक में लयबद्धता के साथ रो रही थी,,पिंकी ने रूपा को और बांसुरी ने रूपा की सास को सम्भाला, सब कुछ बता देने पर भी दोनो में से कोई चुप होने को राज़ी ना था ,तब बाँसुरी ने धीरे से रूपा के कान मे कहा__

    “भाभी ,भैय्या एकदम ठीक है अब आप भी शान्त हो जाइये,वैसे भी रोने से आपका काजल फैल के पूरा चेहरा को काला काला कर दिया है,, आप तो हमसे भी अधिक कलूटी लग रही है।।”

   रूपा काली और भयानक दिखने के डर से एकदम से चुप हो गई,और उसकी हालत देख उसकी सास को हँसी आ गई,और वो भी अपना रोना भूल गई ।।
       कुछ देर पहले के चिंता के बादल छंट गये और शीतल मन्द समीर बहने लगी,,डॉक्टर ने बाहर आकर सबको मरीज से मिलने की इजाज़त दे दी।।

राधेश्याम जी युवराज के पैरों की तरफ बैठे और माताजी बेटे के सिरहाने बैठी,धीरे धीरे सर सहलाने लगी__”ये सब हुआ कैसे युव ?? पर अच्छा हुआ तुम समय पे अस्पताल पहुंच गये,अरे पर तुम यहां पहुँचे कैसे ,,मतलब राजा तो हमसे कुछ मिनट पहले ही यहाँ पहुंचा था ना,तो तुम्हे यहाँ लेकर कौन आया??”

“जी बाबूजी !! एक लड़का आया था एजेन्सी में शायद कनेक्शन के लिये आया होगा,वही हमारी तबीयत बिगड़ते देखा तो फौरन अपनी गाड़ी में हमे डाल यहाँ ले आया,,हो सकता है बाहर हो,देखो तो राजा कोई दुबला पतला सा लड़का खड़ा है क्या बाहर,बुला लाओ भीतर,आँख पे चश्मा लगा था,पढा लिखा टाईप का दिख रहा था।।”

अभी युवराज ने अपनी बात पूरी भी नही की थी कि डॉक्टर रानी ने कहा__पढा लिखा टाईप का दिख नही रहा था,वो बहुत पढा लिखा है,,जी आपको अस्पताल लेकर आने वाला कोई और नही अभी अभी आई ए एस का इंटरव्यू अच्छी रैंक से पास करने वाले भावी कलेक्टर रत्नप्रकाश हैं,आप लोग मिल कर जल्दी से धन्यवाद दे दीजिये वर्ना आपके धन्यवाद देने के पहले ही कही मसूरी ना उड़ जाएँ ।।””

Advertisements

तब तक राजा रतन को अन्दर लेकर आ गया ,, राधेश्याम ने उठ कर रतन के दोनो हाथ पकड़ लिये __”बेटा कैसे धन्यवाद कहूँ आपको ,,आपने जो किया है उसके लिये धन्यवाद बहुत छोटा शब्द है,,वैसे बेटा कौन गांव के हो ,,किसके घर के हो,,हियाँ तो हम लगभग सभी को भले से जानते हैं ।।”

“अंकल जी धन्यवाद की ज़रूरत नही है,,ये तो मेरा फर्ज था,मै नही होता तो कोई और होता जो इन्हें सही समय पर अस्पताल ले आता।।””

“नही दोस्त !! तुमने वाकई बहुत उपकार किया,,कुछ समय के लिये मुझे भी लगा की मुझे हार्ट अटैक आ गया है,,अच्छा डॉक्टरनी साहिबा कह रही थी ,,तुमने आई ए एस निकाल लिया है, ये तो बहुत खुशी की बात है,ये हमारी छोटी बहन है पिंकी!!! इसका भी इंटरव्यू में हो गया है सेलेक्शन !!अच्छा है हम लोग भी सोच में थे इतनी दूर मसूरी अकेले कैसे भेजेंगे ,अब कम से कम कोई जान पहचान का तो रहेगा।।”

  युवराज के ऐसा बोल के चुप होते ही राजा जो अब तक सबसे पीछे चुपचाप खड़ा था ने अचानक अपना मुहँ खोला__” रतन गुरू !! तुम्हें तो ट्रेनिन्ग में जाने मे अभी टाईम है ना।””

“बस पन्द्रह दिन में जाना है मसूरी।।”

“हां तो हमारी बहन की सगाई तक रुक जाओ गुरू,,उसके बाद चले जाना।।”राजा की इस बात का वहाँ सभी ने समर्थन किया,कुछ देर युवराज के साथ बैठ कर घर के लोग वापस चले गये,,जब कमरे में अकेले युवराज और राजा थे,राजा बडे भैय्या के लिये जूस लेकर आया __”राजा पता है हम हमेशा से एक बात सोचते थे”

“क्या भैय्या??”

“हमे ना हमेशा से पिंकी के लिये ऐसे ही लड़के की तलाश थी।।”

“कैसे लड़के की भैय्या??”

“अरे रतन जैसे लड़के की यार!! कितना सोच सोच के बात करता है,,हर शब्द नाप तौल के बोलता है, बिल्कुल सुलझा हुआ समझदार सा लड़का है,,हमारी पिंकी के जैसा ,है ना राजा !!! और देखो पिंकी जैसे ही प्रशासनिक सेवा में भी जा रहा है!! कितना ही अच्छा होता अगर ये लड़का पहले मिल गया होता ,,है ना??”

“तो अभी भी का बिगाड़ होई भईया,,अगर आप चाहो तो सब कर सकते हो,””

“अरे कैसी बात कर रहे हो राजा !! अब तो शादी तय हो गई है पिंकी की ,अब कुछो नई हो सकता भाई।।
वर्ना हमारा ससुर हमारा गला पकड़ लेगा।।”

  दोनो भाई साथ साथ हंसने लगे।।।

  क्रमशः


 
aparna..

जीवनसाथी-117

Advertisements

            जीवनसाथी -117

     
    
  उनके सवाल पर समर एक किनारे खड़ा मुस्कुराता रहा… उसने पीछे देखा, कोर्ट रूम के दरवाजे पर एक आदमी अपना चेहरा आधा ढके खड़ा था उसने आंखों ही आंखों में समर को अभिवादन किया समर ने भी धीरे से बाकियों की नजर बचाकर उसके अभिवादन को स्वीकार किया और मुस्कुराकर ठाकुर साहब की तरफ देखने लगा।
   यह वही आदमी था जिसे समर ने 1 दिन पहले फोन करके ठाकुर साहब को कोर्ट तक पहुंचाने की बात कही थी……
….

     ठाकुर साहब का वकील एक तरफ चुप बैठ गया था। वो अब एक बार फिर नए सिरे से अपने कागज़ देख रहा था कि किस तरह अब कोर्ट में पहुंच चुके ठाकुर साहब को बचाया जाए। इसी बीच ठाकुर साहब को पुलिस ने कस्टडी में लिया और एक तरफ को लेकर आगे बढ़ गए, इसके साथ ही समर की जिरह भी शुरू थी।
     ठाकुर साहब के गुस्से का वारापार नही था। समर ने कहना जारी रखा….-“मैं अदालत में इनके काले कारनामों के सबूत पेश कर ही चुका हूँ। इसके साथ ही इन्होंने अपने कार्यालय से निकलते समय रानी बाँसुरी पर जो हमला करवाया उसकी भी तस्वीरें मेरे पास मौजूद हैं, जिन्हें मैं आपके समक्ष प्रस्तुत करने वाला हूँ।
    मारने काटने में ही तो इन्होंने पी एच डी कर रखी है न्यायधीश महोदय। जब जहाँ जी किया किसी पर उठा कर गोली चला दी। ये राजा अजातशत्रु के कार्यक्रम में भी इसलिए ही आये थे कि वहाँ इन्हें मार दिया जाए लेकिन इन्हें पहले ही राजमाता ने देख लिया। अब चूंकि इन्हें उस समय जेल में होना चाहिए था लेकिन ये जेल से फरार थे इसलिए राजमाता समझ गयीं की ये आदमी कुछ तो गड़बड़ करने के उद्देश्य से ही वहाँ आया है। उन्होंने ध्यान से देखा तो इनके हाथ की गन भी नज़र आ गयी , और उसी समय इन्होंने गन निकाल कर राजा अजातशत्रु पर निशाना साधा और राजमाता बीच में आ गईं और उन्हें गोली लग गयी जिसके बाद उनका देहांत हो गया। तो महोदय इन पर दो बार राजा अजातशत्रु पर हत्या के प्रयास और राजमाता की हत्या का आरोप लगता है…”

  समर की बात बीच में ही काट कर बचाव पक्ष का वकील कूद पड़ा…-” हत्या नही गैर इरादतन हत्या का प्रयास कहिये।”
” जी वो सारे चार्जेस तो अभी लगेंगे ही। वैसे भी जितने सबूत हमारे पास मौजूद हैं अब ठाकुर साहब को फांसी से बचा पाना आपके लिए बहुत मुश्किल होगा वकील साहब। आप ज़रूर कह रहे थे कि आप आज तक कोई केस नही हारे हैं, लेकिन अब ये केस आपके हाथ से निकलता दिख रहा है। मुझे तो समझ में नही आ रहा कि आपने इतने पारदर्शी और साधारण से केस को क्यों इतना घुमाया। ठाकुर जैसा लीचड़ और गिरा हुआ आदमी इस लायक ही नही की आप जैसा बुद्धिमान व्यक्ति इनकी पैरवी करे, और…
   समर की बात पूरी होने से पहले ही ठाकुर साहब ने पास खड़े पुलिस वाले कि गन निकाल कर राजा अजातशत्रु की तरफ मोड़ दी। उन्हें ऐसा करते देख उनका वकील ज़ोर से ” ऐसा मत कर दीजिएगा ठाकुर साहब ! आप अदालत में खड़े हैं, आपको कोई नही बचा पायेगा।” कहते उनकी तरफ भागे की हड़बड़ाहट में ठाकुर साहब का हाथ सामने से आते वकील साहब की ओर घूम गया।
   ठाकुर साहब का हाथ ट्रिगर पर ही था, उनके हाथ से गन चल गई लेकिन उतनी ही देर में किनारे खड़े समर ने वकील साहब को एक ओर खींच कर दूसरे हाथ से गन उन तक उछाल दी।
   ये सब इतनी जल्दी जल्दी हुआ कि किसी के कुछ सोच समझ पाने से पहले ही वकील साहब के हाथ में आई गन उन्होंने चला दी और गोली ठाकुर साहब को जा लगी।
   गोली ठाकुर साहब के माथे के ठीक बीचों बीच जाकर लगी और वो वहीं ढेर हो गए। उनका वकील कुछ समझ पाता कि तब तक पुलिस उन तक चली आयी।


    ठाकुर साहब के वकील ने समर की तरफ लाचारगी से देखा समर में दोनों कंधे ऊपर उठाकर ना में सर हिला दिया और राजा अजातशत्रु की ओर देख कर मुस्कुरा दिया।
कोर्ट ने अपनी कार्यवाही आगे बढ़ाने के पहले तुरंत ही डॉक्टर को तलब किया डॉक्टर ने आते ही ठाकुर साहब की जांच करके उन्हें मृत घोषित कर दिया! उनके वकील को पुलिस कस्टडी में ले लिया गया और यह सब देखते हुए कोर्ट ने तारीख आगे बढ़ा दी। राजा अजातशत्रु समर और आदित्य के साथ बाहर निकले ही थे कि फोन की घंटी बजने लगी…… फोन राजा के बड़े भाई युवराज का था…-” कहां हो कुमार?
” जी बस अभी अभी कोर्ट से बाहर निकला हूं आप बताइए क्या बात है भाई साहब?”
” तुम्हें मुबारकबाद देने के लिए फोन किया था। तुम पापा और हम बड़े पापा बन गए हैं। बांसुरी ने एक छोटे राजा अजातशत्रु को जन्म दिया है। मां और बच्चा दोनों ही स्वस्थ हैं अब जितनी जल्दी हो सके उड़कर यहां पहुंच जाओ।”

Advertisements

   खुशी के अतिरेक में राजा से कुछ कहा ही नहीं गया। खुश होकर उसने अपने बाजू में खड़े समर की तरफ पलट कर देखा, समर और आदित्य उसे प्रश्नवाचक निगाहों से देख रहे थे? और राजा के चेहरे की मुस्कान ही गायब नहीं हो पा रही थी, कि समर ने फोन लेकर युवराज भैया से ही बात कर ली।
   खुशखबरी सुनते ही समर भी खुशी से उछल पड़ा लेकिन उसने राजा से कितना भी प्रेम किया हो उसके मन में राजा के लिए सम्मान बहुत अधिक था। इसलिए अपने संकोच में वह आगे बढ़कर राजा के गले से नहीं लग पाया लेकिन अपनी खुशी व्यक्त करने के लिए उसने साथ खड़े आदित्य को गले से लगा लिया…-” बधाई हो दोस्त हम चाचा बन गए हैं!”,
आदित्य को अब जाकर माजरा समझ में आया उसने झट आगे बढ़कर राजा के पैर छूकर उसे बधाई दे डाली। राजा ने आगे बढ़कर आदित्य और समर दोनों को गले से लगा लिया…-” अब यहां मेरा मन नहीं लगेगा, अब तुरंत वापस चलो समर।”

“लेकिन राजा साहब! केस अभी खत्म नहीं हुआ भले ही ठाकुर साहब नहीं रहे तो क्या हुआ पर उन पर लगे आरोपों को सिद्ध करके….”

   समर अपनी बात पूरी करता इसके पहले ही राजा ने उसकी बात आधे में ही काट दी …-“वह सब अब मैं कुछ नहीं जानता! तुम वकील हो अब तुम जानो तुम्हें क्या करना है? तुम्हारे पास सबूत भी हैं और गवाह भी लेकिन अब मुझे मेरे घर पहुंचना है।”
समर ने मुस्कुराकर हां में सर हिलाया और आगे बढ़कर गाड़ी का दरवाजा खोल दिया।
गाड़ी में पीछे बैठते ही राजा ने तुरंत बांसुरी के फोन पर रिंग कर दी।
थोड़ी देर फोन बजने के बाद फोन उठा लिया गया.. राजा ने धीरे से अपने मन की बात कह दी..-” थैंक यू सो मच हुकुम! आई लव यू अ लॉट!”
“आई लव यू टू कुंवर सा। आपकी हुकुम नहीं बल्कि आपकी भाभी रूपा बोल रहे हैं हम। कभी हमें भी याद कर लिया कीजिए हमसे भी बातें कर लिया कीजिए।’

Advertisements

“भाभी साहब आप तो ह्रदय में बसती है आप छोटी मां है हमारी।”
“बस बातें बना लीजिए! आप आप दोनों भाइयों को और आता क्या है? वैसे हम आपका ज्यादा समय खराब नहीं करेंगे, लीजिये हम फोन बांसुरी को दे देते हैं।”
रूपा ने बांसुरी के सामने फोन रख कर फोन स्पीकर में डाल दिया राजा ने शरमाते हुए बांसुरी को थैंक यू कहा और आगे की बात उसे बताने लगा…-” मुझे लगा फोन तुम ने उठाया है और मैं भाभी साहब को जाने क्या-क्या कह गया? पता नहीं वह भी क्या सोच रही होंगी?”
“क्या सोच रही होंगी, यही सोच रही होंगी कि राजा साहब बावले हो गए हैं खुशी के मारे।”
“बात तो सौ टका सच है! राजा साहब खुशी के मारे बावले ही हो गए हैं। लेकिन बावजूद मैं कुछ का कुछ बोल गया और भाभी साहब ने सब सुन लिया।”
“साहब !  भाभी साहब तो अभी भी सब कुछ सुन रही हैं। आपका फोन स्पीकर में है, और इस कमरे में मेरे अलावा भाभी साहब, निरमा और पिया तीन और लोग भी हैं। और इन तीनों के अलावा आपका छोटा सा राजकुमार भी टुकुर टुकर पलके झपकाते हुए आपकी सारी बातें सुन रहा है।”
“तुम भी हद करती हो बांसुरी! मैंने फोन किया और तुमने स्पीकर में डाला हुआ है। मैं रख रहा हूं फोन।”

“अरे मैंने स्पीकर में नहीं डाला बाबा! भाभी साहब ने स्पीकर में डाल कर दिया, लेकिन सुनो तो सही बेबी मेरी गोद में है! मैं फीड कराने की कोशिश कर रही हूं उसको। अब ऐसे में आप फोन करोगे तो मैं कैसे बात करूं भला?”
“ओ ओ एम सॉरी! यह बात है तो पहले बताना चाहिए था ना। तुम्हें तो बड़ी मुश्किल हो रही होगी, चलो फोन रखो मैं बस जल्दी से तुम्हारे पास पहुंचता हूं।”
“कैसे बताती? बताने के लिए भी तो फोन उठाना ही पड़ता और फोन उठाते ही आपने आई लव यू की जो झड़ी लगाई कि भाभी साहब शरमा कर पानी पानी हो गई और उन्होंने फोन मेरी तरफ कर दिया।”
राजा ने शरमा  कर हंसते हुए फोन रख दिया। समर ने गाड़ी सीधे एयरपोर्ट की तरफ घुमा ली और फोन पर ही प्रेम को केसर को साथ लेकर एयरपोर्ट आने कह दिया।

कई बार जीवन में हर गुत्थी सुलझ जाए ऐसा नहीं होता। ठाकुर साहब के केस की गुत्थी उनकी अचानक मृत्यु से अनसुलझी रह गई थी। लेकिन हर गांठ अपने वक्त पर सुलझ जाए ऐसा हर बार संभव नहीं होता। ठाकुर साहब का केस पेचीदा था कठिनाइयों से भरा था। बावजूद समर ने जी-जान लगाकर उस केस को इमानदारी से लड़ने की कोशिश की। यह जानते हुए भी कि ठाकुर साहब का ईमानदारी से कोई दूर-दूर तक नाता नहीं है। उन्होंने शुरू से लेकर अपने जिंदा रहते तब हमेशा हर एक इंसान का फायदा उठाने की कोशिश की, चाहे वह उनकी पत्नी हो उनकी पुत्री हो या उनका भांजा।
   इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए समर यह जानता था कि ईमानदारी से ठाकुर साहब के खिलाफ अगर वह केस लड़ने गया तो सदियां लग जाएंगी। लेकिन केस निपटेगा नहीं। हालांकि इससे ना राजा का कुछ बिगड़ना था, ना बांसुरी का। लेकिन मन में अशांति और वैमनस्य तो उपजता ही है।
    इसीलिए समर ने शुरू से कोर्ट केस को इस ढंग से तैयार किया कि ठाकुर साहब और उनके वकील को लगे कि केस उनके पक्ष में जा रहा है। और बाद में हुई गड़बडियाँ इसी बात की लिए थी कि ठाकुर साहब हड़बड़ा कर कोई ऐसा कदम उठाएं कि अपने आप को बचाते हुए कोई उन्हें गोली मार दे।

Advertisements

     समर केस के बीच के ब्रेक में मौका लगते ही  ठाकुर साहब के वकील के कान इसी बात से भरे की ठाकुर साहब बेहद सनकी, जिद्दी और घमंडी इंसान हैं। उनका कोई भरोसा नहीं है अगर वह बौरा गए तो भरी सभा में किसी पर भी गोली चला सकते हैं। इन बातों को बार-बार सुनकर ठाकुर साहब के वकील के दिमाग में यह बैठा हुआ था कि अगर ठाकुर साहब के हाथ में गन आ गई, तो हो सकता है वह अपने गुस्से के कारण अपने ही वकील पर भी गोली चला दे।  इसी बात से भयभीत वकील साहब ने जैसे ही ठाकुर साहब के हाथ में गन देखी घबरा कर उन्हें रोकने के लिए भागे और इस भागमभाग का फायदा उठाते हुए समर ने पहले से अपने पास छुपा कर रखी गन उनके हाथों में उछाल दी। उनके हाथ में गन देखते ही ठाकुर साहब के हाथ से ट्रिगर चल गया और खुद को बचाते हुए उनके वकील ने ठाकुर साहब पर गोली दाग दी। किया कराया सब कुछ समर का था। गोली तो असली में समर ने चलाई थी बस गन किसी और हाथ में थी।

   “मान गए समर सा आपकी बुद्धि और आपकी विद्वत्ता को।” आदित्य की इस बात पर केसर उसे सवालिया नजरों से देखने लगी तब आदित्य ने केस की उस दिन की सारी कार्यवाही प्रेम और केसर को कह सुनाई।
  प्रेम सब कुछ सुनने के बाद समर की तरफ देख कर मुस्कुराने लगा…-” यह इनकी की हुई पहली कारस्तानी नहीं है! यह इसी तरह के वकील है जो केस शुरू होने से पहले ही केस की हर चाल तय कर लेते हैं। अपनी तरफ की भी और विपक्षी की भी। उसके बाद सारी चाले समझने के बाद इस ढंग से अपनी गोटियां चलते हैं कि सामने वाला उन चालों को काटने के लिए अपने प्यादों को इस ढंग से चले कि समर की चाही हुई चाल सामने वाला खुद ब खुद चल जाए और सामने वाले को बिना यह समझ में आए कि वह हार रहा है वह हारता चला जाए।”

  “वह सब तो ठीक है पर आप लोगों ने सुबह से कुछ खाया पिया नहीं है अब कुछ खा पी लीजिए।” केसर की बात पर राजा मुस्कुरा के खिड़की से बाहर देखने लगा…-” अब तो हम अपने छोटे से राजकुमार का मुंह देखने के बाद ही कुछ खाएंगे पिएंगे।”

******

एयरपोर्ट से राजा की गाड़ी महल की जगह अस्पताल की ओर ही मुड़ गयी। अस्पताल ने भी राजा जी के स्वागत की पूरी तैयारी कर रखी थी……
    फूलों गाजों बाजों के साथ राजा का स्वागत हुआ और राजा समर प्रेम आदित्य केसर सारे लोग एक साथ अस्पताल में अंदर पहुंच गए।
   केसर कुछ थकी हुई थी और साथ ही मन ही मन बांसुरी का सामना करने के लिए शायद डर भी रही थी! उसने धीरे से आदित्य की तरफ देखा आदित्य उसकी मन की बात समझ गया…-” राजा भैया अगर आप बुरा ना माने तो हम केसर को महल छोड़कर फिर वापस आ जाते हैं। “
  राजा के दिमाग में इस समय सिर्फ और सिर्फ बांसुरी से और अपने बेटे से मिलने की ललक थी। उसे ना तो कुछ सुनाई दे रहा था ना दिखाई दे रहा था उसने आदित्य से तुरंत “हां” कहा और तेजी से अंदर की ओर बढ़ गया! आदित्य केसर को लेकर बाहर से ही महल की ओर निकल गया। समर और प्रेम राजा के पीछे पीछे ही कमरे तक चले आए।


    राजा ने कमरे के दरवाजे पर थाप दी। अंदर से “चले आइए” की आवाज सुनकर राजा ने दरवाजा खोला और भीतर दाखिल हो गया।
    बांसुरी की ठीक बगल में उसका नन्हा राजकुमार लेटा हुआ था।  बाँसुरी की आँख लग गयी थी। रूपा कुछ देर पहले ही महल लौटी थी। निरमा भी रात से ही बाँसुरी के साथ होने के कारण मीठी को देखने घर गयी हुई थी। बाँसुरी की दो सहायिकाओं के साथ ही पिया उस वक्त बाँसुरी की दवाओं का जायज़ा लेने वहीं मौजूद थी।
   राजा को देख उसने मुस्कुरा कर उसका अभिवादन किया कि उसकी नज़र राजा के ठीक पीछे खड़े समर पर पड़ गयी, और अब तक कि सारी बातें भूल उसे बस समर का सीधे मुहँ बात न करना ही याद आ गया और उसने समर को पूरी नज़र देखे बिना ही प्रेम की तरफ मुहँ फेर लिया…-” नमस्ते भैया। “
    बाँसुरी को सोते देख एक झलक नन्हे राजकुमार को देख कर प्रेम तुरंत ही बाहर मुड़ गया। उसके पीछे ही समर भी बाहर जाने को हुआ कि बाँसुरी की आंख खुल गयी…
   राजा अब तक धीमे से अपनी उंगलियों से अपने बेटे के चेहरे को टटोल रहा था… वही नाक, वही माथा और वही गोल गोल पलकों के साथ काली मोटी मोटी आंखे।
   उसी का तो रूप था हूबहू। राजा की आंखों में खुशी के आँसू छलक आये ….
  राजा ने झुक कर उसका माथा चूम लिया..-” गोद में ले सकते हैं आप इसे साहब!”
  बाँसुरी की आवाज़ सुन राजा ने आंखें उठा कर उसे देखा…-“अरे तुम जाग गयीं।”
” मैं तो रास्ता ही देख रही थी,पता नही कब आंखें लग गईं। “
पिया ने धीरे से बच्चे को उठा कर कोमलता से राजा के हाथों पर रख दिया। राजा अपनी बाहों में अपने कलेजे के टुकड़े को समेटे विस्मित सा खड़ा था…-” आज तक बहुत से बच्चों को गोद में लिया है और सच कहूं तो दुनिया का हर बच्चा बहुत प्यारा होता है। लेकिन अपने खुद के बच्चे को अपने अंश को अपनी बाहों में लेना अद्भुत है। इससे सुंदर एहसास आज तक नही महसूस किया। किन शब्दों में तुम्हें थैंक्स कहुँ बाँसुरी। यूँ लग रहा मेरा बचपन तुमने मुझे वापस कर दिया।”

Advertisements

” सही कह रहे हो कुमार! अब इसमें हम सब को तुम्हारा बचपन वापस जीने मिल गया।” युवराज ने कमरे में प्रवेश किया और राजा को आगे बढ़ कर गले से लगा लिया। अब तक राजा के हाथ से बच्चे को गोद में लेकर समर उसे देख मुस्कुरा रहा था कि रुपा पिया को वहाँ खड़ी देख चौन्क गयी…-“अरे डॉक्टर साहिबा आप अब तक यहीं हैं? आज शाम तो आपकी सगाई थी ना। आप गयीं नहीं अब तक। हम तो हमारी सगाई वाली शाम में सुबह से ही पार्लर में थे। “
  रुपा ने हंसी हंसी में अपनी बात कही और सहायिकाओं की सहायता से सबके लिए नाश्ता और चाय निकलवाने चली गयी, लेकिन सगाई वाली बात सुनते ही समर ने तुरंत पिया की ओर देखा और पिया संकोच में उसकी तरफ देख ही नही पायी। किसी ने समर की गोद से बच्चे को लेकर बाँसुरी को दे दिया। समर पिया से सब कुछ जानना पूछना चाह रहा था लेकिन पिया उससे नज़रें चुराती धीरे से बाँसुरी के कान में कुछ कह कर बाहर निकल गयी….

क्रमशः

Advertisements

दिल से….

  त्योहारों की व्यस्तता के कारण इस भाग में देर हो गयी,लेकिन अब मेरी सारी कहानियां अपनी गति से आगे बढ़ती जाएंगी। समिधा और मायानगरी भी।
   जीवनसाथी का अगला भाग इस पूरी कहानी का सार सम्पूर्ण भाग होगा।
  मुझे पढ़ते रहने के लिए आप सभी का हार्दिक आभार व्यक्त करती हूँ

aparna….



शुभकामनाएं … हिंदी दिवस की

महादेवी वर्मा

Advertisements

जो तुम आ जाते एक बार

जो तुम आ जाते एक बार

कितनी करूणा कितने संदेश
पथ में बिछ जाते बन पराग
गाता प्राणों का तार तार
अनुराग भरा उन्माद राग

आँसू लेते वे पथ पखार
जो तुम आ जाते एक बार

हँस उठते पल में आर्द्र नयन
धुल जाता होठों से विषाद
छा जाता जीवन में बसंत
लुट जाता चिर संचित विराग

आँखें देतीं सर्वस्व वार
जो तुम आ जाते एक बार

Advertisements
Advertisements

समिधा-27

Advertisements

   समिधा- 27

    केदारनाथ त्रासदी को घटे सात महीने बीत चुके थे। जिन्होंने अपने अपनों को खोया था वो उस त्रासदी को इन सात महीनों में भी नही भूल पा रहे थे, यही हाल उनका भी था जिनके अपने इस त्रासदी से वापस लौट चुके थे।

        वरुण मंदिर ट्रस्ट में स्थायी सदस्यता पा चुका था। उसके माता पिता ने भी इस बार न उसे रोका न टोका,और सहर्ष सहमति दे दी। कादम्बरी के परिवार ने ज़रूर कुछ टोकाटाकी करने की कोशिश की लेकिन वरुण का परिवार वरुण के सामने दीवार बन खड़ा रहा, फिर अपना सा मुहँ लेकर उन्हें भी लौटना ही पड़ा।
    कोलकाता के मंदिर में दो महीने बिताने के बाद वरुण और दो चार अन्य सेवादारों को मथुरा राधाकृष्ण मंदिर भेज दिया गया था।

    मंदिर में सुबह सवेरे उठ कर सारे मंदिर परिसर में झाड़ू लगाने के बाद पानी का छिड़काव कर वरुण अपने दो साथी सेवादारों के साथ पोंछा लगाया करता।
     मंदिर की ही पुष्पवाटिका से चुन चुन कर लाये फूलों की फिर सारे लोग मिल कर लंबी सी माला गूंथते और द्वारिकाधीश का श्रृंगार होता।
      दोपहर बाद सभी एक साथ बैठे भजन गाया करते।
   इस सब के साथ ही सुबह और शाम का समय वेदाध्ययन के लिए भी निश्चित था।
   वरुण को ये सारे कार्य प्रिय थे। वह इन सभी कार्यों को करते हुए अपने मन को शांत रखने का पूरा प्रयास करता और उसे इन कुछ महीनों में इन कार्यों में एक सुख मिलने लगा था एक शांति मिलने लगी थी ऐसा लगने लगा था कि वह अपने कृष्ण के आसपास है और कृष्ण सिर्फ उसके ही नहीं हर किसी के आसपास हैं। और इसीलिए धीरे-धीरे वरुण की श्रद्धा इस बात पर बढ़ने लग गई थी कि जो जिसके साथ होता है वह सब कृष्ण का रचा रचाया है और इसीलिए उससे अच्छा और कुछ नहीं हो सकता ।
  वरुण की यही सोच उसे धीरे-धीरे शांति की तरफ ले जा रही थी, लेकिन बीच-बीच में कभी अचानक एक चेहरा उसकी खुली आंखों में झांकने चला आता। जैसे पूछ रहा हो…-” मेरा क्या कसूर था जो तुम्हारे कृष्ण ने मुझे ऐसी सजा दी ?” ऐसे समय में वरुण अपने विचारों को झटक कर कोई ना कोई किताब खोल कर पढ़ने बैठ जाया करता। लेकिन इन सारी व्यस्तताओं के बाद भी बार बार एक जोड़ी पनीली आंखें उसका पीछा करती सी लगती जैसे कह रहीं हो “वापस आ जाओ!”  उसे अक्सर यूँ लगता कि वो मन से यही सब करना चाहता तो है पर उसकी आत्मा इस सब में शामिल ही नही होना चाहती। 
सुबह और शाम के समय के अतिरिक्त रात में भी जब उसे समय मिलता वह मंदिर परिसर के कोने में बैठ अपनी किताब को पढ़ने में डूब जाया करता। वेदों का अध्ययन करते करते धीरे-धीरे उसे हिंदू धर्म की जटिलताएं समझ में आने लगी थी।
   आज तक जिन रीति-रिवाजों को मानने के लिए वह अपनी मां का मजाक उड़ाया करता था और रीति-रिवाजों के वैज्ञानिक दृष्टिकोण को देख पढ़ कर समझ कर उसके ज्ञान चक्षु भी खुलने लगे थे।
    मंदिर का पूरा कार्य एक ट्रस्ट के अधीन था वह ट्रस्ट पूरे भारतवर्ष ही नहीं बल्कि विदेशों में भी कृष्ण मंदिर की स्थापना कर चुका था। मंदिरों में होने वाले आय-व्यय के साथ ही दानदाताओं को अधिक से अधिक दान के लिए प्रेरित करने के लिए भी मंदिर ट्रस्ट को पढ़े लिखे शिक्षित वर्ग की आवश्यकता थी और अगर वरुण जैसे युवा इस कार्य में उनका सहयोग करें तो मंदिर ट्रस्ट को लाभ ही लाभ था इसलिए वरुण की तरफ मठाधीशों का कुछ अधिक ही झुकाव था।

   मंदिर में अलग-अलग कार्यों के लिए अलग-अलग पद सृजित बहुत से सेवादार ऐसे थे जो स्वेच्छा से जीवन पर्यंत सिर्फ सेवादार ही बने रह जाते थे।लेकिन कुछ उनमें से ऐसे भी थे जो सेवादार से ऊपर के कुछ 1 पदों तक जाकर रुक जाए करते थे। लेकिन वरुण जैसे उच्च शिक्षित युवाओं को मंदिर ट्रस्ट द्वारा सीढ़ी दर सीढ़ी चढ़ाते हुए मंदिर के मठाधीश तक के पद तक पहुंचाए जाने की व्यवस्था थी। वैसे मंदिर में जाति धर्म या गरीबी अमीरी के नाम पर किसी भी तरह का कोई भेदभाव नहीं था। सभी के लिए समान कार्य बांटे गए थे , और सभी को अपने हिस्से के कार्य करने ही होते थे। अंतर बस इतना होता था कि शिक्षित लोग जो विद्या अध्ययन करने में सक्षम थे उन्हें वेदों का अध्ययन करवा कर उनसे प्रवचन आदि दिलवाए जाने की व्यवस्था की जाती थी।
     पिछले कुछ समय में ही वरुण ने बहुत सारी किताबों का अध्ययन कर लिया था और जैसे-जैसे अध्ययन करता जा रहा था उसका दिमाग भी विस्तृत होता जा रहा था।
       मंदिर परिसर हर किसी के लिए खुला था लोग दर्शनों के लिए आते मंदिर में चढ़ावा चढ़ाते, और चले जाते। सब के जाने के बाद हफ्ते में एक दिन चढ़े हुए सारे चढ़ाव की गणना की जाती और उसके बाद उस धनराशि को मंदिर ट्रस्ट के पास भेज दिया जाता।
    ट्रस्ट से हर महीने एक निश्चित धनराशि मंदिर में रहने वालों के खाने पीने आदि के लिए भेज दी जाती। इन सब का हिसाब योगेंद्र जी रखा करते थे।

   मंदिर परिसर बहुत विशाल था। चारों तरफ फैली वृहत वाटिका के बीचो बीच स्थापित मंदिर में पीछे तरफ कमरे बने हुए थे जहां सेवादार और बाकी के मंदिर कर्मचारी रहा करते थे।
      उसी परिसर में एक और हटकर विधवा आश्रम बना हुआ था जहां वृद्ध युवा और बाल विधवाये रहा करती थी। आश्रम के कर्मचारियों तथा अन्य लोगों के लिए भोजन पकाने बर्तन साफ करने आदि की जिम्मेदारी इन्हीं महिलाओं की थी । महिलाओं की संख्या कम अधिक होती रहती थी। वैसे तो एक बार जिस महिला को उसके घर वाले इस आश्रम में छोड़ जाते उसका वापस अपने घर लौट पाना असंभव ही था। इसलिए अधिकतर समय उस आश्रम में महिलाओं की संख्या में वृद्धि ही हुआ करती थी, संख्या में कमी तभी आती थी जब उनमें से कोई देवलोक को चली जाया करती थी।
     उनका जीवन कठिन नहीं कठिनतम था। क्योंकि उनके जीवन में वेद अध्ययन को स्थान नहीं दिया गया था। उनमें से अधिकतर वृद्ध महिलाएं अपने आपको कृष्ण समर्पित कर चुकी थी । इसलिए उनका मन सिर्फ कृष्ण को समर्पित लोगों की सेवा से ही प्रसन्न हो जाता था। लेकिन कुछ युवा और बाल विधाएं भी थी जिन्हें अच्छा खाने और अच्छा पहनने का शौक हुआ करता था। लेकिन उस स्थान में जहां उन्हें पर्याप्त आहार भी ना मिल पाता हो,उनके शौक कौन पूछता और कौन पूरे करता?

    वह औरतें एक रटी रटाई दिनचर्या का पालन करती हुई बस जीवन जीती चली जा रही थी! जिसका ना कोई आदि था ना अंत। बहुत बार ऐसा लगता जैसे वह वहां रहते हुए बस अपनी सांसें गिन रही हैं, कि किस तरह उनकी सांसो की अवधि पूरी हो और वह स्वयं कृष्ण के लोक पहुंच जाएं। कुछ महिलाओं ने एक आध बार वहां से निकलने की भी कोशिश की, लेकिन बाहर भी उनके पास कोई और आश्रय नहीं था दो-चार दिन बाद लौट कर वापस ही आ गई थी।
        जैसे ज़िन्दगी कट रही हो बस…. बिना जीने की आरज़ू के।
   लेकिन वरुण इन बातों से अनजान था….
….. पर अब अधिक समय नही बचा था कि वो इन सारी अव्यवस्थाओं से अपरिचित रह पाता…

******

   
     देव को गए वक्त बीत चुका था। जब उसके जाने का पता चला था उस समय उसके परिवार द्वारा किये कर्मकांड में पारो की माँ और बाकी सदस्य आये और जाते वक्त पारो की माँ देव की माँ के चरणों में लोट गयी….-” गरीब की बेटी का कोई आसरा नही होता बऊ दी! पहले ही बिना बाप की थी अब माथे से पति का साया भी सरक गया। पता नही इतनी बदकिस्मत लड़की क्यों मेरे घर ही पैदा हुई। इससे तो पैदा होते ही मर जाती तो सही होता,लेकिन फिर ये बदकिस्मती कैसे देखती?
  आपके पांव पड़ती हूँ, इसका आसरा मत छीनना। यहीं कहीं किसी कोने में पड़ी रहेगी। घर की नौकरानी को भी तो दो वक्त का खाना दिया ही जाता है। उससे अधिक की अब इसे दरकार भी कहाँ रही? “

Advertisements

   बोलते-बोलते जाने कितनी बार वो भरभरा के रो पड़ीं। इतने कठोर शब्द मुहँ से भी तो नही निकल पा रहे थे। कैसी मर्मान्तक पीड़ा के साथ अपनी ही बेटी के लिए नौकरानी जैसा अलंकार जोड़ना पड़ा। किस्मत लड़की से ज्यादा तो उनकी खराब थी। पहले पति का दुख सहा फिर लक्ष्मी सी बेटी का …
  … इतनी छोटी सी उम्र में ये रंगविहीन साड़ी ! ये देखने से पहले दुर्गा माँ उसे उठा लेती तो कितना अच्छा होता। कम से कम अपनी ही बेटी का ये रूप तो न देखना पड़ता।
    दिल में तो आ रहा था कि बेटी को सीने से लगाये अपने साथ ले जाये। कैसे भी कर के अपने पास रख लेगी लेकिन अभी तो वो अकेली अपनी ससुराल की गुलामी में टूट रही है फिर अपने साथ अपनी फूल सी बेटी को वैसे ही टूटते कैसे देख पाएंगी?
   दूसरी बात जब घर भर मछली भात खा रहा होगा उसकी लाड़ली को सिर्फ शाक खा कर संतोष करना पड़ेगा। पान की कितनी शौकीन थी,अब तो वो भी कहाँ खा पाएगी।
   ये सारा सब अपनी आंखों से देखना उसके लिए मृत्युतुल्य कष्ट सहने के बराबर था।
   इससे तो अपनी ससुराल में रह कर क्या कर रही क्या नही इन सब बातों से तो उन्हें फुर्सत रहेगी।
  वैसे उनके मन में एक छोटा सा लालच और भी तो था…..
   देव का छोटा भाई दर्शन पारो से एक दो साल ही तो बड़ा था। अगर पारो यहीं अपनी ससुराल में रह गयी तो हो सकता है घर वालों के मन में पारो का ब्याह दर्शन से कर देने का विचार जाग जाए। और अगर ऐसा हो गया तो इससे अच्छा पारो के लिए क्या होगा भला।
   इतने गहन दुख के बीच एक बहुत छोटी सी खुशी उनके मन को उद्भासित कर गयी ..
…..-“ऐसा क्यों कह रही हो बऊ माँ। नौकरानी सी क्यों रहेगी भला। देव के पीछे अब यही तो हमारी देव है। पारोमिता जैसी अब तक रहती आयी है वैसे ही रहेगी।”

   देव की ठाकुर माँ का स्वर उस कमरे में गूंज गया और फिर घर के किसी सदस्य की पारो को वहाँ से हटाने या निकालने की हिम्मत नही हुई।

*****

  दिन कट रहे थे सिर्फ पारो के ही नही बल्कि घर के अन्य सदस्यों के भी।
  पहले पहल किसी ने पारो से कुछ नही कहा। वो अपने कमरे में सारा सारा दिन चुपचाप पड़ी देव को याद कर ऑंसू बहाती रहती।
   कभी खिड़की पर घंटो खड़ी रह जाती। यूँ लगता जैसे उसी का इंतज़ार कर रही हो।
  उसे पता नही क्यों अंदर से यही लगता कि समय को चीरता देव उसके पास वापस चला जायेगा।
कभी अचानक ही उसका मन ये मानने से इनकार कर देता की देव नही रहा।
वो उसकी कमीज़ें धोती अपनी साड़ी के साथ सुखाती और आयरन कर अलमीरा में सजा देती। जूते भी रोज़ रोज़ साफ करती और जब देखती की पहनने वाला तो दूर दूर तक नज़र नही आ रहा तो बिलख उठती।
    अब उसका खाना उसकी सास उसकी जेठानी के हाथों उसके कमरे में ही भिजवा दिया करतीं। शायद उन्हें मन ही मन लगने लगा था कि उन सब सुहागिनों के बीच बैठ पारो अपनी रूखी थाली का निवाला कैसे ले पाएगी। लेकिन पारो की जेठानी से ये पक्षपात जाने क्यों सहन नही हुआ जा रहा था।।
  रोज़ रोज़ उसकी रूखी सूखी थाली ऊपर लेकर जाना उसके मन को मसले दे रहा था, आखिर एक दिन घर भर की औरतों की नज़र बचा कर उसने मछली के झोल भरी कटोरी पारो की थाली में रखी और दाल की कटोरी में घी भर अपने आँचल से ढाँक ऊपर ले चली।
  पारो की तो नही लेकिन उसकी खुद की सास ने देख कर उसे आधी सीढ़ियों पर ही टोक दिया। पारो उस समय छज्जे पर कपड़े सूखा रही थी। उसने भी बड़ी माँ की रुबावदार आवाज़ सुन ली और ऊपर से झांकने लगी…-” ए आनंदी! की होलो? पारो के लिए क्या माछ लेकर जा रही हो? “

आनन्दी सकपका गई। उसे नही लगा था कि उसकी चोरी ऐसे पकड़ी जाएगी। उसने बहुत धीमी आवाज़ में अपनी बात रखी…-” उसकी अभी उम्र ही क्या है माँ। इतनी छोटी सी उम्र में इतना कुछ झेल गयी , अब कम से कम ठीक से खा पी तो सके। यही तो खाने पहनने की उम्र…”

Advertisements

  उसकी बात बीच में ही काट कर उसकी सास लगभग उस पर चीख पड़ी…-“अब तुम आज की लड़कियां हमें नियम बताओगी, उसकी उम्र क्या है ये हमे बताने की ज़रूरत नही है।तुमसे ज्यादा दुनिया देखी है हमने। चुपचाप माछेर झोल उठा कर थाली से बाहर कर दो। “

” धीमे बोलिए मां ,वो सुन लेगी। अच्छा नही लगेगा।”

” तुम्हें नियम भंग करते हुए अच्छा लगा न तो अब मुझे कोई लेना देना नही की किसे बुरा लगेगा और किसे नही। जो सच्चाई है सो है। अगर भगवान को उस पर इतना ही तरस था दयादृष्टि थी तो उसके पति को ऐसे अकालमृत्यु नही मिलती.।

   आगे की पंक्तियों के साथ ही भावुकता में बड़ी माँ रोने लगी,क्योंकि बेटा भले ही देवरानी का था लेकिन प्रेम तो उन्हें भी उससे बहुत था। और देव की असमय मृत्यु का दुख अब पारो पर गुस्से और नाराज़गी के रूप में उतारना शुरू हो रहा था।

आनन्दी समझ गयी कि इस वक्त सास से लड़ने में कोई लाभ नही है। वो चुपचाप मछली की कटोरी हटा कर फिर थाली ऊपर ले गयी….
… धीरे से उसने पारो के कमरे के दरवाज़े को धक्का दिया,पारो पलंग पर सिर टिकाए ज़मीन पर बैठी थी।
” आओ पारो !खाना खा लो!”
 
  पारो ने ऑंसू भरी आंखों से अपनी जेठानी को देखा और फिर बाहर देखने लगी…-“मेरी प्यारी छोटी बहन कुछ तो खा लो। देखो ऐसे भूखा रहने से क्या होगा। बल्कि तुम ऐसे भूखी रहोगी तो देव बाबू की भी आत्मा तड़प उठेगी। वो कैसे सुख से रह पाएंगे भला। चलो खा लो चुपचाप। बड़ी माँ की बातों को दिल से न लगा लेना। वो सब अभी बहुत दुखी हैं। उबर नही पाएं हैं ना । तुम तो समझ सकती हो।”

पारो ने हाँ में सिर हिला दिया और नीचे देखती चुप बैठी रही।
आनन्दी को उसी वक्त नीचे से किसी ने आवाज़ दी और वो एक बार फिर पारो से खा लेने का इसरार करती बाहर चली गयी।
पारो का थाली देखने का भी जी नही किया…  उसने धीरे से थाली सरका दी जैसे थाली से नाराजगी हो कि तुम उस समय क्योँ सामने नही इठलाई जब देव बाबू साथ थे और अपने हाथो से अपनी प्रेयसी अपनी पत्नी को खिलाना चाहते थे। उस वक्त इसी थाली ने क्यों चुपके से उसके कान में  नही कहा कि खा ले पारो! फिर इतना प्रेम करने वाला जीवन में कोई नही आएगा। “

  देव के बारे में सोचते हुए वो फफक के रो पड़ी। वहीं उस गांव से कई किलोमीटर दूर मथुरा में स्वामी वरुण के सामने सेवादार थाली परोस कर रख गया, पर जाने अंदर से वरुण को कैसी बेचैनी ने घेरा की उसने उस थाली को धीरे से आगे सरका दिया…-” स्वामी ऐसा क्यों? क्या आज भोजन नही लेंगे।”

” मालूम नही केवल लेकिन आज बिल्कुल भी खाने का जी नही कर रहा। अंदर से ऐसा लग रहा जैसे हृदय में किसी बात की पीड़ा सी उबर रही है। यूँ लग रहा कोई बहुत करीबी दुख में है, अपार दुख में और मैं उसकी कोई सहायता नही कर पा रहा हूँ। अब बस कृष्ण से यही प्रार्थना है कि वो जो कोई भी है उसे जल्दी से जल्दी मुझसे मिलवा दे, जिससे अपने मन की इस बेचैनी से छुटकारा पा सकूं।”

  वरुण क्या जानता था कि उसके कॄष्ण उसके प्रिय को उससे मिलवाने की भूमिका बांध ही चुके हैं…..

क्रमशः

aparna…..
  


Advertisements

जब तुम बूढ़े हो जाओगे…..

Advertisements

मैं बन जाऊंगी फिर मरहम
वक्त के ज़ख्मों पर तेरे और
मुझे देख हौले हौले से
फिर तुम थोडा शरमाओगे।
जब तुम बूढे हो जाओगे।।

सुबह सवेरे ऐनक ढूंड
कानों पे मै खुद ही दूंगी ,
अखबारों से झांक लगा के
तुम धीरे से मुस्काओगे।
जब तुम बूढे हो जाओगे ।।

दवा का डिब्बा तुमसे पहले
मै तुम तक पहुँचा जाऊंगी,
मुझे देख फिर तुम खुद पे
पहले से ही इतरा जाओगे।
जब तुम बूढे हो जाओगे।।

सुनो नही बदलेगा कुछ भी
हम भी नही और प्रीत नही
हम तुम संग चलेंगे  ऐसे
की तुम फिर लहरा जाओगे
जब तुम बुढे हो जाओगे।।

मैं तो ऐसी थी,ऐसी हूँ ,
ऐसी ही मैं रह जाऊँगी,
मेरे मन के बचपने से
तुम भी संग इठला जाओगे
जब तुम बूढ़े हो जाओगे।।

Advertisements

मुझसी मिली है तुमको जग मे,
सोच के खुश हो रहना तुम,
फिर अपनी किस्मत पे खुद ही
धीरे धीरे इतराओगे
जब तुम बूढ़े हो जाओगे।।

aparna …….

फ़िल्म समीक्षा- माचिस

movie review

Advertisements

पानी पानी रे

   सुबह सुबह खिड़की पर खड़ी थी कि एक गीत फ़िल्म माचिस का सुनाई पड़ा, और पानी पानी रे याद दिला गया।
    गीत गुलज़ार साहब ने लिखा है और विशाल भारद्वाज के संगीत को लता जी ने इस कदर खूबसूरती से गाया है कि सुनते वक्त ये गीत आपको एक अलग ही रूहानी दुनिया में ले जाता है।

     स्कूल में थे बहुत छोटे तब ये मूवी आयी थी और मैंने देखी भी थी लेकिन सच कहूं तो समझ में नही आई थी, बिल्कुल भी नही।
    बहुत बाद में कभी आधी अधूरी सी देखी तो जो सार समझ आया वो ये की आज का हो या बीते समय का युवा हमेशा माचिस की तीली सा होता है जो एक चिंगारी से ही सुलग उठता है।

    एक आम आदमी कृपाल के आतंकवादी बनने की कहानी है माचिस।
     उसके गांव में किसी सासंद को मारने की असफल कोशिश कर भागे जिमी को ढूंढने आयी पुलिस को जसवंत सिंह( राज जुत्शी) का मज़ाक में अपने कुत्ते जिमी से मिलवाना इतना अखर जाता है कि वो उसे अपने साथ थाने ले जाते हैं और 15 दिन बाद मार पीट के वापस छोड़ देते हैं। उसकी हालत से दुखी और नाराज़ उसका दोस्त कृपाल जब किसी सरकारी महकमे से मदद नही पाता तब अपने चचेरे भाई जीत जो किसी आतंकवादी संगठन का हिस्सा है की तलाश में निकल जाता है और सनाथन ( ओम पुरी ) से टकरा जाता है, यहां से उसका सफर शुरू होता है। सनाथन उसे कमांडर से मिलवाता है जहाँ कृपाल की कहानी सुनने के बाद कमांडर उसे खुद अपना बदला लेने की सलाह देता है।

Advertisements


    उस संगठन को परिवार मान कृपाल ट्रेनिंग लेने के बाद भरे बाज़ार में खुराना ( पुलिस वाले) पर गोली चला देता है।
   अगली कार्ययोजना के लिए जिस मिसाइल लॉन्चर का इंतज़ार किया जा रहा होता है वो होती है वीरा( तब्बू)
    वीरा कृपाल की मंगेतर और जसवंत की बहन होती है।
     कृपाल से मिलने पर बताती है कि पुलिस वाले खुराना को कृपाल के द्वारा मारने के बाद पुलिस एक बार फिर जसवंत को पकड़ कर ले गयी और वहाँ पुलिस के टॉर्चर से तंग आकर उसने आत्महत्या कर ली। उसकी मौत की खबर नही सहन कर पाने से वीरा की माँ भी चल बसी , बार बार पुलिस के घर आने से परेशान वीरा भी कृपाल के रास्ते चल पड़ती है।
   कृपाल और वीरा दो प्यार में डूबे दिलों के मिलन पर फिल्माया यह गीत बहुत खाली सा लगता है…
     गीत की पंक्तियां ..

    ये रुदाली जैसी रातें जगरातों में बिता देना
   मेरी आँखों में जो बोले मीठे पाखी को उड़ा देना
         बर्फों में लगे मौसम पिघले
             मौसम हरे कर जा
             नींदें खाली कर जा..

   पानी से गुहार लगाती नायिका की मौसम हरे कर जा और नींदे खाली कर जा … सहज ही अपनी उदासी अकेलापन और अपने साथ हुए अत्याचारों की तरफ ध्यान ले जाती है।
     कितना अकेलापन झेला होगा जब नायिका ने इन पंक्तियों को गाया होगा…..

Advertisements

       एक गांव आएगा, मेरा घर आएगा…
       जा मेरे घर जा, नींदे खाली कर जा…

    इसके बाद नायक नायिका चुपके से शादी करने का फैसला कर लेते हैं।
    बहुत सारी घटनाएं घटती चली जातीं है…. नायक को कमांडर की तरफ से सासंद को मारने का काम दिया जाता है।
   उसके कुछ पहले ही वीरा कृपाल के पास से उसकी सायनाइड चुरा कर रख लेती है।
   ( यही वो सीन था जहाँ से मुझे सायनाइड का महत्व पता चला था कि उसे निगल कर मौत को गले लगाया जा सकता है)
    कृपाल का प्लान फेल हो जाता है और वो पुलिस के द्वारा पकड़ लिया जाता है।
   यहाँ फिर बहुत कुछ होता घटता जाता है। वीरा के हाथ से सनातन मारा जाता है।
   वो बड़ी मुश्किल से कृपाल से मिलने पहुंचती है और सबसे छिपा कर उसके हाथ में उसका सायनाइड रख कर वहाँ से बाहर निकल कर अपना सायनाइड भी खा लेती है।

    कहानी बहुत ही ज्यादा  ब्लैक थी। दुख अवसाद त्रासदी आंसूओं से भरी हुई लेकिन एक गहरी छाप छोड़ जाती है।
   जैसा कि मैं कोई समीक्षक तो हूँ नही इसलिए टेक्निकल कुछ नही कह सकती लेकिन गुलज़ार साहब की लिखी कहानी सीधे दिलों में उतर जाती है।
   सारे किरदार अपना पार्ट बखूबी निभाते हैं।।
जिम्मी शेरगिल की शायद पहली ही फ़िल्म थी , और वो अपनी छाप छोड़ने में सफल भी रहे।

   तब्बू तो बेस्ट हैं ही।

Advertisements

पूरी फिल्म में मुझे सबसे ज्यादा पसंद आये फ़िल्म के गीत!
   
    चप्पा चप्पा चरखा चले हो या
    छोड़ आये हम वो गलियां या फिर
      पानी पानी रे।
  
  लेकिन सबसे खूबसूरत गीत था…

   तुम गए सब गया
   कोई अपनी ही मिट्टी तले
    दब गया…

   गुलज़ार साहब के शब्दों का जादू सभी उनके चाहने वालों के सर चढ़ कर बोलता है।

    अगली समीक्षा या चीर फाड़ अपने किसी पसंदीदा गीत की करने की कोशिश रहेगी।
   तब तक सुनते रहिए…

    पानी पानी इन पहाड़ो के ढलानों से उतर जाना
    धुंआ धुंआ कुछ वादियां भी आएंगी गुज़र जाना।
    एक गांव आएगा, मेरा घर आएगा..
    जा मेरे घर जा, नींदे खाली कर जा..
    पानी पानी रे, खारे पानी रे…

  aparna….

Advertisements
Advertisements
Advertisements

शादी.कॉम- 6

Advertisements

        
                    राजा भैय्या के जिम में उन्होनें पहले महिलाओं और पुरूषों के लिये अलग अलग समय रखा था,परन्तु उनके चेले चपाडों का उन्हे वक्त बेक़क्त घेरे रहना उस मे दिक्कत डालने लगा था इसिलिए सारा कॉमन समय कर दिया,फिर भी अधिकतर घरेलू महिलायें,कॉलेज जाने वाली लड़कियाँ 9बजे के बाद जब घर के पुरूष ऑफिस और बच्चे स्कूल निकल जाते तभी आती,।।
     भैय्या जी ने सारी समय सारिणी बांसुरी को बता दी,,अभी कुछ दिनों के लिये कॉलेज की छुट्टियां होने से बाँसुरी ने भी 9बजे का टाईम स्लॉट चुन लिया।।

    भैय्या जी ने जिम में पहनने योग्य कपडों के बारे में उसे उतनी ही जानकारी दी जितनी ना भी देते तो काम चल जाता ।।

   पहले दिन एक हाथ में पानी की बड़ी सी बोतल थामे बांसुरी ठीक 9 बजे जिम पहुंच गई ।।
    उस समय तक एक भी लड़की नही आई थी,पर हाँ मोहल्ले के जाने किस किस कोने से निकल के अर्नोल्ड श्वाज़नेगर के बाप वहाँ आये हुए थे।।कोई पूरी तल्लीनता से डम्बल कर रहा था,कोई पुश अप्स, कोई बाइसेप्स पे भिड़ा था तो कोई चेस्ट पे काम कर रहा था,,ऐसा लग रहा था अगले मिस्टर इंडिया की तैय्यारी यही लोग कर रहे ,और इन्ही मे से कोई एक मिस्टर इंडिया बनने वाला है।।

“अरे आ गई तुम,बड़ी समय की पाबंद हो,अच्छा है,ये अच्छा की अपना पानी का बोतल भी लाई हो।” भैय्या जी ने आगे बढ़ कर बांसुरी का स्वागत किया

“पानी नई ग्लूकोस का बोतल है,हमे लगा पहली बार मेहनत का काम करेंगे ,कहीं चक्कर वक्कर आ गया तो।”

“ठीक बोल रही हो,कमजोर भी तो हो।”लल्लन ऐसे बोल के हंसने लगा,,भैय्या जी ने घूर के उसे देखा और बांसुरी को एक ट्रेड मिल पे ले गये,तभी दरवाजा खुला और एक आंटी जी ने अन्दर झाँका
  “पुडुषो का भी एही टाईम है क्या??”

  “क्या बोल रही हो आंटी??”प्रिन्स ने पूछा

  “मैं ए जानना चाहती हूं कि लेडीश लोगों का अलग टाईम है या पुडुषों के साथ ही उनको भी जिम कडणा (करना) है।””

“का बोल रही है यार ये आंटी?”प्रिन्स ने लल्लन से कहा -“अबे चुप रहो तुम ,कलकत्ता की हैं आंटी जी समझे।।”लल्लन ने कहा

तब तक भैय्या जी चले आये,-“आईये आईये मैडम ,आज आपका पहला दिन है ,आपको एक फॉर्म भरना पड़ेगा, आपका हाईट और वेट चेक कर के आपका बी एम आई निकाले देते हैं,जिससे पता चले कि आपको कितना वजन कम करना है।”

“अडे बाबा हमको बजन कम नही कडणा ,हम तो इहाँ देखने आया था कि हमाडा हश्बैंड भी घड(घर) से जिम बोलके निकलता है,यहाँ आया है कि धेलू के यहाँ बैठ के रोशोगुल्ला खा रहा है।”

“अरे बाप रे आंटी तो करमचंद निकली यार!!”

Advertisements

राजा भैय्या ने उन्हें जाकर प्यार से जाने क्या समझाया अगले दिन से खुद ही जिम आने की कसम खा कर घोष आंटी वहाँ से चलती बनी।।

अब हो चुके थे सवा नौ और धीरे धीरे कर के जिम की रौनक बढ़ने लगी,एक एक कर शहर की दुबली पतली लम्बी गोरी छरहरी वामायें धीरे धीरे दरवाजा खोल खोल कर अन्दर आने लगी,ये वही लड़कियाँ थी जिनके इन्तजार में लड़के पुश अप्स कर कर के अपना सीना फुलाए जा रहे थे…..इन लडकियों के अन्दर आते ही जिम का माहौल बदलने लगा था,हर लड़का कुछ अधिक ही जोश में वर्क आउट कर रहा था,और मज़े की बात ये थी कि इंस्ट्रक्टर राजा भैय्या के अलावा हर लड़का इंस्ट्रक्टर बना बैठा था,,और ये सब एक दूसरे को नही सिर्फ लडकियों को ही ज्ञान दे रहे थे…….
                   आज बाँसुरी का पहला दिन था,ऐसी पतली छरहरी लडकियों को देख उस बेचारी को समझ ही नही आ रहा था कि ये यहाँ करने क्या आयी हैं,उन में से कुछ का ये हाल था कि अगर ट्रेड मील पे 5मिनट भी दौड़ ले तो उन्हें फिर सीधे स्ट्रेचर पे डाल कर सीधा एम्स रिफर करना पड़ता वो भी एयर लिफ्ट,,कुछ एक जितना तो वर्क आउट नही कर रही थी ,उतना अपने आप को हर एंगल से पलट पलट के आईने में देख रही थी….एक ने तो गज़ब ही कर दिया ,ट्रेड मील में चढ़ने के पहले जाकर अपनी लिपस्टिक डार्क की,फिर क्रॉस ट्रेनर पे चढ़ने के पहले भी ,फिर साईकल के भी,इस तरह से हर वर्क आउट सेशन के पहले उसका एक टच’प हो जाता …….
                     बांसुरी बेचारी को पहला दिन था इसिलिए 5km/hrs की स्पीड पे 20 मिनट चलने का आदेश हुआ था,वो अपनी मशीन पे चलती इधर उधर देखती जा रही थी……. कुछ देर बाद एक बड़ा लॉट आंटियों का अन्दर आया,उन्हें देख बांसुरी को कुछ तसल्ली हुई क्योंकि भले ही वो अलग अलग साइज़ ऐंड शेप की थी,पर थी सब की सब मोटी।।
      अब इतनी सारी महिलायें जहां हो वो जगह गुलजार ना हो ,ऐसा कैसे हो सकता है…..पूरे जिम का माहौल कुछ ही देर मे किट्टी पार्टी के माहौल मे तब्दील हो गया।।

   इनमें से कुछ एक ही लोकल थी,अधिकतर दिल्ली गुडगाँव से थी।।

  “क्यों बेटा जी,आज क्या पहला दिन है आपका??”
  उनमें से एक ने बांसुरी से पूछा।

“हाँ!! पर आपको कैसे पता ?”

“हा हा !! अब बोलो पटियाला सलवार पहन के कौन जिम करने आता है।” ये बोल कर वो फिक से हँस दी।।

  “और ऐसे स्किन कलर की जेगिंग पहन के कौन आता है आंटी।।”

  आंटी वहाँ से उतर के साईकल चलाने चली गई ।।

  बांसुरी चलती रही अभी भी 20मिनट पूरे होने मे 10मिनट बाकी थे,अभी वो चल ही रही थी कि अचानक से वहाँ रखे साउंड बॉक्स पे किसी लड़के ने गाना बजा दिया

   “चदरिया झीनी रे झीनी ,आंखे भीनी ये भीनी ये भीनी, यादें झीनी रे झीनी रे झीनी।।”

बांसुरी को वर्क आउट के साथ गाना अच्छा लग ही रहा था कि किसी लड़की ने ट्रैक बदल दिया-

“आजा पिया तोहे प्यार दूँ,गोरी बहियां तो पे वार दूँ ।”
  बांसुरी को ये भी पसंद आने ही वाला था कि फिर ट्रैक बदला-

“दीवारों से मिल कर रोना अच्छा लगता है,हम भी पागल हो जायेंगे,ऐसा लगता है।।”

ये भी ठीक लगना शुरु होता उसके पहले फिर ट्रैक बदला-
    “लैमबोर्गिनी चलाई जान्दे ओ”

अब ट्रैक बदलता इसके पहले ही भैय्या जी की आवाज़ जिम मे गूँज उठी

“अरे देवदास की छठी औलाद तू यहाँ वर्जिश करने आता है या,मनहूस गाने बजाने….मैडम लोग जो गाना सुनना चाहते हैं वो बजा लेने दो भई,काहे इतना चिरै चिरैय्या लगा रख्खे हो,थोड़ा फास्ट ट्रैक बजाएंगे तो लोगों को भी वर्जिश करने में मज़ा आयेगा ,और तुम झीनी चदरिया बजाये पड़े हो।।

Advertisements

बीच बीच में भैय्या जी आकर बांसुरी को कुछ ज़रूरी बातें बता जाते।।अबकी बार बांसुरी के दोनो ओर की मशीनों पे आंटी लोगों ने कब्जा जमा लिया और चलते चलते अपनी बातों में भी लग गई ।।

“कल तुम क्लब के “सावन सुन्दरी “में क्यों नही आई,बड़ा गज़ब इन्तेजाम था,इस बार क्लब की लेडिस को अकल आई ,थोड़ा अच्छा खाना पीना था।।

  “अरे नाग-पंचमी थी ना कल,,, तो हमारी सासु जी कहा करती हैं,,नाग पंचमी के दिन घर से मत निकला करो,इसिलिए क्लब नही आ पाये,वैसे क्या रखा था खाने में ।”

(सास सही कहती है,नागिनों को निकलना भी नही चाहिये कोई पिटारा मे बन्द कर लिया तो)प्रिन्स और लल्लन उंन लोगों की बातों में अपनी अलग कॉमेन्ट्री कर रहे थे

“लिट्टी चोखा था,स्वाद अच्छा था….पर घी ज़रा कम शुद्ध लगा मुझे ,अब वैसे भी होटल वाले हमारे जैसा शुद्ध घी कहाँ बना पायेंगे।।”

“बस लिट्टी!! और मीठा में कुछ नही दिये??”आंटी जी की आत्मा कलप गई कि हाय बेचारी लेडिस लोग 2 घन्टे के तपस्या कर के इतना लीप पोत के क्लब पहुंची और इतना सूखा सूखा निपटा दिये।।

“था ना,,मीठा में इमरती खिलाए थे,और चाय कॉफ़ी था,जिसको जो पीना हो,लगभग सभी ने दोनो पिया।।”

  “पीना भी चाहिये जी!! महीना का 300रुपया लेते भी तो हैं ये लेडिस क्लब वाले,हम होते तो 2चाय और 2कॉफ़ी पी लेते।।”

(भगवान बचाये!!) फिर प्रिन्स चहका।।
“कहाँ से वजन कम हो,जितनी कंजूसी से पसीना बहाती हैं जिम में ,,उतनी दरियादिली से ठूंसती हैं।।
  अब यहीं देख लो,जब से चढ़ी है मशीन मे खाना पीना में ही अटकी हैं “__लल्लन ने अपना ज्ञान दिखाया।।

“अरे ये तो बताओ बनी कौन इस बार सावन सुन्दरी?”

“सोनी बनी है इस बार की सावन सुन्दरी।”

“हैं!!! ऐसा तो कोई खास चेहरा मोहरा है नही,मैनें तो कल तुम्हारे फोटो देखे थे फेसबुक पे,तुम ज्यादा सुन्दर लग रही थी।।”

“अरे चेहरा देख के नही दिया ना !!वो तो जो जितना ज्यादा हरा पहन के आयेगा उसपे जोड़ घटाव किया,मेरा तो साड़ी ब्लाऊस,चूड़ी बिन्दी,कान का गले का ,नेल पोलिश ,हेयर क्लिप,रुमाल सब हरा  था,बल्कि सैंडल और पर्स भी।।

“तो फिर सोनी कैसे जीत गई जी।”??

“ये दुसरी वाली आंटी ना बस मजे ले रही है,इसे कोई सहानुभूति नही है,की वो हरा रुमाल वाली आंटी इत्ता कर के भी नही जीती,बल्कि हमको लगता है दिल ही दिल में खुस हो रई है कि हाँ बेटा देखा !! ससूरी  खुद को ऐस्वर्या राय समझती है।”
   प्रिन्स ने लल्लन के कान मे फुसफुसाया

“अर्र्रे क्या बताऊँ,वो सोनी ने बाल भी हरे रंग से हाईलाईट करा लिया था,अब देखो मैनें इतना किया ,सब फेल हो गया….आँख के ऊपर हरा रंग का शेडो लगाये थे,उसी को थोड़ा गाल पे भी मार लिये थे,लिपस्टिक तक हरा था हमारा ,,अब सोचो।।

“हे भगवान !!! इसके पति का हार्ट फेल कैसे नही हुआ इसको देख के,,ये तो पूरी दमदमी माई लग रही होगी।””लल्लन बोला।

“तुम दोनो यहाँ का कर रहे हो बे!! जाओ उधर वो योगा मैट बिछाओ ,,हम योग शुरु करेंगे अब।।”
  राजा भैय्या के फटकार लगाते ही दोनो लोग मशीन से कूद कर दूसरी तरफ भाग गये।।

   राजा भैय्या के योग सेशन के बाद सभी महिलायें बड़ी आत्मीयता से अपनी अपनी परेशानियां राजा भैय्या को बताने लगी,जिस सब का सार यही था कि इतनी मेहनत कर के भी वजन का कांटा 10grm भी इधर से उधर नही हिलता जबकि खाने में पूरा परहेज बरता जा रहा है,राजा भैय्या ने रोज की तरह उन्हें दो चार पते की बातें बताईं ,जैसे दिन भर पानी पीना,सुबह खाली पेट में गर्म पानी में शहद मिला के लेना वगैरह वगैरह,,पर उस पे भी अधिकतर महिलाओं का तुर्रा यही था कि,हम तो 10-12ग्लास पानी पी जातें हैं,फिर भी यही हाल ….
       खैर किसी तरह भैय्या जी का सेशन समाप्त हुआ और एक एक कर सारी महिलायें जिम से निकल गई ।।

Advertisements

“तुम तो बहुतै सहनशील हो राजा।”बाँसुरी के ऐसा बोलने पर राजा ने पूछा

“काहे?? ऐसा काहे बोल रहीं।”

“तो और क्या?? सब को इत्ता प्यार से समझा रहे हो ,और सब समझने की जगह उल्टा ‘ हम तो यही करते हैं ‘ की रट लगाये बैठी हैं,अरे अगर यही करती हो,तो दुबला काहे नही जाती,हम तो सच्ची कहें राजा !! अगर तुम जो जो बताये हो वो वो हम रोज करें तो हम पक्का पतले हो जायेंगे।।”

  बांसुरी और राजा के चेहरों पे मुस्कान आ गई ।।
तभी भैय्या जी का फ़ोन रिंग हुआ ,और प्रिन्स फ़ोन लिये भागता आया “भैय्या जी बाबूजी का फ़ोन है।”

“कहाँ हैं लाट साहब??”

“जिम में हैं बाबूजी कहिये क्या काम है।”

“काम तो ऐसा कुच्छो नई है,पर शाम को इहाँ उहाँ घूमने ना चले जाना,आज शाम को तुम्हारी भाभी के फादर आ रहें हैं,तो तुम्हारा भी घर पे रहना ज़रूरी है,समझे।।”

“भाभी के बाऊजी आ रहें,उसमें हमारा रहना नई रहना से का होगा,सामान सब्जी मिठाई उठाई हम अभी पहुंचा देते हैं,जो आप बोलो।”

“अरे जब हम बोल रहे कि तुम्हारा रहना ज़रूरी है तो है,ऊ अपनी रेखा के बारे में कुछ बात चीत करना चाहते हैं,समझे!!! तो समय पे घर आ जाना,और बाकी सब तो हम ले आये हैं तुम आते समय गर्मा गर्म जलेबी लेते आना।”

“ठीक है हम आ जायेंगे बाबूजी,और कुछ?”

“और कुछ तो ऐसा पूछ रहे जैसे बहुत काम के हो,सारा जमाना का फाल्तू काम बस करा लो इनसे, भूलना मत ,हम दुबारा फ़ोन नई करेंगे,ठीक है!!”

“ठीक बात”

तभी लल्लन का फ़ोन बजने लगा, प्रिन्स ने फ़ोन उठाया ,उधर से एक मधुर सी आवाज़ आई- “हेलो रोहित??”

“नही ,यहाँ तो कोई रोहित नई है बहन जी” प्रिंस ने जवाब दिया।।

Advertisements

“अरे ऐसे कैसे,इसी नम्बर पे तो सुबह रोहित से मेरी बात हुई थी,एक मिनट रुको……..उधर से उस लड़की ने फ़ोन में चैट खोल के नम्बर एक बार और चेक किया “हाँ जी मैने सही नम्बर लगाया है,अभी कुछ देर पहले ही इसी नम्बर से रोहित ने एक साई बाबा वाला  मेसेज मुझे भेजा था जिसके बाद हमारा झगड़ा हो गया था,तो बस उतनी ही बात से गुस्सा होकर उसने नम्बर बदल दिया??”

“नही दीदी नम्बर तो किसी ने नही बदला ,वैसे ऐसा क्या मेसेज था कि झगड़ा हो गया आपका?”

“वेट वेट!! तुम मुझे दीदी क्यों बोल रहे हो,, i m not a दीदी type material और दुसरी चीज़ उस बुद्धू राम ने मुझे मेसेज किया कि ये साई बाबा की असली फोटो है,पन्द्रह लोगो को भेजो तो गुड न्यूज़ मिलेगी,,whatever!! इसी लिये झगड़ा हो गया मेरा ,पर यार मैं तुम्हे क्यों ये सब बता रही हूं,तुम फ़ोन रखो।।

अभी वो मोहतरमा फ़ोन काटने ही वाली थी कि, लल्लन गिरता पड़ता भागता हुआ आया और प्रिंस से फ़ोन छीन लिया

“हेलो ,हेलो बेबी !! मैं आ गया,सॉरी वो वॉश रुम में था ,तभी फ़ोन नही उठा पाया,बेबी सॉरी।।”

बांसुरी राजा भैय्या प्रिंस सभी लल्लन को आंखे फाड़ फाड़ के देखने लगे

“अबे तुम्हारा नाम रोहित कब से हो गया बे??”

  लल्लन के फ़ोन रखते ही राजा भैय्या ने सवाल किया।।

“भैय्या जी हमारा स्कूल में नाम रोहित ही था,वो तो घर पे अम्मा लोग फिर आप लोग सब लल्लन ही कहने लगे तो वही चल पड़ा।।”

“बड़ा फैंसी नाम रखे हो रोहित बबुआ ” प्रेम ने कहा

“तुम भी तो बड़ा फिल्मी नाम रखे हो प्रेम बाबु।”

“हां वो हमारी अम्मा मैनें प्यार किया देख के आई और उसी रात हम पैदा हो गये,तो बस हमारा नाम प्रेम पड़ गया।।।”

“वाह बहुत बढ़िया!!! हमारी सहेली निरमा की अम्मा को निरमा के पैकेट पे बनी लड़की इतनी सुहाई की वो अपनी बिटिया का नाम निरमा रख दी।।

बांसुरी के ऐसा बोलते ही सब हंसने लगे–“तुम हमेशा बोलती रहती हो इसिलिए तुम्हारी अम्मा तुम्हारा नाम बांसुरी रख दी।।है ना।”प्रिंस ने बोला

“हां और ये बिल्कुल साक्षात कहीं के राजकुमार दिखते हैं,इसलिए इनका नाम राजकुमार पड़ा ,है ना राजा??”

बांसुरी के ऐसा कहते ही राजा भैय्या का चेहरा गुलाबी हो गया और बेचारे शरमा के रह गये।।।

…….

Advertisements

……………तो यहाँ लल्लन बाबु ही थे जो रेखा से जुदाई के गम में जिम में सुबह जुदाई वाले गानों की बहार सजाये हुए थे…..अभी कोई उनसे उनके फ़ोन के बारे में पूछता ,उसके पहले ही उन्होनें वहाँ से खिसकने में ही अपनी भलाई समझी,वो निकल ही रहे थे कि प्रिंस ने पूछ ही लिया- “अरे लल्लन तुम बताये नई,वो लेडिस कौन थी जिसका फ़ोन आया था तुम्हारे लिये??”

“तुम गधे के गधे ही रहोगे प्रिंस,लेडिस नही एकवचन के लिये लेडी कहा जाता है,तुमको पूछना चाहिये कि वो लेडी कौन थी जिसका फ़ोन आया था।।”बांसुरी के ऐसा बोलते ही प्रिंस बिखर गया

“यार तुम ना भैय्या जी को पढ़ाने आई हो,उन्हें ही पढ़ाओ,हमे ना समझाओ सिखाओ ,समझी।।”

अभी प्रिंस और बांसुरी का फसाद चल ही रहा था की लल्लन सबकी नज़र बचा कर वहाँ से निकल लिया।।।

क्रमश:

Advertisements

aparna…

शादी.कॉम -4

Advertisements

  ,”पर्मिला अरी ओ पर्मिला,,कहाँ मरी पड़ी है,,हे राम!!! एक तो मरे घुटने के दर्द से चला फिरा नही जाता फिर भी तेरी बेटी के लिये कैसे रात दिन एक किये हूँ,,देख तो सही।।”

  अपने पेट पर के टायरों को संभाले घुटनों को सहलाते बुआ जी प्रमिला को आवाज़ देती भीतर चली आईं, उनकी आवाज़ से प्रमिला रसोई से हाथ पोछती भागी भागी आई और उन्हें प्रणाम किया।।उनकी आवाज़ बिना सुने ही सीढियों से नीचे उतरती बाँसुरी ने जैसे ही बुआजी को देखा वापस ऊपर को जाने लगी पर बुआजी की गिद्ध नजरों से बच ना सकी_
     “अरी लाड़ो तू भी आ जा,तेरे लिये ही तो आती हूँ बिटिया,,देख कैसा हीरो जैसा रिश्ता लेकर आई हूँ,,आ आकर देख तो जा।।”

अभी उनकी बात पूरी भी नही हुई थी कि वीणा अपनी चमचमाती रानी कलर की साड़ी में लसर फसर वहाँ पहुंच गई ।।

प्रमिला ने दोनो के हाथ में बादाम का हलुआ पकड़ा दिया,”जिज्जी पहले इ खा के बताओ ,कैसा बना है,हमरी लाड़ो को बड़ा पसंद है,उसी के लिये बनाया है,बहुत दिमाग का काम करती है रात दिन बेचारी,खटती रहती है किताबों के बीच।।

“बस अम्मा यही सब घी में तर हलुआ पूड़ी ठून्गो अपनी लाड़ली को,दिन बा दिन बरगद बनती जा रही है,अरे  इतना तेजी से महंगाई नही मोटाती जैसी तेजी से तुम्हरी पेटपुन्छनी मुटा रही, कुछ तो रहम करो अम्मा।।”

“अरे तो का भूका मार दे अपनी लड़कोर को, तुम्हे भी तो खिला पिला के पाला पोसा है बड़की ।।

“हमें खिला पिला के पाला है इसे खिला पिला के मुट्वा रही हो,फरक है दोनो में अम्मा।।

“प्रणाम करते हैं बुआजी,और दीदी कैसी हो,गोलू को कहाँ छोड़ आई आज।”

“उसकी दादी के पास छोड़ा है,अरे दादी हैं इतना तो करे अपने पोता के लिये।।”

किसी बात पे बुआजी ने अपना प्रिय राग छेड़ दिया और वीणा भी उनके सुर से सुर मिलाने लगी।।

“करेला उसपे नीम चढ़ा”बाँसुरी ने धीरे से गुनगुना कर कहा।।

“का बोली तुम ,हैं!! ए बांसुरी,हमे नीम बोल रही हो।खुद का सकल(शक्ल) देखी हो आईना में, कोनो साईड से लड़की नही लगती हो,हम तो समझा समझा के थक गये,कि कभी पार्लर भी चली जाओ।”

“ठीक ए बोल रही हो बिटिया,ऐसा करो लड़का वाला आने वाला है बांसुरी को देखने,,….. दुई चार दिन में आ जायेगा,तब तक तुम इसका थोड़ा रंग रोगन करा दो।।”
बुआ जी के इस प्रस्ताव का वीणा ने पूरा पूरा समर्थन किया ,पर बाँसुरी अड़ गई

Advertisements

“हम वो अदनान सामी के लिये पार्लर नही जायेंगे,,हमको नही पसंद वो मौत का कुआँ मे जाना ।”

“पगला गई हो का,,कौन बोला तुमको ऊ मौत का कुआँ है??हम तो जातें हैं थ्रेडिंग कराने,और फेसियल कराने ।”

“हाँ तो तुम जाओ ना दीदी,हमको नही पसंद वहाँ जाना ।।जब हमारा मन करेगा तभी जायेंगे।।”

“तो इतना खेती काहे बढ़ा डाली हो आँखी के ऊपर , कम से कम थ्रेडिंग ही करा लो।।”

“हम काहे करायें,वो लड़का तो हमारे लिये कुछ नही करा रहा।।”

“हाय राम!! मैं कहाँ जाके मरूं,अरे लड़के कभी थ्रेडिंग कराते हैं क्या?? कैसा पागल समान बात करती हो बंसी।।””

“जानती हो दीदी लड़के काहे थ्रेडिंग नही कराते जिससे उनका बात सही साबित हो जाये कि ‘ मर्द को दर्द नही होता’ अरे जब तक औरतों वाले काम करोगे ही नही तब तक दर्द पता कैसे चलेगा।।

“अरे सुन ना हमको पता है तू बहुतै ज्ञानी है,अभी चल हमारे साथ कम से कम क्लीन अप करा ले लड़की!!!चल बुआजी की बात का लाज रख ले………..अम्मा तुम आज रात के खाने पे आलू टिक्की बना लो,जिससे हमारी धमल्लो खुस हो जाये,चल अब टिक्की के नाम पे चल पार्लर।।”

जाने क्या सोच बाँसुरी वीणा के साथ चली गई,लौटते में उसे जिम में रुकना था भैय्या जी को सुबह 7:30 पे ज्यादा कुछ पढा नही पाई थी इसीसे शाम 4 का समय फिर से दिया था,,4बजे निरमा वहीं पहुंचने वाली थी।।
   
        पार्लर से लौटते हुए बांसुरी ने जैसे ही जिम में रुकने की इच्छा जाहिर की,वीणा का मन मयूर नाच उठा,अपने मोहल्ले की परिपाटी को निभाते हुए वो भी किसी ज़माने में भैय्या जी की फैन हुआ करती थी,पर नारी सुलभ शील संकोच ने खिड़की से झांक लगा के रोड पे जॉगिन्ग करते भैय्या जी को देखने से ज्यादा की अनुमती नही दी और फिर सरकारी नौकरी करते यू डी सी का आया चमचमाता रिश्ता उसके घर वालों ने लपक लिया,और कभी भैय्या जी को बड़ी अदा से राजकुमार बुलाने वाली वीणा भी संसार के सुर में सुर मिलाती भैय्या जी बोलने लगी।।
   
        पर आज बांसुरी की इच्छा सुन उसके मन में सोया प्यार जाग उठा,,अरे अपने प्रथम प्यार को एक झलक देख लेना पतिदेव से चीटिँग थोड़े है !! वो तो बस ऐसे ही………जैसे लगातार चलते बोरिंग से सीरियल के बीच सलमान खान का तूफानी ठंडा एडवरटाइजमेंट ……….जैसे थाली भर बेस्वाद खिचड़ी के साथ भरवा लाल मिर्च का अचार!!! हाय !!
  
       “ठीक है चलो फिर बंसी!! हम भी तुम्हारे साथ जिम चले चलतें हैं ।”

  “काहे?? तुम क्या करने जाओगी दीदी??”

  “अरे तो तुम का करने जा रही हो,,पतला होने का भूत सवार हो गया क्या??”

Advertisements

भैय्या जी नही चाहते थे कि उनकी ट्यूशन वाली बात जिम से बाहर लीक हो इसिलिए उन्होनें अपनी आदत के अनुसार बांसुरी को ‘मम्मी की कसम’ खिला दी थी,अब उस कसम के बोझ तले दबी बाँसुरी ने असल कारण नही बताया- “हाँ दीदी हम सोच रहे थोड़ा जिम वीम करें,बहुत हट्टी कट्टी हो गये हैं …… नही!!”

“हाँ हो तो गयी हो एकदमी टुनटुन लगने लगी हो।।”

“अब इतना तारीफ भी मत करो दीदी,हम सोनाक्षी सिन्हा जैसे फिगर के हैं ।”

“ओह्हो बड़ी आई सोनाक्षी!! तो अब का करीना बनने का विचार है।।”

“अब यही मान लो दीदी,बचपन से हमे जानती हो,जो ठान ली तो फिर कर के रह्ते हैं,है ना!!, अब तुम जाओ,हम एक घंटा में घर आ जायेंगे।”

बड़े बेमन से जिम में झांकती फाँकती वीणा घर की तरफ मुड़ गई,उसे बाँसुरी पे पूरा पूरा विश्वास था,कि  चाहे प्रलय आ जाये राजा भैय्या उसकी छुटकी बहन जैसी रूपवती पे कभी दृष्टिपात नही करेंगे, इसी विश्वास पे अडिग बाँसुरी को वहाँ अकेली छोड़ वो घर चली गई ।।

   बाँसुरी वहाँ पहुंची तो निरमा और प्रेम एक ट्रेड मिल पे बैठे गप्पे मार रहे थे,भैय्या जी ज़मीन पे योगा मैट बिछाए किताबों के जाल मे उलझे बौराये बैठे थे,,दो चार छुटभैये इधर उधर वर्जिश करने की बहुत बुरी एक्टिंग कर रहे थे ।।
         हड़बड़ाती हुई बांसुरी अन्दर गई और भैय्या जी के पास पहुंच के बैठ गई,और किताबें देखने लगी

“अरे इत्ता सारा किताब काहे ले आये,आपको सिर्फ बारहवीं पास करना है,कोई आई ए एस थोड़े ही बनना है अभी।।”

“हमारे पास जो जो रख्खा था,हम सब उठा लाये,काम की तो सभी है ना।।”

Advertisements

“नही!! आपके काम की कोई नही….आप मान लिजिये कि आप गधे पैदा हुए हैं,स्कूल मे भी गधे ही रहे और कॉलेज में भी गधे ही रहेंगे।।’

“भैय्या जी आपका लिहाज करके चुप हैं,समझा दीजिये इस लड़की को,कहीं हमारा दिमाग सटक गया तो हमारे हाथ से खून ना हो जाये इसका।”
एक गपोड़ी चिल्लाया

   भैय्या जी ने बिल्कुल सरकार वाले अमिताभ की स्टायल मे उसे हाथ दिखा के चुप करने का इशारा किया और बाँसुरी से बोले-“काहे हमरा इतना बेज्जती करती हो बात बात पे!! क्या मज़ा आता है इसमें ।”

“अरे तुम्हारी बेइज्जती नही कर रहे भई!! बस इत्ती सी बात कह रहे कि इतना सब किताब को मारो गोली,बस एक किताब पकड़ो नाम है ‘ युगबोध’!! और उसमें भी सब पढ़ने का ज़रूरत नही है,हम पिछले दस साल का पेपर देख के महत्वपूर्ण सवाल टिक कर देंगे,बस उसी उसी को तुमको रट्वा देंगे,,समझे।।”इतना सब किताब पकड़ के रट्टा मारोगे,हाथ में और दिमाग में दर्द हो जायेगा,समझे।

“देखा भैय्या जी ई लड़की फिर आपका बेज्जती कर रही,अरे भैय्या जी मर्द हैं ,उनको किताब पकड़ने से दर्द नही होता।।”

“का नाम है तुम्हारा ??”

“प्रिन्स!! प्रिन्स नाम है हमारा।”चेले ने सीना ठोक के जवाब दिया,उसे नही पता था कि उसने कैसी चतुर बिलाई से पंगा ले लिया था।।

“तो प्रिन्स तुम मर्द नही हो??”

“अरे काहे नही है,,हम भी हैं ।”

” जल्लाद देखे हो कभी?? कैसा दिखता है।”

“नही असली का नही देखे,,हम पिच्चर वाला जल्लाद देखे हैं ,अरे वही मिथुन चक्रवर्ती वाला जल्लाद।”प्रिन्स के चेहरे पे अभूतपूर्व ज्ञान की छटा फहर रही थी।।

“ब्यूटी पार्लर जानते हो?? वहाँ जो काम करती है ना, असल में वो जल्लाद होतीं हैं,समझे !!! भयानक खून की प्यासी!!
       पीपल पे उल्टी लटकी चुड़ैल भी इन पार्लर वालियों से बहुत डरती हैं ।।”

“आपको  कैसे पता बाँसुरी मैडम जी ।।”भैय्या जी ने अपनी भोली मुस्कान बिखेरते हुए पूछा ।।

“अरे कभी टी वी पे किसी भूतनी को मेक’प किये देखे हैं क्या?? सब बाल बिखराये पगलाये घूमती हैं ।।”

“आप मजाक बहुत करती हैं,हैं ना!!” भैय्या जी हँसते हुए बोले

“नही मजाक नही कर रहे,,आज ही दोपहर को हमारी दीदी और हमारी बात हो रही थी,मर्द और औरत की बराबरी के बारे मे….हम बोले मर्द कभी औरत का बराबरी कर ही नही सकते,जितना दर्द औरत झेल सकती है ,मर्द झेल पायेंगे भला??”

“ए बांसुरी तुम बहुत जादा बोलती हो,कहाँ हम मर्द और कहाँ तुम औरतें ।।।प्रिन्स की बात सुन बाँसुरी ने अपनी बीन बजानी चालू रखी

Advertisements

  ”  तो प्रिन्स बाबू इतने बड़े मर्द हो तो आ जाओ अखाड़े में ब्यूटी पार्लर के ,और फिर हम देखेंगे तुम्हरी मर्दानगी ….एक कुर्सी मे बैठा दो एक लड़की को और दूसरे में तुम्हें या किसी भी मर्द को ,हम लिख के दे रहे हैं बाबु  , जब यमराज जैसी शकल की दो ब्युटिशियन हाथ में धागा पकड़ी भौंहो को नोचने आयेंगी ना तब तुम ससुरे मर्द ज्यादा जोर से चिल्लाओगे ।।
     अरे थ्रेडिंग तो सबसे सिम्पल दर्द है।।।जब दो खतरनाक खूनी खेल खेलने वाली नागिन आयेंगी तुम्हारे सामने और उनमें से एक तुम्हारा खरीफ की फसल से लहलहाता खेत वाला  हाथ पकड़ के उबलता हुआ वैक्स पलट देंगी और उसके बाद अपनी आंखों से आग उगलते हुए एक बोरी का टुकड़ा तुम्हारे हाथ पे बिछा के उसको जमा के जोर से सटाक !!!खींचेंगी ना तब कसम से कह रहे तुम्हें तुम्हरी अम्मा के साथ साथ नानी भी याद नही आ गई ना तो हमारा नाम बदल देना,,एक बार सह के देखो वो दर्द बबुआ और फिर बोलो मर्द को दर्द होता है कि नही….ऐसे बिलबिला के भागोगे ना कि सीधा मंगल यान से उड़ान भरोगे फिर चाहे कोई कितना  भी आवाज़ दे ले रुकने वाले नही  तुम मर्द!!!
          बड़े आये मर्द!!! खुद को कुच्छो नई कराना और हम सलगे ज़माने का दर्द झेले इनके लिये।।

“और सुनो ये फेशियल से चेहरा चमकाने का दावा करने वाली नागिने सबसे पहले चेहरा साफ कर चेहरे पे ब्लीच पोत देती हैं,वो कभी चेहरे पे पुतवा के देखो,रोंम रोम से ऐसे अंगारे फूटेंगे की जीते जी नरक की दावग्नी का स्वाद चख लोगे बबुआ।।
     ये सब करा लो उसके बाद हमसे कहना कि मर्द को दर्द नही होता।।”

“अरे बंसी !! हुआ क्या?? इत्ता काहे भरी बैठी हो।।”निरमा के पूछते ही बाँसुरी का ध्यान गया कि वो पढ़ना पढाना छोड़ कर बस इधर उधर की बतकही में लगी है।।

Advertisements

  “अरे कुछ नही निरमा आज हमें दीदी जबर्दस्ती पकड़ के पार्लर ले गई थी,और बस ये ही कोई काम बिना मर्ज़ी के करना हमे पसंद नही।।”

“अरे कोई बात नही मैडम जी !! पर एक बात है,,आज आप अच्छी भी लग रही हैं ,कुछ कुछ सोनक्षी सिन्हा जैसी  ।।” राजा भैय्या के ऐसा बोलते ही बांसुरी मुस्कुरा पड़ी -” पर राजा हमें सोनाक्षी नही पसंद,हमें तो श्रीदेवी पसंद है,भले ही हमारी मम्मी के जमाने की हेरोइन है पर पसंद वही है।।”

  राजा भैय्या का मुहँ खुला रह गया क्योंकि दिल ही दिल में उनके भी ख्वाबों की शहजादी श्रीदेवी ही थी।।उनके आसमान के बादल श्रीदेवी के दम पे थे और उस आसमान की बिजलियां थी श्रीदेवी की अंगड़ाई ।।

“तो क्या हुआ आप बन सकती हैं श्रीदेवी !! अगर आप चाहें।”

“वो तो ठीक है पर तुम हमें ये आप आप क्यों कहते हो,तुम हमें बाँसुरी ही कहा करो,जैसे हम तुम्हें राजा कहते हैं ।।”

“ठीक है,,अच्छी बात है,तो अगर बुरा ना मानो तो एक बात कहें बांसुरी,तुम जिम शुरु कर दो।।तुम हमें पढ़ा दिया करो,और हम तुम्हें कसरत करवायेंगे, बस छै महीने मे तुम पूरी श्रीदेवी बन जाओगी।।”

“हाय !! सच्ची”

“और का! चाहे तो हम मम्मी की कसम खा लेते हैं ।”

“अरे नई नई कसम ना खाओ,,चलो तो फिर कल सुबह से हम आते हैं ,सुबह व्यायाम और शाम को पढ़ाई,ठीक है??”

“ठीक है।”राजा भैय्या ने मुहर लगा दी।।

बाँसुरी ने अपना हाथ आगे बढ़ाया और राजा भैय्या ने अपनी मैनिक्यूर्ड (मैनिक्यूर की हुई जैसी दिखती)
उंगलियों से उसका हाथ थाम लिया।।

    एक तरफ जहां राजा भैय्या बांसुरी की बुद्धिप्रद कुशाग्र बातों में आकन्ठ डूबते जा रहे थे ,वही बाँसुरी को भी भैय्या जी की भोली हरकतों मे कम से कम बात करने लायक मित्र की झलक मिलने लगी थी।।

  बांसुरी ने जाते जाते पलट के प्रिन्स को बुलाया, प्रिन्स जो अभी तक ब्यूटी पार्लर के स्केरी हाऊस के डर के साये मे कांप रहा था,चुप चाप आकर उसके सामने खड़ा हो गया।।

“ए सुनो!! इतना ना डरो ,तुम्हे इस जनम पार्लर नही जाना पड़ेगा।।और एक बात कहें??”

“जी बांसुरी जी !! कहिये।।”

“ये जो शर्ट के दो बटन खोल के सिंघम बने घूमते हो ना कुछ नही होने वाला बबुआ,एक तो दिखते हो जैसे टी बी का मरीज एकदम सुख्खड़,,और उसपे बटन खोले और अपनी सच्चाई दिखा देते हो….
बन्द करो वर्ना लड़कियाँ तुम्हरे फेफड़े की हड्डियां गिन डालेंगी,और फिर शर्त लगाएंगी ,एक बोलेगी 12थी रे तो दुजी कहेगी नही मैनें तो 14 गिनी।।

हँसते हँसते बांसुरी और निरमा घर निकल गये।।

क्रमशः

Advertisements

aparna..

Advertisements